friendship क्यो जरूरी ? जानिए विस्तार पूर्वक |

friendship दौस्ती मे दौस्त, दौस्त का भगवान होता है |अहसास तब होता है,जब दौस्त friendship दौस्ती से जुदा होता है |     friendship is a rose in the garden of happiness. उक्त पंक्तिया अक्सर बचपन school या college life मे सुना जाता है |लेकिन इसका वास्तविक मतलब ज़िम्मेदारी संभालने पर समझ मे आता है |और इसकी जरूरत का अहसास वृद्धावस्था मे होता है |क्योंकि

धीरे -धीरे उम्र कट जाती है |और जीवन भी यादों की पुस्तक बन जाता है | ऐसे समय मे जब कभी किसी परेशानी मे मन विचलित होता है, तब ऐसे समय मे दौस्ती friendship ही मन को हल्का करती है |और ज़िंदगी आसान लगने लगती है |         किसी ने सही ही कहा है –

सफलता (successful)

”किनारो पे सागर के, खजाने नहीं आते |फिर जीवन मे दौस्त पुराने नहीं आते |                                                                  जी लो इन पलो को हँस के दौस्तों के साथ, फिर लोट के दौस्ती friendship के जमाने नहीं आते ||”

क्योंकि वक्त बदल रहा है | उम्र के साथ -साथ समय भी करवट लेता है | रिस्ते भी उपयोगिता =वैल्यू को follow करते है |  और

बच्चे वसीयत पूछते है,रिस्ते हैसियत पूछते है |वो दौस्त friends ही है, जो खैरियत पूछते है |इसलिए कहते है …/

”friendship is the only cement that will ever hold the world together.”

अतः दौस्तों से रिश्ता रखना चाहिए |इससे आपकी तबीयत मस्त और आत्मविश्वास मजबूत रहेगा | friends ही वो हकीम होते है, जो अल्फ़ाज़ से ही ईलाज कर दिया करते है ||

friendship दौस्ती पर बचपन ,जवानी और बुढ़ापा बंदिशे नहीं डाल पाता |वो दौस्त ही होते है,जो उम्र की चादर को खीच कर उतार देते है |friendship मे इंसान चाहत से जीता है |खुशीपूर्वक अन्यथा सभी को एक दिन अकेले ही जाना होता है इस नश्वर संसार से |

Success story सफलता motivational story in hindi

दौस्त वह होता है जो मुश्किलों मे साथ देता है | गम को बाट लेता है | यद्यपि खून का रिश्ता न सही,फिर भी ज़िंदगी भर साथ देता है वह दौस्त होता है |’इसलिए किसी ने ठीक ही कहा है –

प्रेम से रहो friendship मे,जरा सी बात पर रूठा नहीं करते |                                                                                        पत्ते वही सुंदर दिखते है, जो शाखा से टूटा नहीं करते है ||

अतः friendship अथवा दौस्ती मे सुख बढ़ जाता है | और दुख बट जाता है | इसलिए इसे बनाए रखना चाहिए |

success definition सफलता की परिभाषा क्या है ?

दौस्ती करो करने के लगे ना दाम | लेकिन करके निभा लेना बड़ा मुश्किल है काम || यदपि  better alone than in a bad company.फिर भी अच्छे मित्रो या दौस्तों की दौस्ती या friendship का हमारे जीवन मे बड़ा महत्व है | क्योंकि ”मिलना बिछड़ना सब किस्मत का खेल है,कभी नफरत तो कभी दिलो का मेल है |                                                                                                                     बिक जाता है हर रिश्ता इस दुनिया में,बस एक दोस्ती ही है,जो not for sale है ||” विदित रहे, अच्छे दौस्त व्यक्ति को फर्श से अर्श तक का सफर तय करा देते है |

success rules सफलता आन्तरिक नियमो से मिलती है |

friend अच्छा मित्र कौन ? जानिए विस्तार से |

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |


Friendship is the God of courage, Realization comes when friendship is associated with friend. friendship is a rose in the garden of happiness. The above lines are often heard in childhood school or college life. But its real meaning is understood when assuming responsibility. And its need is realized in old age.

Gradually age is cut off, and life also becomes a book of memories. In such a time, whenever the mind is distracted in any problem, in this time, friendship only lightens the mind. And life starts getting easier. Someone has rightly said –

“On the edges of the ocean, treasures do not come. Then old people do not come to life.” Resist these dreams with laughing bats, then the friends of Lot do not come during the era of friendship.

Because times are changing. Along with age, time also turns. relation also follows utility = value. And children ask for will, they ask for status, they are friends only, who ask well. So they say … /

” friendship is the only cement that will ever hold the world together. ”

Therefore, you should have a relationship with friends. This will keep your health strong and confident. Friends are those who treat themselves with alphas.

Friendship, childhood, youth and old age are not able to put restrictions on friendship From the mortal world.

‘Dost’ is the one who helps with difficulties. Shatters the gum. Although the relationship of blood is not right, yet it gives support throughout life. So someone has rightly said –

Be in love in friendship, do not get angry at all. The leaves look beautiful, which do not break from the branch.

So happiness increases in friendship And the sorrow dies. So it should be maintained.

Do not be afraid to invest. But it is very difficult to handle. Even if better alone than in a bad company. Still, the friendship or friendship of good friends has great importance in our life. A well runner has to travel from floor to harem.

सफलता (successful)

12 thoughts on “friendship क्यो जरूरी ? जानिए विस्तार पूर्वक |”

Leave a Comment

%d bloggers like this: