Karwa Chauth 2023 Date, Timing, Vrat Katha, Pujan vidhi,

Karwa Chauth – The end of the menstrual cycle and the start of the new one are commemorate by Karwa Chauth, which is celebrated by women all over the globe. The 2022 date, time, pujan vidhi, and vrat katha for Karwa Chauth are all covered in this article. Every year, on the Chaturthi of Krishna Paksha in Kartik month, the occasion of Karva Chauth is commemorate. Weddings are observe on this day with a fast to commemorate the long life of their spouses. Single females in many regions observe Karva Chauth to try for a suitable spouse.

Even in North India, the occasion of Karva Chauth is commemorate with grandeur. This fast is started before daybreak and maintained until the moon rises. Only after the moon has been sighted do women begin their fast. Let us know when the Karva Chauth holiday will be celebrated this year and what is the proper worship procedure.

Karwa Chauth

On the Chaturthi date of Krishna Paksha of Kartik month, the occasion of Karwa Chath is held every year. Karwa Chauth and Sankashti Chaturthi are both celebrate on this day. In the scriptures, Karva Chauth fasting is particularly significant. Every year, during Krishna Paksha of Kartik month, this fast is observe. This fast is observe by Wed women for the sake of their husband’s longevity.

However, for the security, long life, and wealth of their honey, women sacrifice food and drink from morning till the moon rises at night. When, it is believed that if women ask for any desire on this day, it receive satisfier. As well, on this day the fast is broken by worshiping the moon in the evening. This year the fast of Karva Chauth will be notice on October 13.

karwa chauth

Karwa Chauth 2022 Details

Name Of The Festival Karwa Chauth
Date 13-14 October
Article for Karwa Chauth 2022 Date, Timing, Pujan vidhi, Vrat Katha
Category Trending
Official Check Here

Karwa Chauth Date

Chaturthi Tithi will begin at 01:58 PM on October 13th and conclude the following day at 03:07 AM, according to Vedic Panchang. As a result, the fast of Karva Chauth will only last until October 13th, when the Udayatithi serves as the foundation.

करवा चौथ का शुभ मुहूर्त 

अमृत काल मुहूर्त: शाम 04 बजकर 07 मिनट से लेकर शाम 05 बजकर 51 मिनट तक

अभिजीत मुहूर्त: सुबह 11 बजकर 22 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 08 मिनट तक

ब्रह्म मुहूर्त:शाम 04 बजकर 18 मिनट से लेकर अगले दिन सुबह 05 बजकर 07 मिनट तक

Karwa Chauth 2022 Timings

चतुर्थी तिथि प्रांरभ गुरुवार, 13 अक्टूबर 2022 – 01:59 AM
चतुर्थी तिथि समापन शुक्रवार, 14 अक्टूबर 2022 – 03:08 AM
करवा चौथ चांद उगने का समय गुरुवार, 13 अक्टूबर 2022 – 08:09 PM
करवा चौथ पूजा का मुहूर्त गुरुवार 13 अक्टूबर 2022 – 05:54 PM से 07:08 PM

Karva Chauth worship method

Women should get up before dawn on the Karva Chauth day and bathe and clean the temple. After that, take a vow of Nirjala fasting after eating the mother-in-law’s sargi share. Install all of the deities on an earthen altar in the evening. There should be at least 13 people in it.

Incense, lamp, sandalwood, roli, and vermilion can be used to decorate the worship plate. Half an hour before the moon sets, begin the worship. Women attend the Karva Chauth narrative during the puja. After seeing the moon through a sieve, Arghya shares. After that, a woman’s fast is broken by drinking water and requesting blessings from her mother-in-law for having an unbroken Saubhagyavati.

Karwa Chauth Vrat Katha

एक समय की बात है एक साहूकार के सात पुत्र और एक पुत्री थी। पुत्री अपने भाइयों की इकलौती बहन थी इस वजह से उसे सभी भाई बहुत प्रेम करते थे। एक बार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को साहूकार की पत्नी समेत उसकी सातों बहुओं और पुत्री ने भी करवा चौथ का व्रत रखा।

रात्रि के समय जब साहूकार के सभी लड़के भोजन करने बैठे तो उन्होंने अपनी बहन से भी भोजन का आग्रह किया। इस बात पर बहन ने कहा कि भैया आज करवा चौथ का व्रत उसने भी रखा है और चंद्रमा के दर्शन के पश्चात ही कुछ खा सकती है। चांद के निकलने पर उसे अर्घ्य देकर ही वो अन्न और जल ग्रहण कर सकती है।

साहूकार के बेटे अपनी बहन से बहुत प्रेम करते थे और उन्हें अपनी बहन का भूख से व्याकुल चेहरा देख बेहद दुख हुआ। अपनी बहन का ये हाल देखकर उन्हें ऐसा विचार आया कि यदि चंद्रमा जल्दी ही निकल आए तो उनकी बहन व्रत का पारण कर सकती है। इस वजह से साहूकार के बेटे नगर के बाहर गए और वहां एक पेड़ पर चढ़ कर अग्नि जला दी। घर वापस आकर उन्होंने अपनी बहन से कहा- देखो बहन, चंद्रमा निकल आया है। अब तुम अर्घ्य देकर भोजन ग्रहण कर सकती हो।

साहूकार की बेटी ने अपनी भाभियों से भी चंद्रमा के दर्शन (चंद्रमा से प्रार्थना कैसे करें) करके व्रत खोलने को कहा, लेकिन उनकी भाभियों ने इस बात से मना कर दिया और बताया कि अभी चांद नहीं निकला है बल्कि उनके भाइयों ने प्रेम वश और बहन को भूख से व्याकुल देखकर ही नकली चांद दिखा दिया है।

Check Also:- Pro Kabaddi 2022 live

karwa chauth

बहन ने भाभियों की बात को अनसुना कर दिया और अपने भाइयों की बात मानकर भाइयों द्वारा दिखाए गए नकली चांद को अर्घ्य देकर अन्न जल ग्रहण कर लिया।  इस प्रकार बहन का करवा चौथ का व्रत भंग होने की वजह से भगवान श्री गणेश साहूकार की बेटी पर अप्रसन्न हो गए। गणेश जी की अप्रसन्नता के कारण उस लड़की का पति जल्दी ही बीमार हो गया और घर में बचा हुआ सारा धन उसकी बीमारी में व्यय हो गया।

साहूकार की बेटी को जब अपने किए हुए दोषों का पता लगा तो उसे बहुत पश्चाताप हुआ। उसने गणेश जी से क्षमा प्रार्थना की और फिर से विधि पूर्वक चतुर्थी का व्रत शुरू कर दिया। उसने विधि से पूजन करके चंद्रमा को अर्घ्य देकर अपना उपवास पूरा किया और वहां उपस्थित सभी लोगों का आशीर्वाद ग्रहण किया।

साहूकार की निश्छल भक्ति और श्रद्धा को देखकर भगवान गणेश जी उस पर प्रसन्न हो गए और उसके पति को जीवनदान दिया। साथ ही, उसे सभी प्रकार के रोगों से मुक्त करके धन, संपत्ति और वैभव से युक्त कर दिया।

करवा चौथ माता की जय

करवा चौथ व्रत कथा का महत्व

ऐसी मान्यता है कि करवा चौथ की पूजा तभी पूर्ण मानी जाती है जब पूजा के साथ इस कथा का पाठ किया जाता है। जो स्त्रियां करवा चौथ के दिन पूजन के साथ इस कथा का पाठ करती हैं और चंद्रमा को अर्घ्य देती हैं करवा माता उनके पति को दीर्घायु देती हैं और साहूकार की बेटी की ही तरह उनके पति पर भी सदैव भगवान गणपति की कृपा बनी रहती है। करवा चौथ के दिन इस व्रत का एक कैलेंडर सामने रखकर करवा माता का ध्यान करते हुए यदि स्त्रियां इस कथा का पाठ करती हैं और दूसरों को भी कथा सुनाती हैं तो उनका सौभाग्य अखण्ड बना रहता है।

करवा चौथ की ये कथा आपके जीवन में सुख समृद्धि का वरदान और वैवाहिक जीवन में खुशियां प्रदान करेगी। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें।

Related Posts:-

Happy Janmashtami Images : कृष्णा जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाए

रुद्राष्टक

Happy Friday Quotes to Celebrate The End of the Week 2022

Diwali Rangoli : 25 Beautiful Rangoli Best

Leave a Comment

%d bloggers like this: