success (सफलता) का महत्वपूर्ण बिंदु।

सफ़लता

”Everybody loves success but they hate successful people”. हर आदमी सफलता से प्रेम करता है | लेकिन  सफल आदमी से घृणा करता है | और ऐसी सोच रखना सफलता प्राप्ति में रुकावट है | अर्थात सफलता से प्रेम करना तो ठीक है | लेकिन सफल व्यक्ति से घृणा करना गलत है |

‘सफल व्यक्ति का सम्मान करना चाहिए |घृणा नही करना चाहिए | क्योकि जिसे हम सिद्दत से चाहते है, वह मिलने की पूरी सम्भावना होती है | चाहत positive हो या negative हो | इसलिए हमें सफलता की भाति ही सफल व्यक्ति का भी सम्मान करना चाहिए | उससे घृणा नही करना चाहिए |’

यह भी पढ़े – सफलता (successful)

सिधान्तो से सफ़लता

सफलता प्राप्ति के लिए निश्चित सिद्धांतो को अपनाना चाहिए | जो सर्वमान्य और श्रेष्ठ होते है | जो पर्याप्त होते है | फिर भी यदि हम इन दो सिध्स्न्तो को अपना ले | या सिर्फ दो habit में सुधार का लेंगे तब भी हम सफलता कीऊचाइयों को छूएंगे | इस ब्लॉग में उन दो महत्वपूर्ण सिधान्तो का वर्णन इस प्रकार है –1 आत्मसुधार से सफलता | 2 संगत सुधार से सफलता |

आत्मसुधार से सफ़लता

जिस तरह मजबूत building या बड़ी building की नीवं का मजबूत होना जरुरी होता है | कुछ उसी तरह सफलता के लिए भी व्यक्ति के सिधान्तो का मजबूत होना जरुरी है | अपना वादा हो या इरादा हमेशा मजबूत होना चाहिए | किसी भी मामले या क्षेत्र में सफलता के लिए यह बहुत जरुरी है |

यदि आपने अपना लक्ष्य बना लिया है | तो फिर उसे achieve करने के लिए आपका इरादा भी मजबूत होना चाहिए | किसी से कोई वादा किया हो तो ,उसे निभाना चाहिए | आपकी यह पहचान होनी चाहिए,कि ‘आप अपने वादे के पक्के है |’ या आपके वादा का base मजबूत है |

”अपना वादा पूरी सिद्दत से निभाओ | वह (promise ) चाहे आपने दूसरो से किया हो ,या अपने आप से | अर्थात वादा और इरादा baseful होना चाहिए | वादा और इरादा में पूर्णतया सच्चाई और ईमानदारी का समावेस होना चाहिए | या सच्चाई भी ईमानदारी पूर्वक होनी चाहिए |”

संगत सुधार से सफ़लता |

आप जिन लोगो के साथ रहते हो | आप उन्ही की तरह बन जाते हो | क्योंकि हम जिनके साथ रहते है | वे लोग हमारी life को सबसे ज्य्यादा प्रभावित करते है | यदि अपने आसपास negative ,toxic और demotivated लोगो को रखोगे तो आप भी उनके जैसे बन जाओगे | इसलिए positive लोगो की संगत अपनाये |

माना की हर किसी को साथ (company ) की जरूरत होती है | लेकिन इसका मतलब यह नही ,कि आप demotivated या unproductive लोगो के साथ रहोगे | इसलिए positive और productive लोगो का साथ अपनाओ |जो तुम्हे motivated  कर सके और best सलाह दे |साथ ही अपने occupation या किसी भी क्षेत्र में best quality रखते हो | healthy और meaningful relationship रखे | जो तुम्हे inspired करे | try करे |

जिनकी संगत से आप प्रेरणा प्राप्त करो |और जीवन में सफल बनो | उन्हें अपनाना चाहिए | क्योंकि संगत का प्रभाव हर उम्र और हर किसी पर पड़ता है | चाहे कोई स्वीकारे या न स्वीकार करे |

आलोचनाओं को इग्नोर कैसे करे सौभाग्यशाली कैसे बने
खाना खाने व पानी पीना
क्यूँ ज़रूरी है अच्छा स्वास्थ्य
हेल्थ टिप्स हिंदी में
स्वावलंबी बनने के लाभ
कैसे है अनुशासन ही सफलता की कुंजी
भरोसेमंद होने के फ़ायदे
योग है जीवन जीने की कला कैसे
भगवान शिव के राज
कैसे हुआ भगवान शिव का अवतरण दान का फल और महत्व
ऐसी सोच बदल देगी जीवन
कैसे लाए बिज़्नेस में एकाग्रता
लाइफ़ की क्वालिटी क्या है
बड़ी सोच से कैसे बदले जीवन
सफलता की राह कैसे चले अमीरों के रास्ते कैसे होते है
कैसे सोचे leader की तरह
किस तरह बड़ी सोच पहुँचाती है शिखर पर
क्या आप डर से डरते हो या डर को भगाते हों ? गौमाता के बारे में रोचक तथ्य
सक्सेस होने के रूल
हेल्थ ही असली धन है
हीरे की परख सदा ज़ौहरी ही जाने
चैम्पीयन कैसे बने

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

                                     important point of success.

Success

“Everybody loves success but they hate successful people”.Every man loves success.  But the successful man hates. And having such a thought is a hindrance to achieving success. That is, it is okay to love success. But it is wrong to hate a successful person. Because A successful person should be respected. One should not hate. We want solidness. So There is every possibility of meeting it. Whether it is positive or negative. Therefore, we should also respect a successful person like success. We should not hate him.

Click here – सफलता (successful)

self-improvement for success.

To achieve success one must adopt certain principles. Those who are acceptable and superior. Those are enough. However, if we take these two principles or only improve two habits, we will still touch the heights of success. These two important principles are described in the blog as follows – Success by self-improvement.

Success by self-improvement

So Just like a strong building or a big building foundation needs to be strong. In the same way, for success, it is also important for a person to be strong. His promise or intention should always be strong. It is very important for success in any matter or field. If you have made your goal. Your intention must also be strong to achieve it. If you have made a promise to someone, you should fulfill it. You must recognize that you are firm in your promise. Or the base of your promise is strong. Follow your promise with the utmost integrity. That (promise) even if you have made it to others, Or by itself. That is, promise and intention must be base ful. Promise and intention must consist entirely of truth and honesty. Or the truth must also be honest.

Success by the company.

People you live with. You become like them. Because those we live with. They affect our lives the most. If you keep negative, toxic, and demotivated people around you, then you also like them. You will become. Therefore, follow the company of positive people. Everyone in the mind needs a company. But this does not mean that you will live with demotivated or unproductive people. To adopt positive and productive people. Who can motivate you and give you the best advice? Also, keep the best quality in your occupation or any field. Healthy And have a meaningful relationship. What inspires you. Try.

So Get inspiration from those with whom you belong. And be successful in life. They should be adopted. Because Sangat has an influence on every age and everyone. Whether one accepts or not.

16 thoughts on “success (सफलता) का महत्वपूर्ण बिंदु।”

Leave a Comment

%d bloggers like this: