माँ तुझे बार – बार सादर प्रणाम | happy mothers day

        माँ तुझे सलाम

वह माँ ही होती है | जो अपने पुत्र की खुशी देखकर अपना स्वयं का सारा कष्ट भुला देती है | विज्ञान कहता है | 9 decible दर्द  से ज्यादा दर्द कोई नहीं झेल पाता है | जो 12 decible  दर्द झेलकर बच्चे को जन्म देती है | वह माँ ही होती है ,जो स्वयं भूखी रहकर भी अपने बच्चे को खाना खिलाती है | वह माँ ही होती है | जो अपने बच्चो की हर खुशी के लिए ,अपने लिए  सारा कष्ट उठाने को तैयार रहती है |इसलिए माँ तुझे बार -बार प्रणाम |

Mother again and again, regards.happy mothers day

मानव जगत में, माँ हो या प्राणी जगत में ,माँ सदा महान होती है |प्राणी जगत में माँ अपने बच्चो को बचाने  के लिए ,खुद से बड़े प्राणी से लड़ जाती है|चाहे उसे स्वय के प्राण ही क्यों न गवाने पड़े | माँ का यह वात्सल्य भाव ही होता है |कि (माँ )एक गाय भी अपने बच्चे की रक्षा के लिए ,सिंह से भी लड़ जाती है |चाहे इसके लिए माँ को अपने प्राण ही क्यों न गवाने पड़े |

यह भी पढ़े – Grateful बनो GrateFool मत बनो

माँ की सेवा करना हमारा कर्म और धर्म है,और होना भी चाहिए | माँ का ऋण उतारा नहीं जा सकता है |वे सभी लोग धन्य है |जो माँ की सेवा को अपना शोभाग्य समझते है |और मातृसेवा को अपना शौभाग्य समझना भी चाहिए |

”जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी ” जननी और जन्मभूमि तो स्वर्ग से भी बढ़कर होती है |

Mother again and again, regards.happy mothers day

माँ संस्कारो के रूप में हमें वह सिखा देती है |जो हम जीवनभर अध्ययन करके भी नहीं सीख पते |हमारे अमूल्य संस्कार माँ की ही देन होते है |हर औरत की इज्जत करो,इसलिए नहीं की वह एक औरत है |बल्कि यह साबित करने के लिए कि आपकी परवरिस एक अच्छी ”माँ ”के द्वारा हुई है |    mothers day   की हार्दिक शुभ कामनाए |सभी माताओं को बार- बार सादर प्रणाम

Mother again and again, regards.happy mothers day


                Mother, again and again, regards.happy mothers day.

Mother again and again, regards.happy mothers day 

mother I salute you

She is the mother. Seeing the happiness of his son, he forgets all his own suffering. Science says. No one can bear more pain than 9-decibel pain. Which gives birth to the child after suffering 12-decibel pains. She is the mother who, despite being hungry, feeds her child food. She is the mother. Who is ready to take all the trouble for himself, for all the happiness of his children. so, Mother, again and again, regards. happy mothers day

Mother again and again, regards.happy mothers day

In the human world, the mother or in the living world, the mother is always great. In the animal world, the mother fights with herself, to protect her children, against the larger creature. Even if she has to lose her own life. This is the feeling of the mother that even a cow (mother) fights with the lion to protect her child, even if the mother has to lose her life for this.

Mother, again and again, regards.happy mothers day

Serving the mother is our karma and dharma, and it should be. The mother’s debt cannot be withdrawn. All those people are blessed. Those who consider the service of the mother as their meritorious. And the mother-servant should also consider her lucky.

Mother, again and again, regards.happy mothers day.

“Janani Janmabhoomi Swargadapi Gariyasi” Janani and Janmabhoomi is more than heaven.

Mother again and again, regards.happy mothers day

Mother teaches us that in the form of enculturation. What we do not learn even after studying throughout our life. Our precious values ​​are given by the mother. Respect every woman, not because she is a woman. Rather prove it For you have been brought up by a good “mother”. Heartfelt wishes for Mother’s Day. Regards to all the mothers. Jai Mata Di |

Mother again and again, regards.happy mothers day

%d bloggers like this: