खाना खाने पानी पीना का best तरीका : जानिए कैसे

हमारे शरीर के लिए खाना खाने पानी पीना तथा स्वांस लेना अनिवार्य होता है |हमारे जीवन में खान-पान का बहुत बड़ा महत्व होता है | हम सभी लोग जीवित रहने के लिए ये तीनो चीजे करते है | लेकिन वास्तव में इनका सही तरीका क्या है ? यह अधिकांस लोग नहीं जानते | और इसी वजह से हम बहुत सी बिमारिया स्वयं ही आमंत्रित करते है | और ताज्जुब की बात यह है कि पशु पक्षी की खाने और पीने की बहुत सी habits हम मनुष्यों से बेहतर होती है | जिसकी वजह से मनुष्यों की अपेक्षा वे कम बीमार होते है |

शरीर में वात,पित और कफ के बढ़ जाने से मुखतः तीन प्रकार की बिमारियाँ  होती है | सामान्यतः वात, पित और कफ की अधिकता या असंतुलन से ( ८४+४६ से ५० +२८ ) लगभग १४८ प्रकार की बीमारियाँ होती है |

अतः शरीर में वात ,पित और कफ़ का संतुलन बनाये रखना चाहिए | किसी की अधिकता नही होने देना चाहिए |

खाना खाने पानी पीना से बीमारियाँ कैसे ?

ज्यादातर लोग खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीते है | जो पानी पीने का गलत तरीका है |क्योकि हम जो कुछ भी खाते है वह खाना हमारी नाभि के बायीं तरफ ‘जठर’ में पहुँचता है | वहां पर वह अग्निरूपी क्रिया द्वारा पचता है | जिसे जठराग्नि भी कहते है | और वह जठराग्नि से पचने की क्रिया १ घंटे तक चलती है |

अतः सरल भाषा में समझे तो जिस प्रकार अग्नि को पानी बुझा देता है ,उसी प्रकार एक घंटे पहले पानी पीना जठराग्नि को बाधित करेगा |अर्थात जठर रूपी अग्नि को बुझा देगा | इसलिए १ घंटे से पहले हम पानी पीते है | वह अमृत-तुल्य  पानी भी पाचन क्रिया के लिए विष-तुल्य काम करता है | अतः हमें खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीने वाली आदत में सुधार करना चाहिए और खाना खाने के १ घंटे बाद पानी पीना चाहिए | यदि हमें पेय पदार्थ लेना ही है तो इस प्रकार लेना चाहिए-

positive words : सकारात्मक शब्दों की ताकत क्या होती है ? प्रेरणात्मक कहानी से जानिए Save Water article कैसे बचाएँ पानी (पानी बचाने के उपाय)
importance of education शिक्षा क्या हैं? शिक्षा का महत्व thyroid symptoms in Hindi थायराइड की समस्या और इसके लक्षण जानिए विस्तार से

पेय पदार्थ लेने का best समय |

  •  सुबह नास्ते के उपरांत फलो का रस लेना उचित होता है |
  • दोपहर में खाना खाने के उपरांत दही से बनी लस्सी लेना उचित होता हैं | जिसे मट्ठा भी कहते है |इसी प्रकार
  • शाम ( रात ) को खाना खाने के उपरांत दूध लेना उचित होता है |

यदि इस प्रकार इन उचित पेय पदार्थो को हम लेते है तो हमारे शरीर के लिए अमृत-तुल्य लाभदायक रहेंगे |साथ ही वात, पित और कफ़ का उचित संतुलन रहेगा | जिससे हम अनेक बीमारियों से बचे रहेंगे |

पानी पीने का best समय व तरीका |

इसी प्रकार हम खाना खाने से पहले पानी पीना चाहे तो उसका भी उचित तरीका यह है –

  • पानी हमें खाना खाने से ४० चालीस मिनट पहले पीना चाहिए |
  • इसी प्रकार या खाना खाने के १ एक घंटे बाद पानी पीना चाहिए |
  • सुबह उठते ही सर्वप्रथम 2-3 गिलास पानी पीना चाहिए | उसके बाद ही संडास जाना चाहिए |
  • पानी हमेशा घूट-घूट कर ही पीना चाहिए | अर्थात एकसाथ न पीकर एक एक घूट लेकर पीना चाहिए |

पानी घूट -घूट ही क्यों ?

क्योकि घूट-घूट पानी पीने से हमारे मुह में जो लार होती है वे पानी के साथ शरीर में पाचनक्रिया में सहायक होती है | जो हमारे शरीर के लिए best होता है | घूट घूट पानी पीने से लार अपने स्थान पर best तरीके से पहुचती है | हमारी शारीरिक क्षमता के अनुसार पानी पीना चाहिए | अर्थात कोई 2 साल के बच्चे को 2-3 ग्लास एक साथ पिलाना उचित नही है | उसकी body क्षमता के अनुसार ही पानी पिलाना चाहिए |

यह भी पढ़े – सफल बिंदु

खाना खाने पानी पीना निष्कर्ष 

अतः खाना खाने व पानी पीना में ऊपर लिखित तरीका best है | यदि हम इस तरीके से खाना खायेंगे और पानी पियेंगे तो हमारे बीमार होने की संभावना न के बराबर है | अतः इसे अपनाकर हमें सदा स्वस्थ रहना चाहिए |

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |


खाना खाने पानी पीना

18 thoughts on “खाना खाने पानी पीना का best तरीका : जानिए कैसे”

Leave a Comment

%d bloggers like this: