खाना खाने व पानी पीना का best तरीका : जानिए कैसे

खाना खाने व पानी पीना बेहतर बनाये

हमारे शरीर के लिए खाना खाने व पानी पीना तथा स्वांस लेना अनिवार्य होता है |हमारे जीवन में खान-पान का बहुत बड़ा महत्व होता है | हम सभी लोग जीवित रहने के लिए ये तीनो चीजे करते है | लेकिन वास्तव में इनका सही तरीका क्या है ? यह अधिकांस लोग नहीं जानते | और इसी वजह से हम बहुत सी बिमारिया स्वयं ही आमंत्रित करते है | और ताज्जुब की बात यह है कि पशु पक्षी की खाने और पीने की बहुत सी habbits हम मनुष्यों से बेहतर होती है | जिसकी वजह से मनुष्यों की अपेक्षा वे कम बीमार होते है |

कौनसी बिमारियाँ होती है ?

शरीर में वात,पित और कफ के बढ़ जाने से मुखतः तीन प्रकार की बिमारियाँ  होती है | सामान्यतः वात, पित और कफ की अधिकता या असंतुलन से ( ८४+४६ से ५० +२८ ) लगभग १४८ प्रकार की बीमारियाँ  होती है |

अतः शरीर में वात ,पित और कफ़ का संतुलन बनाये रखना चाहिए | किसी की अधिकता नही होने देना चाहिए |

खाना खाने व पानी पीना से बीमारियाँ कैसे ?

ज्यादातर लोग खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीते है | जो पानी पीने का गलत तरीका है |क्योकि हम जो कुछ भी खाते है वह खाना हमारी नाभि के बायीं तरफ ‘जठर’ में पहुँचता है | वहां पर वह अग्निरूपी क्रिया द्वारा पचता है | जिसे जठराग्नि भी कहते है | और वह जठराग्नि से पचने की क्रिया १ घंटे तक चलती है |

अतः सरल भाषा में समझे तो जिस प्रकार अग्नि को पानी बुझा देता है ,उसी प्रकार एक घंटे पहले पानी पीना जठराग्नि को बाधित करेगा |अर्थात जठर रूपी अग्नि को बुझा देगा | इसलिए १ घंटे से पहले हम पानी पीते है | वह अमृत-तुल्य  पानी भी पाचन क्रिया के लिए विष-तुल्य काम करता है | अतः हमें खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीने वाली आदत में सुधार करना चाहिए और खाना खाने के १ घंटे बाद पानी पीना चाहिए | यदि हमें पेय पदार्थ लेना ही है तो इस प्रकार लेना चाहिए-

पेय पदार्थ लेने का best समय |

  1.  सुबह नास्ते के उपरांत फलो का रस लेना उचित होता है |
  2. दोपहर में खाना खाने के उपरांत दही से बनी लस्सी लेना उचित होता हैं | जिसे मट्ठा भी कहते है |इसी प्रकार
  3. शाम ( रात ) को खाना खाने के उपरांत दूध लेना उचित होता है |

यदि इस प्रकार इन उचित पेय पदार्थो को हम लेते है तो हमारे शरीर के लिए अमृत-तुल्य लाभदायक रहेंगे |साथ ही वात, पित और कफ़ का उचित संतुलन रहेगा | जिससे हम अनेक बीमारियों से बचे रहेंगे |

पानी पीने का best समय व तरीका |

इसी प्रकार हम खाना खाने से पहले पानी पीना चाहे तो उसका भी उचित तरीका यह है –

  • पानी हमें खाना खाने से ४० चालीस मिनट पहले पीना चाहिए |
  • इसी प्रकार या खाना खाने के १ एक घंटे बाद पानी पीना चाहिए |
  • सुबह उठते ही सर्वप्रथम 2-3 गिलास पानी पीना चाहिए | उसके बाद ही संडास जाना चाहिए |
  • पानी हमेशा घूट-घूट कर ही पीना चाहिए | अर्थात एकसाथ न पीकर एक एक घूट लेकर पीना चाहिए |

पानी घूट -घूट ही क्यों ?

क्योकि घूट-घूट पानी पीने से हमारे मुह में जो लार होती है वे पानी के साथ शरीर में पाचनक्रिया में सहायक होती है | जो हमारे शरीर के लिए best होता है | घूट घूट पानी पीने से लार अपने स्थान पर best तरीके से पहुचती है | हमारी शारीरिक क्षमता के अनुसार पानी पीना चाहिए | अर्थात कोई 2 साल के बच्चे को 2-3 ग्लास एक साथ पिलाना उचित नही है | उसकी body क्षमता के अनुसार ही पानी पिलाना चाहिए |

यह भी पढ़े – सफल बिंदु

अतः खाना खाने व पानी पीना में ऊपर लिखित तरीका best है | यदि हम इस तरीके से खाना खायेंगे और पानी पियेंगे तो हमारे बीमार होने की संभावना न के बराबर है | अतः इसे अपनाकर हमें सदा स्वस्थ रहना चाहिए |

खाना खाने पानी पीना

                     


खाना खाने पानी पीना

Best way to eat food and drink water: know-how

It is essential for our body to eat food and drink water and take a breath. Food and drink have great importance in our life. We all do these three things to survive. But what exactly is their correct way? Most people do not know this. And that’s why we invite many diseases ourselves. And strangely enough, many habits of animal birds eat and drink are better than us humans. Because of which they are less sick than humans.

What are the diseases?

There are mainly three types of diseases in the body due to an increase in Vata, Pitta, and Kapha. Generally, due to excess or imbalance of Vata, Pitha, and Kapha (9 + 9 to 50 + 24), there are about 14 types of diseases.

Therefore, the balance of Vata, Pit, and Kapha should be maintained in the body. Nobody should be allowed to have excess.

How to eat and drink water?

Most people drink water immediately after eating food. Which is the wrong way to drink water? Because whatever we eat, the food reaches the left side of our navel in the ‘gastric’. There he is digested by fire activity. Which is also known as Jathragni. And that digestion process lasts for 1 hour.

So, if you understand in simple language, just as the fire extinguishes water, in the same way, drinking water one hour before will inhibit the stomach. That means that the stomach will extinguish the fire. So before 1 hour, we drink water. That nectar-like water also acts as a poison for digestion. Therefore, we should improve the habit of drinking water immediately after eating food and drink water after 1 hour of eating. If we have to take beverages, then we should take –

Best time to drink beverages.

It is advisable to take fruit juice after breakfast in the morning.
It is advisable to take lassi made of curd after eating food in the afternoon. Also called whey.
It is advisable to take milk after dinner in the evening (night).

If we take these appropriate beverages in this way, then nectar will be beneficial for our bodies. Also, there will be a proper balance of Vata, Pit, and Kapha. Which will keep us from many diseases?

Best time and way to drink water.

Similarly, if we want to drink water before eating food, then the proper way of doing this is –

We should drink water 40 to forty minutes before eating.
Similarly, one should drink water after one hour of eating.
As soon as you wake up in the morning, drink 2-3 glasses of water first. Only after that should the sandals go.
Water should always be drunk by itself. That is, do not drink together and drink with each gut.

Water dissolves – why should it happen?

Because the saliva that comes in our mouth by drinking Ghut water helps in digestion in the body with water. Which is best for our body. Saliva reaches its place best by drinking Ghut water. Water should be drunk according to our physical capacity. That is, it is not appropriate to give 2-3 glasses of food to a 2-year-old child. Water should be fed according to his body capacity.

Therefore, the above-mentioned method is best in eating food and drinking water. If we eat food and drink water in this way, then our chances of getting sick are slim. Therefore, we should always be healthy by adopting it.

खाना खाने पानी पीना       

13 thoughts on “खाना खाने व पानी पीना का best तरीका : जानिए कैसे”

Leave a Comment

%d bloggers like this: