जिम्मेवारी निभाओगे तो सफलता भी पाओगे |

जिम्मेवारी निभाने का प्रभाव

ज्यादातर लोग इस वजह से भी जीवन में असफल रहते है |क्योंकि वे लोग ना अपनी जिम्मेवारी निभाते है |तथा ना ही अपनी त्रुटियों के लिए स्वयं को दोषी मानते है |चूकि जब तक इंसान वास्तविक कारण का पता कर उसका समाधान खोजने का प्रयास नहीं करेगा ,तब  तक वह उस विषय में सफलता अर्जित  नहीं कर पायेगा |अर्थात

यदि व्यक्ति कोई ग़लती करता है |और उसे स्वीकार नहीं करता है |तो वह उस ग़लती को सुधारने के सारे विकल्प स्वयं ही समाप्त कर देता है |अतः व्यक्ति  द्वारा  जाने अनजाने में हुई ग़लती को स्वीकार करना चाहिए |और फिर उस ग़लती को दुरुस्त करना चाहिए |तभी वह व्यक्ति उस विषय में ग़लती सुधार कर आगे बढ़ पायेगा |अथवा सफल होगा |

यह भी पढ़े   कैसे बने चैम्पियन दौलत के खेल में

जिम्मेवारी

जिम्मेवारी निभाना क्यों जरुरी

इसी प्रकार जब महत्वपूर्ण विषय हो ,और समय सीमा निश्चित हो |ऐसे समय में कोई व्यक्ति यह मान ले ,कि उक्त कार्य अन्य कोई कर लेगा तब संभावना असफलता की ही बनती है |इसलिए चाहे कैसा भी कार्य हो ,हमें अपनी जिम्मेवारी समझते हुए निश्चित समय सीमा में अन्य किसी के भरोसे न टालकर स्वयं के द्वारा ही  कार्य रूप देना चाहिए |

आप महतवपूर्ण बनते है |

ऐसा करने पर न केवल कार्य ही समय पर पूरा होगा ,बल्कि दुसरे लोग हम पर भरोसा भी करेंगे’ |और भविष्य में हमें एक जिम्मेवार नागरिक मानकर हमारा उचित सम्मान भी करेंगे | जैसे

 

जिम्मेवारी

जिम्मेवारी से सफलता मिलती है |

एक कक्षा के सभी students को एक ही teacher पढ़ाता है |और उनमें से कुछ सफल कुछ असफल होते है |अक्सर जो students अपने teacher को दोष देते है |वे ज्यादातर असफल या fail होने वाले students होते है |जब कि उसी class में जो students सफल होते है या top class होते है ,वे  सफलता के लिए teacher को ज्यादा महत्वपूर्ण बताते है |अर्थात जो अपनी ग़लती के लिए दूसरो (teacher )को उत्तरदायी ठहराया वे असफल ,वही जिन्होंने जिम्मेदारी के साथ पढ़ाई की तथा अच्छाई का श्रेय भी teacher को दिया |वे सफल students की श्रेणी में |

यह भी पढ़े   वैचारिक जहर से बचो विकास करो|

इसी प्रकार business या जीवन पथ पर भी जो लोग अपनी ग़लतियों को स्वीकार करते  है |और फिर उन्हें सुधार कर आगे बढ़ते है |वे लोग आगे चलकर ऊँचाइयों को छूते है |और सफलता को प्राप्त करते है |

स्वीकारे बगर सुधार संभव नहीं |

वही पर यदि जाने-अनजाने में की गई गलती को यदि स्वीकार नहीं किया तो , समझो वह आगे उसमे सुधार भी नहीं कर पायेगा |क्योंकि उसने वास्तविक समस्या पर ध्यान ही नहीं दिया फिर वास्तविक समस्या से निजात कैसे पायेगा |यानि ,समस्या का समाधान कैसे खोजेगा |और उसे परिणामस्वरूप असफलता ही हाथ लगेगी |

अंततः हमें अपनी ग़लतियों के लिए दूसरों को नहीं अपितु  स्वयं को ही उत्तरदायी मानना चाहिए ,फिर जिम्मेदारी पूर्वक उन्हें दुरुस्त कर जीवन पथ पर आगे बढ़ना चाहिए |तब सफलता स्वयं हमारे साथ होगी | और हम सफल और जिम्मेदार नागरिक होंगे |

यह ही पढ़े कुछ मूख्य बिंदु जिनसे सफलता की हर राह गुजरती है

यह भी पढ़े    सफलता की राह


If you take responsibility, you will also get success.

The effect of responsibility

Most people fail in life also because of this, because they do not carry out their responsibility nor blame themselves for their errors. Unless the person will find the real reason and try to find a solution. , Till then he will not be able to achieve success in that subject. That is, if a person makes a mistake and does not accept it, then he ends up all the options to correct the mistake himself. So, one should accept the mistake made unknowingly by the person. And then correct that mistake. Should be done then only that person will be able to make a mistake in that subject and move forward.

यह भी पढ़े   कैसे बने चैम्पियन दौलत के खेल में

Why it is important to take responsibility

Similarly, when there is an important subject, and the time limit is fixed. In such a time, one should assume that the same work will be done by someone else, then the possibility becomes a failure. So whatever the task is, we are sure to consider it as our responsibility. In the time frame, work should be done by yourself, avoiding any other trust.

You become important.

“By doing this, not only will the work be completed on time, but others will also trust us” and will also respect us as a responsible citizen in the future. like

Responsibility leads to success.

The same teacher teaches all the students in a class. And some of them succeed, some fail. Often students who blame their teacher are mostly students who fail or fail. While students in the same class Those who succeed or are top class, they tell the teacher more important for success, that is, those who hold others responsible for their mistake, those who fail, those who studied responsibly and also credit for goodness. given to each. He was in the category of successful students.

यह भी पढ़े   वैचारिक जहर से बचो विकास करो|

Similarly, people who accept their mistakes on the business or career path, and then improve them and move forward. Those people go further and touch the heights. And they achieve success.

Improvement is not possible without acceptance

If he does not accept the mistake made inadvertently, then he will not be able to improve it further. Because he did not pay attention to the real problem, then how will he get rid of the real problem. That is, how to solve the problem. Will find it and it will result in failure.

जिम्मेवारी

यह ही पढ़े कुछ मूख्य बिंदु जिनसे सफलता की हर राह गुजरती है

Ultimately, we should hold ourselves responsible not only to others for our mistakes, but to correct them responsibly and move forward on the life path. Then success will be with us. And we will be successful and responsible citizens.

जिम्मेवारी

यह भी पढ़े    सफलता की राह

10 thoughts on “जिम्मेवारी निभाओगे तो सफलता भी पाओगे |”

  1. जाने अनजाने में होनी वाली गलती को जो स्वीकार करलेगा वह भी एक अच्छा ही होता है भाई साहब।

    Reply

Leave a Comment

%d bloggers like this: