इस पथ पर चलोगे तो अवसर ही अवसर है|जानिए कौनसा पथ ?

“सत्य के पथ पर चलोगे तो जीवन में progress के लिए अवसर ही अवसर है” इस रास्ते पर भीड़ नही होती है | अर्थात आज के प्रतिस्पर्धा के युग में भी यह ,”वह रास्ता है ,जिस पर भीड़ नही है | तथा competition भी ना के बराबर है| या बहुत कम है|” लेकिन यह पथ जरुर दुर्गम है | सत्य इस संसार में बड़ी शक्ति है. सत्य के बारे में व्यवहारिक बात यह है कि सत्य परेशान हो सकता है किन्तु पराजित नहीं |

भारत में कई सत्यवादी विभूतियाँ हुईं जिनकी दुहाई आज भी दी जाती हैं  इस पथ पर चलने के लिए,स्वयं को स्वयं से ही जीतना पड़ता है | हर परिस्थति में ईमानदार रहना पड़ता है| निश्चितं सिधान्तो पर चलना पड़ता है| या स्वयं को अपने विचारो का मालिक बनना पड़ता है| तथा नेक इरादों के साथ जीवन पथ पर चलना होता है |

self confidence क्या है?

सत्य के पथ ही  सफलता की राह है जानिए कैसे ?

देखने या सुनने में यह जरुर सामान्य easy रास्ता लगता है| लेकिन यह दुर्गम रास्ता होता है| लेकिन इतना कठिन भी नही की असंभव ही लगे | हाँ इस रास्ते पर चलने के लिए कठोर मेंहनती, ईमानदार एवं समय का पाबन्द (punctual ) होना जरुरी होता है |या अतिआवश्यक है|

जब आप इस रास्ते पर चलते हो तो नेक नीयति और नेक नीति  bonous point का काम करेंगे|  तथा जीवन में बहुत progress करोगे तथा सुखद मंजिल प्राप्त करोगे|क्योकि इस रास्ते पर भीड़ नहीं होती है|और प्रतिस्पर्धा नही होती है|या फिर कम होती है|

हाँ (इस बात की) काफी संभावना कि “आप जीवन में किसी भी क्षेत्र में progress करते है|या आगे बढ़ते है | तो कदम -कदम पर कठिनाईयाँ आयेगी| हो सकता है, शुरु में इस रास्ते पर आपका साथ निभाने वाला भी न मिले | लेकिन आपका नेक इरादा और द्रढ़ निश्चय है ,तो आगे का सफर आसान एवम् लाभदायक है | हाँ इतना जरुर है, आपकी दूरगामी सोच ही आपको लक्ष्य तक पहुचाऐगी|”  अन्यथा …….

सत्य के पथ

 

वैचारिक जहर से बचो और सत्य के पथ पर चलो कैसे ?

नकारात्मक या धूर्त लोग आपको पथ से दिग्भ्रमित करेंगे| लालच देकर आपको रास्ता बदलने की सलाह देगे| “वैचारिक जहर “का प्रयोग या सहारा लेकर आपको हतोत्साहित करेंगे| या कदम -कदम पर  कठिनाईयाँ पैदा करेगे| गलत उदाहरण देकर माइंड वास या brainwash करेंगे|जैसे…….

‘इस प्रकार कहेंगे “कोई भी बेईमानी के बगैर अमीर नहीं बना, “ये 100% गलत धारणा बनाते है| जबकि हकीकत यह है कि 99% अमीर आदमी या यू कहे शत प्रतिशत अमीर वही बनते है , जो पूर्णतया ईमानदार (ded honest) हो| लेकिन दिग्भ्रमित करने वाले कुछ भी कह सकते है| “ये फोकटिया सलाहकार ज्यादातर नकारात्मक एवम् असफल होते है| तथा इसी मानसिकता (  वैचारिक जहर) के कारण असफल होते है|”

 

सत्य के पथ

ये सोच आपको पहुँचाएगी सफलता के शिखर पर

लेकिन यह भी ‘सनातन सत्य’ है कि आप अपने सिधान्तो से न गिरोगे तो आपको कोई नही गिरा सकता | बशर्ते आप, आपने आप से भी ईमानदार बने रहे (पूर्ण ईमानदार रहे|) आगे जीवन पथ पर सुखद एवं लाभ ही लाभ है | आपको कोई नुकसान या पथभ्रष्ट नहीं  कर  सकता| आपको मन माफिक खुशी प्राप्त होगी| प्रकृति या ईश्वर आपका साथ देगा| अतः “सत्य के पथ की राह पर ” punctual” बनकर भी चलना चाहिए|

यदि आप punctual हो या वादा निभाने वाला हो तो लोग आप पर भरोषा कर सकते है|और भरोषेमंद होंना किसी भी business को चलाने में  महंती भूमिका निभाता है|जिससे business  को उचाईयाँ छूने में काफ़ी सहयोग मिलता है| याद रखे मौका  और धोखा साथ -साथ चलते है|इसलिए  किसी को धोखा देकर, मोका प्राप्त न करे| ईमानदार रहे|समय का पाबंद रहे|सत्य के पथ पर चलना सभी के लिए उत्तम रहता है|यह जीवन में अच्छे अवसर प्राप्ति का सर्वोत्तम रास्ता (पथ )है|

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

 

20 thoughts on “इस पथ पर चलोगे तो अवसर ही अवसर है|जानिए कौनसा पथ ?”

Leave a Comment

%d bloggers like this: