Saturday, May 18, 2024
Homeबड़ी सोचआलोचना को ignore करो यह असफल बनाती है ।

आलोचना को ignore करो यह असफल बनाती है ।

ignore quotes अथवा ignore करना क्या है?- आइए ignore quotes के बारे मे विस्तार से समझते है। यदपि ignore quotes ज्यादा positive अथवा सकारात्मक विचारों का प्रतीक नहीं है। तथापि इसे सही भावनापूर्वक उपयोग मे लिया जाये तो, उचित और सकारात्मक की भूमिका निभाता है। अर्थात जहा नकारात्मक बातों अथवा विचारों को ignore करना हो, वहा ignore quotes भी सकारात्मक और प्रेरणादायक result देते है।

जैसे- आलोचना करना negativity भावना दर्शाती है और असफलता का मार्ग प्रसस्त करती है। इसे (आलोचना को) ignore करना Best ignore quotes माना जाएगा। आइए जानते है, विस्तार से-

आलोचना की जगह ignore quotes क्यों अपनाए? 

हर आदमी के पास आलोचना का  थोक stock होता है। जो वह लगातार supply करता रहता है। चाहे सामने वाले को इसकी जरुरत हो या न हो। अपने निकटम मित्र हो या रिश्तेदार, उनके पास बहुतायत में मिलती है। जरुरी नही की वे गलती करने पर ही आलोचना परोसते हो। आप कम समय में अधिक progress करके देख लो तब भी इसे थोक में आपके लिए भेज देंगे।

इसे एक अपराध माना जाना चाहिए। इसका प्रयोग कभी कभी बंदर के हाथ में उस्तरा देने जैसा होता है। क्योंकि कई बार untrend लोग बच्चो में हीन भावना भर देते है। उन्ही बच्चो को रचनात्मक सुझाव द्वारा प्रेरित किया जा सकता है। मानव स्वभाव को समझने वाले successful लोग आलोचना को ignore करते है। तथा अपने कर्मचारियों से भी आलोचना के बजाय ignore quotes ही रचनात्मक सुझाव द्वारा सर्व श्रेष्ठ प्रदर्शन करवाते है।

ignore quotes 

आलोचना को ignore करो यह असफल बनाती है । Details

Name Of Article आलोचना को ignore करो यह असफल बनाती है ।
आलोचना को ignore करो यह असफल बनाती है । Click Here
Category Badi Soch
Facebook follow-us-on-facebook-e1684427606882.jpeg
Whatsapp badisoch whatsapp
Telegram unknown.jpg
Official Website Click Here

आलोचना के गलत प्रभाव

पीठ पीछे आलोचना करना अक्सर असफल लोगो की आदत होती है। कुछ लोग इसे वैचारिक जहर के रूप में इसका प्रयोग करते है। वैसे भी आलोचना करना और स्वयं की आलोचना का डर दोनों ही गलत है। दोनों ही असफलता के मार्ग पर ले जाते है। इसलिए आलोचना करने से परहेज अथवा इसे ignore करना चाहिए। और स्वयं की आलोचना से तो बिलकुल भी नहीं डरना चाहिए। कभी कभी महत्वपूर्ण कार्य को सम्पन्न करने में आलोचना का सामना करना पड़ता है।

जिस समय या जिस उम्र में हमारे मन में यह ख्याल आ गया की अमुक या यह कार्य (business ) तो मै सफलता पूर्वक कर सकता हु, लेकिन लोग क्या कहेंगे? समझो तभी से आपने असफलता को बुलावा भेज दिया है। इसलिए अनावश्यक निंदा से नहीं घबराना चाहिए। और उचित मार्ग  पर चलते रहना चाहिए। क्योंकि अक्सर उन्नति के मार्ग पर आलोचनाओ का सामना करना पड़ता है या इन्हें झेलना पड़ता है।

ignore quotes 

आलोचना का डर ignore करो, सफल बनो।

आलोचना का डर हमें हीन भावना से ग्रषित कर देता है। इसी प्रकार अपने निकटतम लोगो अथवा पड़ोसियों की बराबरी हेतु फिजूल खर्च की और ले जाती है। लोग क्या कहेंगे यह सोचकर अच्छे अवसरों को गवां देते है। इसी प्रकार यह डर हमें संकोची बना देता है। तथा हमारे अंदर महत्वाकांक्षा का अभाव हो जाता है। अतः

हमेशा पीठ पीछे दूसरो की आलोचना से परहेज करना चाहिए।  यह असफलता की बीमारी है। साथ ही उचित और सफल मार्ग पर चलते हुए आलोचना से कभी नहीं डरना चाहिए। और आलोचनाओ को ignore करना चाहिए। अक्सर सफल लोगो की ऐसी ही मानसिकता होती है। सफल लोग अपने goal पर ध्यान केंद्रित करते है।साथ ही  आलोचना को ignore करते है।

यह भी पढ़े – जानिए,आप महत्वपूर्ण बन रहे है,अथवा महत्वहीन ।

ignore quotes अथवा नजरअंदाज के माइने 

  • जीवन का आधा वक्त अन्जान लोगों को मनाने या समझाने में चला जाता है और आधा अपनों को नजर अंदाज करने में चला जाता हैं।
  • कभी उसको नजरअंदाज ना करों, जो आपकी बहुत प्रवाह करता हो… वरना किसी दिन आपको एहसास होगा कि, पत्थर जमा करते-करते आपने हीरा गँवा दिया।
  • अगर कोई नजर अंदाज करें, उसके बाद उसे नजर अंदाज करने का मजा ही अलग होता हैं।
  • मुहब्बत में अगर स्वार्थ हो तो कुछ समय बाद एक दुसरे को दोनों नजर-अंदाज करने लगते हैं।
  • कमजोर लोग बदला लेते हैं। मजबूत लोग माफ़ कर देते हैं। और बुद्धिमान लोग नजर अंदाज करते हैं।
  • मुहब्बत दिल से न हो तो नजर अंदाज करने के लिए एक कमी काफी हैं।
  • आप चाहते हो कि आप को कोई नजर अंदाज न करें तो, मेहनत करो और नाम कमाओं और निशिचत मजबूत सिद्धांतों पर चलो।
  • अहंकार में आकर किसी को कभी नजरअंदाज मत करना, क्या पता कब वक्त उसके सामने तुम्हें घुटने टेकने पर मजबूर कर दे।
  • किसी को अपने जीवन में इतनी अहमियत मत दो कि, वो जब नजरअंदाज करें तो तुम्हें दुःख हो।
  • रिश्ते कभी भी कुदरती मौत नहीं मरते, इनका हमेशा इंसान ही कत्ल करता हैं। कभी नफ़रत से, कभी नजरअंदाजी से तो कभी गलतफहमी से।
  • ख़ुद को इतना काबिल बना लो कि, कोई नजरअंदाज करने से पहले हजार बार सोचे।
  • जिनका दिल बड़ा होता है, वो किसी को नजरअंदाज नहीं किया करते हैं। वो दिल में कहीं न कहीं थोड़ी सी जगह बना ही लेते हैं।

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए, हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे। जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है। हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

parmender yadav
parmender yadavhttps://badisoch.in
I am simple and honest person
RELATED ARTICLES

51 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular