World Health Organisation का महत्वपूर्ण योगदान |

World Health Organisation परिचय-

World Health Organisation की स्थापना 07 अप्रैल 1948 को हुई थी| विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) विश्व के देशों की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं पर आपसी सहयोग एवं मानक विकसित करने की संस्था है|  World Health Organisation (WHO) संयुक्त राष्ट्र के 16 विशिष्ट अभिकरणों (Specialised Agencies) में से एक है| जिसका प्रमुख उद्देश्य विश्व स्वास्थ्य में प्रोन्नति लाना है| इसका उद्देश्य संसार के लोगो के स्वास्थ्य का स्तर ऊँचा करना है| WHO का मुख्यालय स्विट्ज़रलैण्ड के जिनेवा शहर में स्थित है|

यह विश्व का स्वास्थ्य सम्बंधी अग्रणी संगठन है| इसकी नीतियों, कार्यक्रमों तथा प्रयासों का अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जन स्वास्थ्य पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ा है| विश्व स्वास्थ्य संगठन की सेवाएं विश्व भर में फैली हैं| दुनिया का सबसे बड़ा ब्लड बैंक भी इन्हीं के पास है| मलेरिया, पोलियो, चेचक, हैजा, वायरल आदि कई बीमारियों को रोकने में विश्व स्वास्थ्य संगठन का विशेष योगदान रहा है| आज अपनी सही कार्यशैली और नियंत्रण की वजह से विश्व स्वास्थ्य संगठन को पूरी दुनिया में सम्मान की निगाहों से देखा जाता है| वर्तमान बोर्ड चेयरमैन डॉक्टर हर्ष वर्धन जी (भारत से) है | विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रयासों के परिणामस्वरूप विश्व स्वास्थ्य स्तर में अत्यधिक सुधार आया है|

विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्यक्रम WHO Programs

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा निम्नलिखित कार्यक्रमों के माध्यम से स्वास्थ्य सुधार तथा पोषण स्तर में वृद्धि का प्रयास किया गया :

  •  स्वास्थ्य- शिक्षा |
  •  भोजन, खाद्य- सुरक्षा एवं पोषण |
  • स्वच्छ जल एवं आधारभूत स्वच्छता |
  • टीकाकरण |
  •  स्थानीय रोगों की रोकथाम तथा उपचार |
  • सामान्य बीमारियों तथा घावों का इलाज |
  • अनिवार्य दवाओं की उपलब्धता, इत्यादि |

कार्य-

विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्य तीन विभिन्न तत्वों के द्वारा किये जाते हैं, जो हैं: विश्व स्वास्थ्य सभा (World Health Assembly) , कार्यपालक बोर्ड (Executive Board) तथा सचिवालय (Secretariat)| जिनमे से विश्व स्वास्थ्य सभा सबसे प्रमुख है, तथा प्रतिवर्ष अपने सभी सदस्य राष्ट्रों के प्रतिनिधियों के मध्य एक सम्मलेन का आयोजन करती है|

ज़िम्मेदारी-

विश्व स्वास्थ्य संगठन की जिम्मेदारियों तथा कार्य के अंतर्गत स्वास्थ्य सेवाएं सुदृढ करने में सरकारों की सहायता करना| प्रशासन तथा तकनीकी सुविधाओं को स्थापित एवं नियमित रूप से संचालित करना| जैसे क़ि महामारी विज्ञान तथा सांख्यिकी विज्ञान के आंकड़ें तैयार करना, बीमारियों के पूरी तरह से खात्मे में सहायता करना, पोषण, स्वच्छता, कार्य परिस्थितियां आदि में सुधार करना| साथ ही पर्यावरणीय स्वच्छता में सुधार करना| वैज्ञानिक तथा कुशल व्यक्ति समूहों के मध्य सहयोग स्थापित करवाना| स्वास्थ्य सुधार से सम्बंधित अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों तथा समझौतों को प्रस्तावित करना| शोध- अनुसन्धान करना|

वास्तव में, World Health Organisation एक अंतर्राष्ट्रीय सहयोगी संगठन है जो कि विश्व की स्वास्थ्य परिस्थितियों पर अपनी पैनी नजर रखती है| तथा विभिन्न राष्ट्रों के स्वास्थ्य स्तर को ऊपर लेन के लिए प्रयास करती है| जिससे कि समस्त विश्व समुदाय की स्वास्थ्य दशाओं को बेहतर किया जा सके|

World Health Organisation की उपलब्धिया-

WHO ने अपनी स्थापना के पहले दशक (वर्ष 1948-58) के दौरान विकासशील देशों के लाखों लोगों को प्रभावित करने वाले विशिष्ट संक्रामक रोगों पर प्रमुखता से ध्यान केंद्रित किया |
वर्ष 1958 से 1968 की अवधि में अफ्रीका में कई उपनिवेश स्वतंत्र हुए जो बाद में संगठन के सदस्य बन गए|

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 1960 के दशक में विश्व रासायनिक उद्योग (World Chemical Industry) के साथ मिलकर कार्य किया ताकि ओनोकोसेरिएसिस (रिवर ब्लाइंडनेस) और सिस्टोसोमियासिस (Schistosomiasis) के रोगवाहक से लड़ने के लिये नए कीटनाशक विकसित किये जा सकें| बीमारियों एवं मृत्यु के कारणों की नामपद्धति का वैश्विक मानकीकरण करना अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य संचार में WHO का महत्त्वपूर्ण योगदान था|

WHO की स्थापना के तीसरे दशक (1968-78) में विश्व में चेचक उन्मूलन के क्षेत्र में बड़ी सफलता प्राप्त हुई| वर्ष 1967 तक 31 देशों में चेचक स्थानिक रोग था | इससे लगभग 10 से 15 मिलियन लोग प्रभावित थे |
सभी प्रभावित देशों में सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यकर्त्ताओं की टीमों द्वारा इस विषय पर काम किया गया था जिसका WHO ने नेतृत्व एवं समन्वय किया |

इस विशाल अभियान से वैश्विक स्तर पर बच्चों को प्रभावित करने वाले छह रोगों डिप्थीरिया, टिटनेस, काली खाँसी, खसरा, पोलियोमाइलाइटिस ( poliomyelitis) एवं क्षय रोग के प्रति टीकाकरण (BCG वैक्सीन के साथ) का विस्तार किया|
राजनीतिक कारणों से लंबे असमंजस के बाद इस अवधि में WHO ने संपूर्ण विश्व में मानव प्रजनन पर अनुसंधान एवं विकास को बढ़ावा देकर परिवार नियोजन के क्षेत्र में प्रवेश किया| मलेरिया एवं कुष्ठ रोग के नियंत्रण के लिये भी नए प्रयास किये गए|

World Health Organisation की स्थापना के चौथे दशक (1978-88) की शुरुआत WHO और यूनिसेफ के एक वृहद् वैश्विक सम्मेलन द्वारा हुई| यह सम्मेलन सोवियत संघ के एशियाई हिस्से में स्थित एक शहर ‘अल्मा अता’ (Alma Ata) में आयोजित किया गया था| अल्मा अता सम्मेलन में प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल, निवारक एवं उपचारात्मक उपायों के महत्त्व पर बल दिया गया|
इस सम्मेलन में सामुदायिक भागीदारी पर बल देना, उपयुक्त तकनीक एवं अंतर्क्षेत्रीय सहयोग करना आदि विश्व स्वास्थ्य नीति के केंद्रीय स्तंभ बन गए|

विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्थापना के 30 वर्षों के उपरांत 134 सदस्य राष्ट्रों ने समान प्रतिबद्धताओं की पुष्टि की जो कि इसके ध्येय वाक्य ‘सभी के लिये स्वास्थ्य’ (Health for All) में सन्निहित है|

अंतर्राष्ट्रीय पेयजल आपूर्ति– संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा वर्ष 1980 में सभी के लिये सुरक्षित पेयजल एवं पर्याप्त उत्सर्जन निपटान के प्रावधान हेतु की गई ‘अंतर्राष्ट्रीय पेयजल आपूर्ति एवं स्वच्छता दशक’ (वर्ष 1981-90) की घोषणा World Health Organisation  द्वारा समर्थित थी|
इस अवधि में प्रत्येक देश को वैश्विक बाज़ारों में बेचे जाने वाले हजारों ब्रांड के उत्पादों के बजाय सभी सार्वजनिक सुविधाओं में उपयोग के लिये ‘आवश्यक दवाओं’ की एक सूची विकसित करने के लिये प्रोत्साहित किया गया था|

डायरिया बीमारी पर नियंत्रण– ओरल रिहाइड्रेशन थेरेपी द्वारा संपूर्ण विश्व में शिशुओं में होने वाली डायरिया नामक बीमारी पर नियंत्रण एक और बड़ी सफलता थी जो कि बहुत ही सरल सिद्धांतों पर आधारित थी|
नेटवर्क: वर्ष 1995 में कांगो में इबोला वायरस का प्रकोप जिससे WHO तीन महीने तक अनभिज्ञ रहा, ने वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य निगरानी एवं अधिसूचना प्रणालियों की एक चौंकाने वाली कमी का खुलासा किया|

अतः वर्ष 1997 में WHO ने कनाडा के साथ मिलकर ‘ग्लोबल पब्लिक हेल्थ इंटेलिजेंस नेटवर्क’ (Global Public Health Intelligence Network-GPHIN) को सभी जगह प्रसारित किया जिसने संभावित महामारियों की सूचना देने के लिये प्रारंभिक चेतावनी प्रणाली के रूप में कार्य करने हेतु इंटरनेट तकनीक का लाभ उठाया|

WHO ने वर्ष 2000 में GPHIN को ‘ग्लोबल आउटब्रेक अलर्ट रिस्पांस नेटवर्क’ (Global Outbreak Alert Response Network-GOARN) के साथ घटनाओं का विश्लेषण करने के लिये जोड़ दिया|
GOARN ने 120 नेटवर्क एवं संस्थानों को किसी भी संकट के प्रति तीव्र कार्रवाई करने के उद्देश्य से डेटा प्रयोगशालाओं, कौशल एवं अनुभव के साथ जोड़ दिया|

World Health Organisation द्वारा किये गए अन्य प्रयास:

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कैंसर से निपटने के लिये भी अपने प्रयासों में वृद्धि की है जो समृद्ध राष्ट्रों की तरह ही अब विकासशील देशों में भी मौतों का कारण बन रहा है|तंबाकू पुरुषों एवं महिलाओं दोनों की होने वाली मौतों का सबसे बड़ा कारण है|
इन मौतों को रोकने के लिये WHO द्वारा प्रत्येक देश में तंबाकू के सेवन को प्रतिबंधित करने के लिये प्रयास किये जा रहे हैं|

एड्स की विश्वव्यापी महामारी ने इस घातक यौन संचारित वायरस के प्रसार को रोकने के लिये बढ़ते वैश्विक प्रयासों के बीच WHO के लिये एक और चुनौती पेश की है| WHO एचआईवी पीड़ितों के स्व-परीक्षण की सुविधा पर कार्य कर रहा है ताकि HIV पीड़ित अधिक लोगों को उनकी स्थिति का पता चल सके और वे सही उपचार प्राप्त कर सकें| इसी प्रकार कोरोना भी   एक विश्वव्यापी महामारी है जो विश्व एव विश्व स्वास्थ्य संगठन के लिए चुनौती बना हुआ है |

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

यह भी पढ़े –

success rules सफलता आन्तरिक नियमो से मिलती है |

secret of success सफलता का रहस्य क्या है ? सफलता के मूल मंत्र जानिए | success mantra
success definition सफलता की परिभाषा क्या है ? web hosting service अथवा एक वेब होस्ट की आवश्यकता क्या है?
web hosting  क्या है? सम्पूर्ण जानकारी What is Web Hosting in Hindi? वेब होस्टिंग क्या है?
Conference Call Kya Hai? Conference Call Kaise Kare? – जानिए? web hosting free Top Company जानिए WordPress Blog के लिए

महाभारत की सम्पूर्ण कथा! Complete Mahabharata Story In Hindi

ऑनलाइन शिक्षा के फायदे और नुकसान क्या है ?

पहला अध्याय – Chapter First – Durga Saptashati

ऐसी सोच बदल देगी जीवन कैसे लाए बिज़्नेस में एकाग्रता
लाइफ़ की क्वालिटी क्या है बड़ी सोच से कैसे बदले जीवन
सफलता की राह कैसे चले अमीरों के रास्ते कैसे होते है
कैसे सोचे leader की तरह किस तरह बड़ी सोच पहुँचाती है शिखर पर
क्या आप डर से डरते हो या डर को भगाते हों ? गौमाता के बारे में रोचक तथ्य
सक्सेस होने के रूल हेल्थ ही असली धन है
stay healthy eat healthy स्वस्थ रहें, स्वस्थ खाएं कैसे ?

Happy birthday message आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं


World Health Organization Introduction-

The World Health Organization was established on 07 April 1948. WHO is an organization to develop mutual support and standards on the health problems of the countries of the world. The World Health Organization (WHO) is one of the 16 specialized agencies of the United Nations. The main aim of this is to promote world health. Its aim is to raise the level of health of the people of the world. The headquarters of WHO is located in the city of Geneva, Switzerland.

It is the world’s leading health organization. Its policies, programs, and efforts have had a great impact on public health internationally. The services of the World Health Organization are spread across the globe. They also have the world’s largest blood bank. The World Health Organization has been a special contributor to the prevention of many diseases like malaria, polio, smallpox, cholera, viral, etc. Today, due to its correct functioning and control, the World Health Organization is viewed with respect from all over the world. The current board chairman is Dr. Harsh Vardhan Ji (from India). As a result of the efforts of the World Health Organization, the world health standard has improved tremendously.

WHO Programs of the World Health Organization

The World Health Organization has attempted to improve health and increase nutrition levels through the following programs:

health education.
Food, Food Safety, and Nutrition.
Clean water and basic sanitation.
Vaccination.
Prevention and treatment of local diseases.
Treatment of common diseases and wounds.
Availability of essential medicines, etc.
Work-

The work of the World Health Organization is carried out by three different elements, namely, the World Health Assembly, the Executive Board, and the Secretariat. Of which the World Health Assembly is the most prominent, and annually organizes a conference among the representatives of all its member nations.

Responsibility

Assisting governments in strengthening health services under the responsibilities and functions of the World Health Organization. Establish and regularly administer administrative and technical facilities. Such as preparation of statistics of epidemiology and statistics, assisting in the complete eradication of diseases, improving nutrition, hygiene, working conditions, etc., as well as improving environmental hygiene. To establish cooperation between scientific and skilled groups. To propose international conventions and agreements related to health reform. Research research

In fact, the World Health Organization is an international support organization that closely monitors the health conditions of the world. And tries to uplift the health level of various nations. So that the health conditions of the entire world community can be improved.

Achievements of the World Health Organization-

During the first decade (1948–58), the WHO focused prominently on specific infectious diseases affecting millions of people in developing countries.
During the period 1958 to 1968 several colonies in Africa became independent which later became members of the organization.

The World Health Organization worked with the World Chemical Industry in the 1960s to develop new pesticides to fight against the disease of Onococeriasis and Schistosomiasis. WHO’s a significant contribution to international health communication was to standardize the designation.

In the third decade (1968–78) of the establishment of the WHO, great success was achieved in the field of smallpox eradication. By 1967, smallpox was endemic in 31 countries. About 10 to 15 million people were affected by this.
The subject was worked on by teams of public health workers in all affected countries, which was led and coordinated by WHO.

This massive campaign expanded vaccination (with BCG vaccine) against six diseases affecting children globally, diphtheria, tetanus, whooping cough, measles, poliomyelitis, and tuberculosis.
After long confusion due to political reasons, during this period WHO entered the field of family planning by promoting research and development on human reproduction all over the world. New efforts were also made to control malaria and leprosy.

The fourth decade (1978–88) of the founding of the World Health Organization began with a large global conference of WHO and UNICEF. The conference was held in Alma Ata, a city in the Asian part of the Soviet Union. The Alma Ata conference stressed the importance of primary health care, preventive and remedial measures.
In this conference, emphasis on community participation, appropriate technology, and inter-regional cooperation, etc. became the central pillars of the World Health Policy.

After 30 years of the establishment of the World Health Organization, 134 member nations reaffirmed similar commitments embodied in its motto ‘Health for All’.

International drinking water supply – safe drinking water and adequate emissions for all by the United Nations General Assembly in the year 1980

The declaration of ‘International Drinking Water Supply and Sanitation Decade’ (the year 1981-90) for the provision of disposal was supported by the WHO.
During this period, each country was encouraged to develop a list of ‘essential medicines’ for use in all public facilities rather than thousands of brand products sold in global markets.

Diarrheal disease control- Another major breakthrough was the control of the disease called diarrhea caused by infants around the world through oral rehydration therapy based on very simple principles.
Network: The Ebola virus outbreak in Congo in 1995, which left the WHO unaware for three months, revealed a shocking lack of global public health monitoring and notification systems.

Therefore, in 1997, WHO in collaboration with Canada disseminated the ‘Global Public Health Intelligence Network-GPHIN’, which provided Internet technology to act as an early warning system to report potential epidemics. Took advantage of.

In 2000, the WHO combined GPHIN with the Global Outbreak Alert Response Network-GOARN to analyze events.
GOARN connected 120 networks and institutions with data laboratories, skills, and experience with the aim of taking swift action against any crisis.

Other efforts by the World Health Organization:

The World Health Organization has also increased its efforts to combat cancer, which, like rich nations, is now causing deaths in developing countries as well. Tobacco is the leading cause of death of both men and women.
To prevent these deaths, efforts are being made by WHO to restrict tobacco consumption in each country.

The worldwide epidemic of AIDS presents yet another challenge for the WHO amid growing global efforts to stop the spread of this deadly sexually transmitted virus. The WHO is working on a self-test facility for HIV victims to help more HIV-affected people To know their condition and to get the right treatment. Similarly, the corona is also a worldwide epidemic that remains a challenge for the world and the World Health Organization.

%d bloggers like this: