Saturday, May 18, 2024
Homeबड़ी सोचसंकल्प करना क्यों जरूरी है !Why is it important to resolve, New...

संकल्प करना क्यों जरूरी है !Why is it important to resolve, New Year Resolutions 2024

नए साल के पहले दिन लोग कुछ न कुछ संकल्प लेते हैं. इससे जीवन में सकारात्मक बदलाव आते हैं और सफलता व उन्नति के मार्ग प्रशस्त होते हैं. जानें संकल्प का धार्मिक महत्व.

संकल्प करना क्यों जरूरी है – अपने आपको साबित करने के लिए , अपने अंदर छुपी हुई शक्तियों को बाहर लाने के लिए , हम क्या-क्या कर सकते हैं ये जानने के लाए संकल्प लेना बहुत जरूरी है ! जीवन में कुछ पाने की ठानना बहुत जरूरी है !
जीवन में न सिर्फ लक्ष्य होना आवश्यक है बल्कि लक्ष्य प्राप्ति के लिए ढृढ़ संकल्प करना भी बहुत आवश्यक है क्योंकि कोई भी चीज हमसे सिर्फ इतनी दूर है कि हम उसे पाने की ठान लें –
संकल्प में बहुत ज्यादा शक्ति होती है एक बार यदि ठान लिया जाए तो सबकुछ संभव है , संकल्प से इस दुनिया में परिवर्तन आया है , गाँधी जी के संकल्प से भारत आजाद हुआ और कई महापुरूषों के पावन संकल्प से सारे देश का कल्याण हुआ ।
अपने हित के लिए संकल्प किया जाए तो भी अच्छा है लेकिन यदि यह व्यापक हो जिसमें सारे देश का कल्याण निहित हो तो ये इतिहास रचने वाला बन जाता है । संकल्प यदि सच्चे मन से किया गया हो तथा पूरी लगन से हम उसके प्रति समर्पित हों तो परिणाम जरूर अच्छा निकलता है ।

New Year Resolutions 2024

नए साल 2024 की शुरुआत हो चुकी है और सभी ने धूमधाम के साथ नववर्ष का स्वागत किया है. नए साल के मौके पर खाना-पीना, मौज-मस्ती, घूमना फिरना और बधाई देने आदि का सिलसिला तो चलता ही है. इसी के साथ नए साल के पहले दिन लोग सुबह पूजा-पाठ भी करते हैं और ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि नया साल उनके और उनके परिवार के लिए बेहद सुखमय रहे. नए साल के दिन कई लोग कुछ न कुछ संकल्प (Resolutions) भी जरूर लेते हैं. जानते हैं क्यों जरूरी है संकल्प, क्या है इसका अर्थ और कैसे लेते हैं संकल्प.

संकल्प करना क्यों जरूरी है

New Year Resolutions Details

Name Of Article संकल्प करना क्यों जरूरी है
Why is it important to resolve Click Here
Category Badi Soch
Facebook follow-us-on-facebook-e1684427606882.jpeg
Whatsapp badisoch whatsapp
Telegram unknown.jpg
Official Website Click Here

Read here –  success definition

नए साल में क्यों लेते हैं संकल्प

नए साल के दिन कई लोग संकल्प लेते हैं. दरअसल इसका कारण यह है कि, कहा जाता है कि आप दिन की शुरुआत जैसे करेंगे आप पूरा दिन भी वैसा ही बीतेगा. ठीक इसी तरह मान्यता है कि आप साल की शुरुआत जिस तरह से करेंगे आपका पूरा साल भी वैसा ही बीतेगा. यही कारण है कि लोग नए साल के पहले दिन कुछ ऐसा संकल्प लेते हैं, जो उनके और उनके परिवार के लिए लाभकारी हो.

क्या है संकल्प का अर्थ

संकल्प का सीधा अर्थ दृढ निश्चय से होता है. किसी अच्छी आदत, काम, बात आदि का दृढ निश्चय करना ही संकल्प कहलाता है. हिंदू धर्म में संकल्प का विशेष महत्व होता है और ये जरूरी भी होता है. इसलिए हम किसी भी व्रत की शुरुआत करने में सबसे पहले ईश्वर के सामने हाथ जोड़कर व्रत का संकल्प देते हैं. जाप करने से पहले भी यह संकल्प लिया जाता है कि आप कितनी संख्या या माला में जाप करेगें. इसके अलावा पूजा-पाठ और अनुष्ठान में भी संकल्प लिए जाते हैं. क्योंकि शास्त्रों में संकल्प के बिना पूजा को अधूरा माना गया है.

क्यों जरूरी है संकल्प

हिंदू धर्म में संकल्प को लेकर ऐसी मान्यता है कि बिना संकल्प के किए गए पूजा-पाठ का सारा फल इंद्र देव को प्राप्त हो जाता है. इसलिए पूजा से पहले संकल्प लेना जरूरी होता है. हिंदू धर्म के अनुसार संकल्प लेने का अर्थ यह है कि आप ईष्टदेव और खुद को साक्षी मानकर किसी अच्छी चीज का संकल्प लें और इस संकल्प को पूरा करने का दृढ निश्चय भी करें.

क्या है संकल्प लेने की विधि

आप पूजा-पाठ करने, जप करने, इच्छापूर्ति के लिए या फिर किसी भी अच्छे काम के लिए संकल्प ले सकते हैं. संकल्प लेते समय हाथ में जल, अक्षत और फूल रखे जाते हैं और भगवान के सामने संकल्प लिया जाता है. नए साल के मौके पर आप जो भी संकल्प लें, तो इसी विधि से भगवान के सामने हाथ जोड़कर यह प्रार्थना करें कि बिना किसी बाधा के आप अपने संकल्प को पूरा करने में सक्षम रहें. इस विधि से व्यक्ति की संकल्प शक्ति मजबूत होती है और आपको तमाम विपरीत परिस्थतियों में अपने संकल्प को पूरा करने का साहस प्राप्त होता है.

Check also –  महाभारत की सम्पूर्ण कथा!

” संकल्प ” को ” प्रण ” भी कहा जा सकता है।
संकल्प= सम्+कल्प ; सम्= उसके अनुसार , कल्प = मन यानि किसी चीज को मन के अनुसार बनाना , जो आपने ठान लिया है उसे प्राप्त करके ही रहना संकल्प लेना कहलाता है। कुछ पवित्र संकल्प तो पूरी विधि विधान से धारण किए जाते हैं ।
“प्रण” शब्द ” प्राण ” से बना है मतलब प्रण तब लिया जाता है जब हम कोई चीज जी-जान लगाकर करना चाहते हों ।

पुराने समय में लोग बड़े-बड़े संकल्प-व्रत आदि लेते थे और इस तरह से कई बड़े-बड़े बदलाव भी होते थे ; आज भी लोग संकल्प लेते हैं कोई अमीर बनने का , कोई खूब नाम कमाने का , कोई देश और समाज की सेवा करने का ।
लेकिन अब संकल्प लेने वाले लोग कम हो गये हैं हममें से अधिकतर लोग तो होने दो जैसा हो रहा है , कभी तो कुछ बदलेगा , सबका अपना luck है , life तो enjoy करने के लिए है इतने Resolution लेकर परेशान क्यों होना – ऐसा मानते रहे हैं ।
यदि हम New Year में Resolutions ले भी लेते हैं तो अमल मे ला नहीं पाते , कभी कोई बहाना तो कभी कोई निकल ही आता है ।

दोस्तों , जब हम किसी लक्ष्य को पाने का संकल्प करते हैं और उसके प्रति समर्पित होते हैं तो फिर उससे जुड़े रास्ते हमें मिलने लगते हैं , अभी तक जो हमारी energy यूँ ही जा रही थी वो  उस लक्ष्य पर Focus होने लगती है और प्रकृति हमें लक्ष्य तक पहुँचने में मदद करती है क्योंकि अब ये Clear हो चुका है कि हमें क्या चाहिए । धीरे-धीरे हम नियत लक्ष्य तक पहुँचने लगते हैं और यदि हमें असफलता भी मिले तो भी हम मंजिल के बहुत करीब होते हैं जहाँ से सफलता बस कुछ ही कदमों की दूरी पर होती है ।

देखिए , असफल होना बुरा नहीं है बुरा है – प्रयास न करना , पूरा न कर पाने के डर से कोई संकल्प ही न लेना जैसे- पाँव भीगने के खौफ से पानी में न उतरना लेकिन मोती तो बाहर वही लेकर आएगा जो पानी में उतरेगा ।
इसीलिए , एक बार आप भी संकल्प लीजिए और उसे पूरे मन से निभाइए , फिर देखिए जो भी काम अभी तक नहीं हो सके , अब जरूर पूरे होंगे ।
बिना लक्ष्य वाले , बिना संकल्प वाले और लक्ष्य-संकल्प युक्त जीवन में जमीन-आसमान की फर्क होगा क्योंकि अब आप focused हैं कुछ पाने के लिए ।
संकल्प करने से हमेशा फायदा ही होता है बस आपको उसे पूरी लगन से पूरा करना हो , प्रण न करने से प्रण करने में आपको कहीं ज्यादा लाभ होगा लेकिन आपका प्रण हमेशा सबके लिए कल्याणकारी होना चाहिए । (संकल्प करना )

Related Posts

blood donate रक्तदान महादान या 

ITR (Income Tax Return) फाइल कैसे करे?

विंडोज के लिए शीर्ष 10 सर्वश्रेष्ठ


In order to prove ourselves, to bring out the hidden powers inside us, it is very important to take a resolution to know what we can do! It is very important to be determined to get something in life!
It is not only necessary to have a goal in life, but it is also very important to have strong determination to achieve the goal, because anything is so far away from us that we are determined to achieve it –
There is a lot of power in the resolution, once it is determined then everything is possible, this world has changed with the resolution, India was liberated by Gandhiji’s resolve and the whole nation was benefited by the pious determination of many great men.
It is good to have a resolution for your own interest, but if it is comprehensive in which the welfare of the whole country is contained, then it becomes history-maker. If the resolution is made with a sincere mind and we are devoted to it with dedication, then the result is definitely good.

“Sankalpa” can also be called “Prana”.
Sankalpa = Sama + Kalpa; Sama = According to him, kalpa = mind, that is, to make something according to the mind, to achieve what you have decided is to be determined to live. Some sacred resolutions are worn with complete law.
The word “prana” is derived from “prana”, meaning prana is taken when we want to do something whole-heartedly.

In olden times people used to take big resolutions, fasts, and in this way many big changes also took place; Even today people vow to become rich, some to earn a great name, some to serve the country and society.
But now people taking resolutions have become less like most of us are going to be like, something will change sometime, everyone has their own luck, life is meant to enjoy, why have you been so upset with resolution? .
Even if we take Resolutions in the New Year, then we are not able to execute, sometimes there is an excuse, sometimes some one comes out.

Friends, when we resolve to achieve a goal and are devoted to it, then the paths related to it start coming to us, till now the energy that was going on just like that starts getting focused on that goal and nature gives us the goal Helps in reaching because it is now clear what we need. Gradually we start reaching the target and even if we fail, we are very close to the destination from where success is just a few steps away.

See, failing is not bad – it is not bad – do not make any effort, do not take any pledge for fear of not completing it, like – do not get into the water with the fear of getting wet but the pearl will bring out the same that will come in the water.
Therefore, once you also take a pledge and fulfill it with all your heart, then see that whatever work could not be done till now, will definitely be completed.
In a life with no goals, without determination and goal-setting, there will be a difference of ground-sky because now you are focused to get something.
It is always beneficial to have a resolution, you just have to complete it with utmost dedication, you will benefit more by doing prana than not prana, but your vow should always be beneficial for everyone.

parmender yadav
parmender yadavhttps://badisoch.in
I am simple and honest person
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular