Saturday, April 13, 2024
HomeNewsRBI ने 2000 के नोटों पर लगाई रोक, ऐसे बदले जाएंगे नोट...

RBI ने 2000 के नोटों पर लगाई रोक, ऐसे बदले जाएंगे नोट अभी देखे पूरी खबर

RBI ने 2000 के नोटों पर लगाई रोक- आरबीआई ने 2000 रुपये के नोट को सर्कुलेशन से बाहर करने का ऐलान किया है. हालांकि, ये लीगल टेंडर में बने रहेंगे. इन नोटों को वापस करने के लिए 30 सितंबर तक समय है. लेकिन ये पहली बार नहीं है जब इस तरह से बड़े नोट को बंद किया गया है. इससे पहले भी कई बार बड़े नोटों को बंद किया जा चुका है. 8 नवंबर 2016 तो याद है ही. लेकिन अब 19 मई 2023 की तारीख भी याद ही रहेगी. वो इसलिए क्योंकि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने सबसे बड़ी करेंसी 2000 के नोट को सर्कुलेशन से बाहर करने का ऐलान किया है. हालांकि, ये लीगल टेंडर में बना रहेगा.

रिजर्व बैंक के अनुसार, 23 मई से 30 सितंबर के 2000 के नोटों को बैंक में जाकर बदलवाया जा सकता है. एक समय में नोट बदलने की सीमा 20,000 रुपये है.  आरबीआई ने बयान जारी कर बैंकों को भी सलाह दी है कि वो ग्राहकों को 2000 के नोट जारी न करें. अगर आपके पास भी 2000 के नोट हैं तो बैंक की ब्रांच में जाकर इन्हें या तो अपने खाते में जमा करवा सकते हैं या फिर बदलवा सकते हैं.

RBI ने 2000 के नोटों पर लगाई रोक

लोग दो हजार रुपये के नोट बैंक खातों में जमा करा सकेंगे या फिर उन्हें अन्य मूल्य के नोटों के साथ किसी भी बैंक शाखा में जाकर एक्सचेंज करा सकेंगे। लोगों को यह ध्यान रखना होगा कि एक बार में अधिकतम 20 हजार रुपये मूल्य के नोट बदलवाए जाए सकेंगे। यह प्रक्रिया 23 मई से शुरू होगी और 30 सितंबर 2023 को खत्म होगी। आरबीआई ने बैंकों से 30 सितंबर तक ये नोट जमा करने एवं बदलने की सुविधा देने को कहा है। बैंकों में जाकर 23 मई से 2,000 रुपये के नोट बदले एवं जमा किए जा सकेंगे। हालांकि एक बार में सिर्फ 20,000 रुपये मूल्य के नोट ही बदले जाएंगे।

बहरहाल आरबीआई ने यह साफ नहीं किया है कि कोई व्यक्ति अधिकतम कितने मूल्य के 2,000 रुपये के नोट बैंकों में जमा या बदल सकता है। लेकिन उसने एक बार में अधिकतम 10 नोट ही बदलने का उल्लेख किया है। आरबीआई के मुताबिक 2,000 रुपये के करीब 89 प्रतिशत नोट मार्च, 2017 से पहले ही जारी किए गए थे और अब उनका चार-पांच साल का अनुमानित जीवनकाल खत्म होने वाला है। मार्च, 2018 में 6.73 लाख करोड़ रुपये मूल्य के 2,000 रुपये के नोट चलन में मौजूद थे लेकिन मार्च, 2023 में इनकी संख्या घटकर 3.62 लाख करोड़ रुपये रह गई। इस तरह चलन में मौजूद कुल नोट का सिर्फ 10.8 प्रतिशत ही 2,000 रुपये के नोट रह गये हैं जो मार्च, 2018 में 37.3 प्रतिशत थे।

 RBI ने 2000 के नोटों पर लगाई रोक

RBI ने 2000 के नोटों पर लगाई रोक Details

Organization Name RBI ने 2000 के नोटों पर लगाई रोक
Category News
 Official Website Click Here

Click here- Make Money Online इंटरनेट से 5 मिनट में कैसे शुरू करे पैसा कमाना?

विस्तार

आरबीआई ने 2000 रुपये के नोट को चलन से वापस लेने की घोषणा की है। भारतीय रिजर्व बैंक ने  बैंकों को सलाह दी है कि वे तत्काल प्रभाव से 2000 रुपये मूल्यवर्ग के बैंकनोट जारी करना बंद करें।  हालांकि 2000 रुपये मूल्यवर्ग के बैंक नोट वैध मुद्रा बने रहेंगे। जानकारी के मुताबिक, क्लीन नोट पॉलिसी के तहत आरबीआई ने यह फैसला लिया है। आरबीआई ने कहा है कि यह नोट 30 सितंबर तक कानूनी रूप से वैध रहेंगे।

2016 में आरबीआई ने किए थे जारी

आरबीआई ने नवंबर 2016 में आरबीआई एक्ट 1934 की धारा 24(1) के तहत ये नोट निकाले थे। रिजर्व बैंक ने नोटबंदी के बाद इन नोटों को जारी किया था। यह फैसला इसलिए लिया गया था ताकि उस समय 500 और 1000 रुपये के जो नोट चलन से हटाए गए थे, उनका बाजार और अर्थव्यवस्था पर असर कम किया जा सके। जब दूसरे मूल्य के बैंक नोट पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो गए, तब दो हजार रुपये को चलन में लाने का उद्देश्य पूरा हो गया।

आरबीआई ने कहा कि 2000 रुपये के बैंक नोटों को लाने के उद्देश्य के एक बार पूरा हो जाने के बाद 2018-19 में 2000 रुपये के नोटों की छपाई बंद कर दी गई थी। उस समय तक अन्य मूल्यवर्ग के बैंक नोट पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो गए थे। आरबीआई ने यह भी बताया है कि मार्च 2017 से पहले 2000 रुपये मूल्यवर्ग के बैंक नोटों में से लगभग 89 प्रतिशत जारी किए गए थे।

Read also- to dollar rate : रुपये से जुड़े रोचक तथ्य

23 May 2023 से शुरू होगी बैंकों में नोट बदलने की प्रक्रिया

लोग दो हजार रुपये के नोट बैंक खातों में जमा करा सकेंगे या फिर उन्हें अन्य मूल्य के नोटों के साथ किसी भी बैंक शाखा में जाकर एक्सचेंज करा सकेंगे। लोगों को यह ध्यान रखना होगा कि एक बार में अधिकतम 20 हजार रुपये मूल्य के नोट बदलवाए जाए सकेंगे। यह प्रक्रिया 23 मई से शुरू होगी और 30 सितंबर 2023 को खत्म होगी।

30 सितंबर के बाद भी लीगल टेंडर में रहेगा

एएनआई के सूत्रों ने बताया है कि 2000 रुपये का नोट 30 सितंबर के बाद भी लीगल टेंडर रहेगा। आरबीआई को उम्मीद है कि बैंकों के साथ नोट बदलने के लिए लोगों के लिए 4 महीने का समय पर्याप्त है। चलन में चल रहे 2000 रुपये के अधिकांश नोट 30 सितंबर की निर्धारित समय सीमा के भीतर बैंकों में वापस आ जाएंगे। यह आरबीआई की नियमित कवायद है और लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है।

Check Post- How To Earn Money Online : ऑनलाइन Earning कैसे करें?

भारतीय रिज़र्व बैंक ने 2000 रुपये के नोटों को सर्कुलेशन से बाहर करने का एलान किया है.

शुक्रवार को जारी अपने बयान में आरबीआई ने कहा है कि ये नोट वैध रहेंगे और 30 सितंबर 2023 तक इन्हें बैंकों में जमा कराया जा सकता है.

बयान में कहा गया है कि लोग 2000 के नोट अपने बैंक खाते में जमा कर सकते हैं या किसी भी बैंक की शाखा में जाक अपने नोट बदल सकते हैं.

1- आगे क्या होगा?

2000 रुपये के नोटों के सर्कुलेशन से बाहर होने के बाद भी ये नोट वैध रहेंगे. आरबीआई के अनुसार, 30 सितंबर 2023 तक इन्हें बैंकों में जमा कराया जा सकता है और नोटों की बदली की जा सकती है.

2- आरबीआई के ताज़ा नियम क्या हैं?

आरबीआई ने बैंकों से नए 2000 के नोट जारी करने पर तुरंत रोक लगाने को कहा है. नोटों की बदली के लिए सभी बैंकों को निर्देश भेज दिए गए हैं.

3- 2000 के नोट जमा करने या बदलने के क्या हैं नियम?

लोग अपने बैंक खाते में 2000 के नोट जमा कर सकते हैं या किसी भी बैंक की शाखा में जाकर अपने नोट बदल सकते हैं. 23 मई 2023 से किसी भी बैंक में एक बार में 20,000 रुपये तक यानी 2000 के 10 नोट बदले जा सकते हैं. नोट बदली के लिए कोई अतिरिक्त शुल्क या फ़ीस नहीं ली जाएगी.

4- 30 सितम्बर 2023 के बाद 2000 नोटों का क्या होगा?

आरबीआई ने कहा है कि 30 सितंबर 2023 तक 2000 के नोटों को जमा किया या बदला जा सकता है. हालांकि आरबीआई ने ये साफ़ नहीं किया है कि इसके बाद क्या होगा. ये संभावना है कि आरबीआई इस बारे में कोई नया दिशा निर्देश जारी करे.

5- इस समय बाज़ार में कितने हैं 2000 रुपये के नोट?

31 मार्च 2023 को 3.62 लाख करोड़ रुपये मूल्य के ही 2000 के नोट बाज़ार में चलन में थे. इन नोटों का सर्वाधिक सर्कुलेशन 31 मार्च 2018 को 6.73 लाख करोड़ रुपये था जो कुल नोटों का क़रीब 10 प्रतिशत है.

6- आरबीआई ने 2000 रुपये के नोट पहले ही छापना बंद कर दिया था?

आरबीआई एक्ट 1934 की धारा 24 (1) के तहत पहली बार 2000 के नोट नवंबर 2016 में जारी किए गए थे. तब 500 रुपये और 1000 रुपये के नोट बंद किए जाने के बाद अर्थव्यवस्था में मुद्रा ज़रूरतों को पूरा करने के लिए 2000 के नोट जारी किए गए थे.

जब छोटे नोटों की आपूर्ति सुचारू हो गई तो 2018-19 में 2000 के नोटों को छापना बंद कर दिया गया. आरबीआई के अनुसार, 2000 के 89% नोट मार्च 2017 से पहले जारी किए गए थे.

आरबीआई अपनी क्लीन नोट पॉलिसी के तहत नोटों को बंद करती है या नए नोट जारी करती है.

RBI ने 2000 के नोटों पर लगाई रोक FAQ’S

2000 रुपये के नोट पर कौन सा स्मारक छपा है?

नया ₹2000 का बैंकनोट 66 मिमी × 166 मिमी मैजेंटा रंग का नोट है, जिसके अग्र भाग में महात्मा गांधी का चित्र, अशोक स्तंभ प्रतीक और भारतीय रिज़र्व बैंक के गवर्नर के हस्ताक्षर हैं। इस पर ब्रेल प्रिंट है, जिससे नेत्रहीनों को मुद्रा की पहचान करने में मदद मिलेगी।

₹ 200 के नोट पर किसका हस्ताक्षर होता है?

भारत के एक रुपए के नोट पर किसका हस्ताक्षर होता है? भारत के ₹१ के नोट पर भारत सरकार के वित्त सचिव के हस्ताक्षर होते हैं, उसकी जारीकर्ता भारत सरकार होती है. ₹2 से लेकर ₹2000 तक के नोटों को भारतीय रिजर्व बैंक जारी करता है एवं उन पर रिजर्व बैंक के गवर्नर के हस्ताक्षर होते हैं!

2000 रुपए के नोट का वजन कितना होता है?

2000 सिल्वर पर्पल करेंसी नोट, वजन: 11 ग्राम ।

500 रुपये के नोट पर कौन सा स्मारक छपा है?

महात्मा गांधी नई श्रृंखला का ₹500 का बैंकनोट 66 मिमी x 150 मिमी स्टोन ग्रे रंग का है, जिसके अग्र भाग में महात्मा गांधी का चित्र और साथ ही भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर के हस्ताक्षर के साथ अशोक स्तंभ प्रतीक है ।

parmender yadav
parmender yadavhttps://badisoch.in
I am simple and honest person
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular