Thursday, May 23, 2024
HomeNewsबारिश के साथ बढ़ा 'Eye Flu' का खतरा, 5 लक्षण दिखते ही...

बारिश के साथ बढ़ा ‘Eye Flu’ का खतरा, 5 लक्षण दिखते ही भागें डॉक्टर के पास, अचानक बढ़ा Eye Flu का प्रकोप

बारिश के साथ बढ़ा ‘Eye Flu’ का खतरा:- देश के कई शहरों में बारिश की वजह से बाढ़ की स्थिति बनी हुई है। तेज बारिश की वजह से न सिर्फ लोगों का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है बल्कि आंखों से जुड़ी बीमारियां भी तेजी से बढ़ने लगी हैं। जिसमें आई फ्लू के केस लगातार बढ़ रहे हैं। आई फ्लू से पीड़ित व्यक्ति को आंखों में दर्द, लालपन जैसी कई परेशानियां झेलनी पड़ती हैं। ऐसे में खुद को आई फ्लू के संक्रमण से दूर रखने के लिए आइए जानते हैं आखिर क्या होता है आई फ्लू, क्या हैं इसके लक्षण और बचाव के उपाय। दिल्ली में पिछले एक हफ्ते से बारिश और बाढ़ का खतरा बना हुआ है। यमुना नदी में बढ़े जलस्तर ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। बेशक पिछले कुछ दिनों से बारिश थमी है लेकिन मौसम विभाग ने आगे भी बारिश होने की भविष्यवाणी की है।

बारिश और बाढ़ से सिर्फ लोगों के घर तबाह नहीं हुए हैं बल्कि इसका सेहत पर भी गंभीर प्रभाव पड़ रहा है। देश की राजधानी दिल्ली में बारिश के बाद आंखों से जुड़ी बीमारियों का खतरा बढ़ने लगा है। पिछले कुछ दिनों से दिल्ली में आई फ्लू (Eye Flu) का प्रकोप बढ़ा है। खासकर बच्चों में यह तेजी से फैल रहा है। इससे बच्चों की आंखों में इन्फेक्शन हो रहा है जिससे आंखों में लालपन, सूजन और गंभीर दर्द हो रहा है। जनरल फिजिशियन डॉक्टर इला भट्ट के अनुसार, आई फ्लू को मेडिकल भाषा में पिंक आई (Pink Eye) या कंजंक्टिवाइटिस (Conjunctivitis) भी कहा जाता है। चलिए जानते हैं कि इसके लक्षण, बचाव और इलाज क्या है।

बारिश के साथ बढ़ा ‘Eye Flu’ का खतरा

The risk of contracting eye flu increases during rainy seasons due to the presence of water-borne bacteria and viruses that can easily spread through contact with contaminated surfaces or droplets in the air. To minimize the risk of eye flu, it is important to practice good hygiene habits such as washing hands frequently, avoiding touching the eyes with dirty hands, and keeping surfaces clean and disinfected. Additionally, using protective eyewear or umbrellas when outdoors during rainy weather can help prevent direct contact with contaminated water. If symptoms such as redness, itching, or discharge occur, it is recommended to seek medical advice promptly to receive proper treatment and prevent further spread of the infection.

राजधानी में जिस रफ्तार से आई फ्लू का संक्रमण फैल रहा है उसे एपिडेमिक कहा जा सकता है। इसका मतलब यह है कि एक ही समय में एक ही रोग से बड़ी संख्‍या में लोग पीड़ित हो रहे हैं। डॉक्टर ने बताया कि पिछले हफ्ते से उनके क्लिनिक में रोजाना औसतन 50 से 60 मामले आ रहे हैं। बरसात का मॉसम अपने साथ बारिश के साथ-साथ कई बीमारियां भी लेकर आता है. एक तरफ जहां बाढ़ के कारण जनजीवन अस्त-व्यस्त है, तो वहीं दूसरी तरफ लोग कई बीमारियों का सामना भी कर रहे हैं. जिनमें से एक है आई फ्लू. कई क्षेत्रों में फ्लू के मामले बढ़ते जा रहे है. आए दिन अस्पाताल में लोग इस फ्लू की शिकायत लेकर आ रहे हैं. अब यहां सवाल ये है आखिर आई फ्ळू है क्या और ये कैसे फैलती है. तो चलिये जानते हैं इस बीमारी के बारे में साथ ही इससे बचने के उपायों के बारे में.

बारिश के साथ बढ़ा 'Eye Flu' का खतरा

बारिश के साथ बढ़ा ‘Eye Flu’ का खतरा Details

Article Name बारिश के साथ बढ़ा ‘Eye Flu’ का खतरा
Category News
Facebook follow-us-on-facebook-e1684427606882.jpeg
Whatsapp badisoch whatsapp
Telegram unknown.jpg
Official website Click Here

Click Here- Income Tax अदा करना सभी का राष्ट्रीय कर्तव्य ।जानिए कैसे ?

क्या है आई फ्लू?

आई फ्लू जिसे कंजंक्टिवाइटिस भी कहा जाता है. आंखों की एक बीमारी है. आई फ्लू से पीड़ित व्यक्ति को आंखों में जलन, दर्द व लालपन जैसी समस्या झेलनी पड़ती है. ये बीमारी एक खास तरह के एलर्जिक रिएक्शन की वजह से होता है, लेकिन कई मामलों में बैक्टीरिया का संक्रमण भी इसके लिए जिम्मेदार होता है. इस संक्रमण की शुरुआत एक आंख से ही होती है, लेकिन जल्द ही दूसरी आंख भी इसकी चपेट में आ जाती है. श्वसन तंत्र या नाक-कान अथवा गले में किसी तरह के संक्रमण के कारण वायरल कंजंक्टिवाइटिस हो जाता है. संक्रमण की शुरुआत एक आंख से ही होती है, लेकिन जल्द ही दूसरी आंख भी चपेट में आ जाती है.

कैसे फैलती है ये बीमारी?

बरसात में फंगल इन्फेक्शन समेत हवा में प्रदूषण, वातावरण में नमी जैसी सस्याएं बढ़ जाती हैं. इसकी वजह से मरीजों को आंख से जुड़ी परेशानियां होती हैं. इस मौसम में आंखों का सही ध्यान रखने से मरीज की परेशानियां कम हो सकती हैं. ऐसे लोग जो आंखो में कॉन्टेक्ट लेंस पहनते हैं, उन्हें विशेष सावधानियां बरतनी चाहिए.

क्या है लक्षण?

आई फ्लू में आंखें लाल हो जाती हैं. आंखों से पानी आने लगता है. तेज जलन होती है. पलकों पर पीला और चिपचिपा तरल जमा होने लगता है. आंखों में चुभन होने के साथ-साथ सूजन आ जाती है. आंखों से पानी आना और खुजली होना. संक्रमण अधिक बढ़ जाने पर आंखों में हेमरेज, किमोसिज हो जाता है और पलकों में सूजन आ जाती है. अगर इंफेक्शन गहरा हो तो इसकी वजह से आंखों की कॉर्निया को भी नुकसान हो सकता है जिससे आंखों की दृष्टि प्रभावित हो सकती है. मॉनसून सीजन में आई फ्लू का खतरा बच्चों में सबसे ज्यादा रहता है.

Read also- Mahatma Gandhi Quotes Hindi

आई फ्लू होने पर इन बातों का रखें!

  • आंखो को बार-बार न छूएं
  • आंखो को साफ करने के लिए टिश्यू पेपर या साफ कड़े का इस्तमाल करें. इस्तमाल करने के बाद उपयोग किये टिश्यू पेपर या कपड़ें को फेंक दे. ध्यान रहे कि आप दोबारा उसका उपयोग न करें
  • किसी से भी आई टू आई कांटेक्ट न बनाएं
  • टीवी या मोबाइल से दूर रहें
  • आई फ्लू के लक्षण दिखते ही डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें
  • आंखों को साफ पानी से धोते रहें
  • आई फ्लू होने पर आखों में चश्मा पहन सकते हैं

Click Post- कोवैक्सीन या Covishield में से कौन है

आई फ्लू से बचने के उपाय:-

  • आई फ्लू से निजात पाने के लिए एंटिबाइटिकल मरहम और ल्यूब्रिकेटिंग आई ड्रॉप की जरूरत होती है. इसलिए डॉक्टर की सलाह के बिना अपने मन से कोई दवा न लें.
  • अपने हाथों को नियमित रूप से हैंडवॉश से साफ करते रहें.
  • आंखों की सफाई का पूरा ध्यान रखें और उन्हें ठंडे पानी से बार-बार धोएं.
  • किसी भी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से बचें.
  • ऐसी समस्या होने पर बार-बार आंखों पर हाथ न लगाएं. आंखों में आई ड्रॉप डालने से पहले हाथों को अच्छी तरह धो लें.
  • आंखों पर बर्फ की सिंकाई भी जलन और दर्द से राहत दिलाती है.
  • गंदगी और ज्यादा भीड़ वाली जगहों पर जाने से बचें.
  • संक्रमित व्यक्ति से हाथ न मिलाएं और उनकी चीज़ें, जैसे- चश्मा, तौलिया, तकिया आदि न छुएं। इसी तरह अपना तौलिया, रूमाल और चश्मा आदि किसी के साथ शेयर न करें.
  • अगर इन बातों का ध्यान रखा जाए तो एक सप्ताह से पंद्रह दिनों के अंदर यह समस्या दूर हो जाती है.

Conclusion

Eye flu also known as conjunctivitis, is a common condition that can be exacerbated by rainy weather. When it rains, there is an increased risk of bacteria and viruses being present in the environment, which can easily come into contact with your eyes. This can lead to irritation, redness, and discharge, which are common symptoms of eye flu. To reduce the risk of contracting eye flu during rainy weather, it is important to take certain precautions. Avoid touching your eyes with dirty hands and make sure to wash your hands frequently. Additionally, using clean towels and avoiding sharing personal items such as makeup brushes or eye drops can help prevent the spread of infection.

बारिश के साथ बढ़ा ‘Eye Flu’ का खतरा FAQ’S

Can rain cause eye infection?

Engaging in playful activities under the rain is enjoyable, although it can have negative effects on one's health due to the heightened risk of contracting viral and bacterial infections. It is also typical to observe a rise in incidents of eye infections during the monsoon season, often resulting from a combination of eye infections and allergies.

Can rain cause eye problems?

During the rainy season, there are several eye problems that can occur, such as Conjunctivitis, Eye Stye, Dry Eyes, and Corneal Ulcer. In this article, we will discuss these eye problems in detail and provide tips on how to stay safe during the monsoon season.

Can cold weather cause eye infection?

We all know that winter is cold and flu season. Did you also know that winter weather could put you at an increased risk of developing an eye infection? Eye infections are common.

Does weather affect eyes?

Dry eyes are a common occurrence in colder and windier weather. Moreover, being in a room with a blower heater or when the central heating is turned up can also result in dryness of the eyes.

How long do eye colds last?

Typically, your eye cold will resolve on its own within a week, although occasionally it may take up to three weeks. It is important to maintain good hygiene during this period in order to avoid spreading or exacerbating the illness.

Can cold water affect the eye?

Very cold temperatures will constrict the blood vessels in your eyes or freeze your cornea, both painful and compromising to visual clarity. Double vision, blurred vision, and/or loss of vision are likely.

parmender yadav
parmender yadavhttps://badisoch.in
I am simple and honest person
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular