धैर्य से बचाव

आप इतनी बुजुर्ग है ,इसके बाद भी आपने घर से चोरों को कैसें भगाया ? दादी ने हँसते हुए कहा -धैर्य से । ऐसा हुआ कि मैं निचे हॉल में सोई थी। चोर खिड़की से घर में घुसे । उन्होंने मुझे लात मारकर उठाया ।मैं उठी , लेकिन हडबडाई नहीं। धैर्य रखा ।

चोरो ने पूछा , माल कहा रखा है ? तिजोरी किधर है ? घर के बाकी मेम्बर कहा सोये है?

मैंने बिना देर किये तुरंत कहा, सभी पैसा, जेवर लेकर खेत में बने फार्म हाउस में रहने गए है बेटा ।मैं घर में अकेली हूँ ।

और हाँ , जाते समय साबुन से हाथ धोकर जाना । कोरोना होने के कारण मुझे यहाँ क्वारंटाइन किया गया है ।

तब चोर तो जिस पैर से मुझे लात मारकर उठाया था उस पैर का जूता भी बैगर पहने चले गये।

यह भी पढ़े – जब भी धैर्य साथ छोड़ने लगे तो मुस्कुराकर एक क़दम और चले।


You are so old, even after this, how did you drive thieves out of the house?

Grandmother smilingly said – It happened that I slept in the hall below. The thieves entered the house through the window. They kicked me up. I got up but didn’t make a fuss.

Choro asked, where are the goods kept? Where is the vault? Where are the other members of the house asleep?

I immediately said without delay, I have gone to live in the farmhouse built on the farm with all the money, jewelry. I am alone at home.

And yes, wash your hands with soap while leaving. I am quarantined here as being Corona.

Then the thief went wearing a bagger with the foot that had kicked me.

Leave a Comment

%d bloggers like this: