सोचों तो leader की तरह

                                           3.

हमारी सोच अथवा पसंद और नापसंद का सफ़लता से सम्बंध

सोच

सोच सिर्फ सफल एवं सकारात्मक होनी चाहिए | बड़ी सोच रखने वाले अथवा अमीर व्यक्तियों से यदि आप द्वेष या नफरत रखते है | या आप उनके प्रशंसक है,आपका यह द्रष्टिकोण यह तैय कर देता है कि आपकी सोच सकारात्मक है या नकारात्मक | आप अमीर बनने की राह पर है या गरीब बनने की| क्योकि हम जिसे पसंद करते है वो ही बनते है |और हम जिससे नफरत करते है वह हम नही बनते | इसी सम्बन्ध में किसी ने कहा है “वे कड़के(आर्थिक तंगी में) है इसलिए वे अमीरों से द्वेष रखते है|या फिर अमीरों से द्वेष रखते है इसलिए वे कड़के(Bitter) है”|

यह भी पढ़े :- सफलता की राह

 आपकी सोच एवं विचारो का मानव जीवन पर प्रभाव

याद रखे किसी भी द्रष्टिकोण के प्रति विचार ही वह सामग्री है ,जो हमारे दिमाग में दाखिल होने पर हमारी,खुशी,सफलता अमीरी अथवा गरीबी को या तो बढ़ाते है या घटाते है |सोच

यद्पि,अमीर बनने के लिए आपको परिपूर्ण आदर्श बनने की जरूरत नही है तथापि यह जानने की जरूरत अवश्य है कि “आपकी सोच आपको अथवा दूसरो को सशक्त बना रही है या नही ” यदि नही तो तत्काल आपको ज्यादा सकारात्मक सोच एवं  विचारो पर ‘ध्यान केन्द्रित’ करना चाहिए | 

सोच

अक्सर नकारात्मक लोगो से सुना होगा वह अमीर है तो ‘वह बेईमान,धोखेबाज ,निन्दनीय और औछा होगा’|जबकि हकीकत यह है कि ‘अमीरों के बारे में उसके द्वेषतापूर्वक ऐसे विचार है इसी कारण वह गरीब है’| यदि उसके विचारो में प्रसंशा भरे शब्दों की झलक होती तो ‘निश्चित रूप से वह सफल या अमीर बना होता’ या फिर ‘सफलता की राह पर अग्रसर होता’| ,उसकी बात में कुछ प्रतिशत सच्चाई हो सकती है लेकिन संभवतया 95% से ज्यादा झूठ है अतः बड़ी सोच और प्रशंसा का रूप अख्तियार कर लेना चाहिए जो सभी के लिए श्रेष्ठ एवं सकारात्मक है द्वेष हमेशा नकारात्मकता का पुलिंदा है|

बड़ी सोच एवं अमीर मानसिकता के लोग ‘दौलत बनाने’ के मामले में जोखिम उठाना Brain tonic and opportunity के रूप में लेते है वे समस्याओं में भी अवसर की सम्भावनाए  खोज लेते है तथा उत्साह पूर्वक ‘सकारात्मक अवसर’ उत्पन कर समस्याओ का निराकरण कर देते है और शिकायत एवं बहाना ढूंढने से सदा परहेज करते है|

              ज़िम्मेदारी से सफ़लता की ओर                                

 चूंकि अमीर तथा बड़ी सोच रखने वाले जो भी  निर्णय लेते है उसके ,’अच्छे या बुरे परिणाम’ के लिए भी स्वयं को उत्तरदायी ठहराते है तथा परिणाम को मनमाफिक दिशा देने में माहिर होते है ,चाहे परिस्थितिया कितनी ही विकट क्यों ना हो जैसे ……

‘कोरोना महामारी’ से लगभग विश्व के सभी देशो में विकट स्थति बनी हुई है |इसी श्रेणी में हमारे देश भारत वर्ष की स्थिति भी कुछ ऐसे ही विकट अंदेशा होते हुए ऐसे वक्त में माननीय मोदी जी ने ताली बजवाकर ,थाली बजवाकर ,lockdown करवाकर ,best suggestion देकर अपनी बड़ी सोच का बहुत बड़ा उदहारण पेश कर सम्पूर्ण अंधकार को party बनाकर सारे देश को प्रकाश पर्व के रूप में उत्साहित किया तथा लोगो में व्याप्त भय मिटाकर आत्म विश्वास से सराबोर किया| तथा अन्य देशो की अपेक्षा काफ़ी कम सुविधा एवं जनसँख्या के अनुपात में काफ़ी कम संसाधनों के होते हुए भी सफलता का परचम फहरा दिया तथा best leader एवं बड़ी सोच होने का उदाहरण पेश किया|

इस तरीके से प्रचार promotion करोगे तो कामयाबी चूमेगी आपके क़दम

Check करे :- अमीरों के रास्ते

संक्षेप में किसी के लिए नफरत या द्वेष का भाव रखेंगे तो दुखी रहेंगे तथा प्रेम एवं प्रसंशा (positivity )का मनोभाव रखेंगे तो सदा ख़ुश एवं तनाव मुक्त जीवन जीयेंगे और जोखिम उठाने एवं समस्या सुलझाने वाला(big thinking)नजरिया अपनाएंगे तो आपका दृष्टिकोण अमीर बनाने में “मील का पत्थर “साबित होगा|


Think like a leader

    Our likes and dislikes are related to success

If you are hated or hated by successful positive big thinkers or rich people, or you are a fan of them, your attitude shows whether your thinking is positive or negative, you are on the way to becoming rich or poor. | Because we become what we like, we do not become what we hate. In this regard, someone has said, “They are bitter (under financial tightness), so they are hostile to the rich. Or else they are hostile to the rich, so they are poor”.

                                                                यह भी पढ़े:- सफलता की राह

Thoughts on human life

Remember, the idea of ​​any viewpoint is the material which, when entered in our mind, either increases or decreases our happiness, success, wealth, or poverty.

However, to become rich you do not need to be the perfect role model, however, you need to know whether “your thinking is empowering you or others”. If not, immediately you should ‘focus’ on more positive thoughts. Want

सोच

One would often hear from negative people that if he is rich then he would be dishonest, deceitful, reprehensible, and unworthy. While the reality is that ‘he has such malicious views about the rich and that is why he is poor’. If his thoughts had a glimpse of heartfelt words, “he would surely have succeeded or become rich” or “he would have been on the road to success“. , There may be some percentage truth in his talk, but it is probably more than 95% lies, so should take the form of big thinking and praise which is good and positive for all, malice is always a bundle of negativity.

People of big thinking and rich mindset take risks in terms of ‘creating wealth’ as ​​brain tonic and opportunity, they also find opportunities in problems and solve problems by enthusiastically generating ‘positive opportunities’. And always avoid complaining and finding excuses.

From responsibility to the success

Since rich and big-minded people make whatever decisions they make, they hold themselves responsible for ‘good or bad results’ and are adept at giving the results the desired direction, no matter how dire the situation is ……सोच

Due to the ‘corona epidemic’, in almost all the countries of the world, the situation has remained grim.  In the same category, the situation of our country India year is also in a similar situation, in such a time, Honorable Modi Ji, by clapping, ringing, lockdown, By giving the best suggestion, by presenting a big example of your big thinking, making the whole darkness a party and encouraged the whole country as a festival of light and by eliminating the fear prevailing among people, self-confidence Drenched with s |And in spite of having very fewer resources and proportion of the population in comparison to other countries, despite having very few resources, it has given the success of success and set the example of being the best leader and big thinking.

In short, if you have a feeling of hatred or hatred for someone, then you will remain unhappy and if you have a feeling of love and positivity, then you will live a happy and stress-free life, and if you adopt a big thinking approach to risk and make your attitude rich. Will prove to be a “milestone”.

16 thoughts on “सोचों तो leader की तरह”

Leave a Comment

%d bloggers like this: