time is money समय ही धन है , जानिए कैसे ?

time is money अक्सर यह कहा जाता है कि, समय ही धन है। हालांकि, इससे हम धन की तुलना समय से नहीं कर सकते हैं। क्योंकि, यदि हम धन को एक बार खो देते हैं, तो इसे किसी भी साधन के द्वारा दुबारा प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन यदि हमने समय को एक बार खो दिया, तो इसे किसी भी साधन के द्वारा दोबारा प्राप्त नहीं किया जा सकता। इसलिए time is money का मतलब धन की तरह समय बहुत कीमती अथवा महत्वपूर्ण होता है। इसका सदा सम्मान अथवा महत्व पर ध्यान देना चाहिए।

why time is money समय ही धन है, क्यों?

क्योंकि विकास की राह में समय की बरबादी ही सबसे बङा शत्रु है। एक बार हाँथ से निकला हुआ समय कभी वापस नही आता है।  हमारा बहुमूल्य वर्तमान क्रमशः भूत बन जाता है जो, कभी वापस नही आता है। ”time is money अर्थात समय ही धन है।” के महत्व पर सत्य कहावत है कि, बीता हुआ समय और बोले हुए शब्द कभी वापस नही आ सकते। कबीर दास जी ने कहा है कि,

काल करै सो आज कर, आज करै सो अब।
पल में परलै होयेगी, बहुरी करेगा कब।।

सच ही तो है मित्रों, किसी भी काम को कल पर नही टालना चाहिए। क्योंकि आज का कल पर और कल का काम परसों पर, टालने से काम अधिक हो जायेगा। बासी काम, बासी भोजन की तरह अरुचीकर हो जायेगा। समय जैसे बहुमूल्य धन को सोने-चाँदी की तरह रखा नही जा सकता। क्योंकि समय तो गतिमान है। इस पर हमारा अधिकार तभी तक है, जब हम इसका सदुपयोग करें अन्यथा ये नष्ट हो जाता है।

समय का उपयोग धन के उपयोग से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है। क्योंकि हम सभी की सुख-सुविधा इसी पर निर्भर है। जो लोग समय के महत्व को समझते हैं वो विश्व पटल के इतिहास पर सदैव विद्यमान रहते हैं। इसलिए कहा गया है, time is money समय ही धन है।

चाणक्य के अनुसार- जो व्यक्ति जीवन में समय का ध्यान नही रखता, उसके हाँथ असफलता और पछतावा ही लगता है।

 समय का महत्व कैसे ?

समय का प्रबंधन प्रकृति से स्पष्ट समझा जा सकता है। समय का कालचक्र प्रकृति में नियमित है। जैसे- दिन-रात, ऋतुओं का समय पर आना-जाना है। यदि कहीं भी अनियमितता होती है तो, विनाश-लीला भी प्रकृति सीखा देती है। समय की उपेक्षा करने पर कई बार विजय का पासा पराजय में पलट जाता है। नेपोलियन ने आस्ट्रिया को इसलिए हरा दिया कि, वहाँ के सैनिकों ने पाँच मिनट का विलंब कर दिया था। लेकिन वहीं कुछ ही मिनटो में नेपोलियन बंदी बना लिया गया। क्योंकि उसका एक सेनापति कुछ विलंब से आया। वाटरलू के युद्ध में नेपोलियन की पराजय का सबसे बङा कारण समय की अवहेलना ही थी।

कहते हैं खोई दौलत फिर भी कमाई जा सकती है। भूली विद्या पुनः पाई जा सकती है। किन्तु खोया हुआ समय पुनः वापस नही लाया जा सकता। सिर्फ पश्चाताप ही शेष रह जाता है। समय के गर्भ में लक्ष्मी का अक्षय भंडार भरा हुआ है। किन्तु इसे वही पाते हैं, जो इसका सही उपयोग करते हैं। इसलिए कहा गया है, “जो मनुष्य वक्त का सदुपयोग करता है, एक क्षण भी बर्बाद नही करता है, वह बड़ा सौभाग्यवान होता है।“

ऐसी सोच बदल देगी जीवन
कैसे लाए बिज़्नेस में एकाग्रता
SEO क्या है – Complete Guide In Hindi बड़ी सोच से कैसे बदले जीवन

time is money के बारे मे फ्रैंकलिन ने कहा है –”समय बरबाद मत करो, क्योंकि समय से ही जीवन बना है।”

time is money अर्थात समय बहुत ही शक्तिशाली होता है; कोई भी इसके सामने घुटने टेक सकता है। लेकिन इसे हरा नहीं सकता। हम इसकी क्षमता को मापने में सक्षम नहीं है। क्योंकि कभी-कभी जीतने के लिए एक पल ही काफी होता है। और कभी-कभी जीतने के लिए पूरा जीवन लग जाता है।

समय के प्रत्येक क्षण के सुनियोजन की कला जानी और सीखी जा सकती है। यही वह परम दुर्लभ कुंजी है, जिसके माध्यम से जीवन के परम लक्ष्य, सफलता के सर्वोच्च सोपान की दहलीज पर कदम रखा जा सकता है। इसलिए, हमें इस कीमती समय को व्यर्थ नहीं  गवाना चाहिए और हमेशा इसका पूरा सकारात्मक उपयोग करना चाहिए।

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है । हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें ।

Leave a Comment

%d bloggers like this: