चाणक्य नीति ग्यारहवां अध्याय | Chanakya Neeti Eleventh Chapter

चाणक्य नीति ग्यारहवां अध्याय

उदारता, वचनों में मधुरता, साहस, आचरण में विवेक ये बाते कोई पा नहीं सकता ये मूल में होनी चाहिए.
Generosity, pleasing address, courage and propriety of conduct are not acquired, but are inbred qualities.

जो अपने समाज को छोड़कर दुसरे समाज को जा मिलता है, वह उसी राजा की तरह नष्ट हो जाता है जो अधर्म के मार्ग पर चलता है.

He who forsakes his own community and joins another perishes as the king who embraces an unrighteous path.

हाथी का शरीर कितना विशाल है लेकिन एक छोटे से अंकुश से नियंत्रित हो जाता है.

एक दिया घने अन्धकार का नाश करता है, क्या अँधेरे से दिया बड़ा है.
एक कड़कती हुई बिजली एक पहाड़ को तोड़ देती है, क्या बिजली पहाड़ जितनी विशाल है.
जी नहीं. बिलकुल नहीं. वही बड़ा है जिसकी शक्ति छा जाती है. इससे कोई फरक नहीं पड़ता की आकार कितना है.
The elephant has a huge body but is controlled by the ankusha (goad): yet, is the goad as large as the elephant? A lighted candle banishes darkness: is the candle as vast as the darkness. A mountain is broken even by a thunderbolt: is the thunderbolt therefore as big as the mountain? No, he whose power prevails is really mighty; what is there in bulk?

जो घर गृहस्थी के काम में लगा रहता है वह कभी ज्ञान प्राप्त नहीं कर सकता. मॉस खाने वाले के ह्रदय में दया नहीं हो सकती. लोभी व्यक्ति कभी सत्य भाषण नहीं कर सकता. और एक शिकारी में कभी शुद्धता नहीं हो सकती.

He who is engrossed in family life will never acquire knowledge; there can be no mercy in the eater of flesh; the greedy man will not be truthful; and purity will not be found in a woman and a hunter.

एक दुष्ट व्यक्ति में कभी पवित्रता उदीत नहीं हो सकती उसे चाहे जैसे समझा लो. नीम का वृक्ष कभी मीठा नहीं हो सकता आप चाहे उसकी शिखा से मूल तक घी और शक्कर छिड़क दे.

The wicked man will not attain sanctity even if he is instructed in different ways, and the nim tree will not become sweet even if it is sprinkled from the top to the roots with milk and ghee.

आप चाहे सौ बार पवित्र जल में स्नान करे, आप अपने मन का मैल नहीं धो सकते. उसी प्रकार जिस प्रकार मदिरा का पात्र पवित्र नहीं हो सकता चाहे आप उसे गरम करके सारी मदिरा की भाप बना दे.

Mental dirt cannot be washed away even by one-hundred baths in the sacred waters, just as a wine pot cannot be purified even by evaporating all the wine by fire.

इसमें कोई आश्चर्य नहीं की व्यक्ति उन बातो के प्रति अनुदगार कहता है जिसका उसे कोई ज्ञान नहीं. उसी प्रकार जैसे एक जंगली शिकारी की पत्नी हाथी के सर का मणि फेककर गूंजे की माला धारण करती है.

It is not strange if a man reviles (Degrades) a thing of which he has no knowledge, just as a wild hunter’s wife throws away the pearl that is found in the head of an elephant, and picks up a gunj(a type of seed which poor tribals wear as ornaments).

जो व्यक्ति एक साल तक भोजन करते समय भगवान् का ध्यान करेगा और मुह से कुछ नहीं बोलेगा उसे एक हजार करोड़ वर्ष तक स्वर्ग लोक की प्राप्ति होगी.
He who for one year eats his meals silently (inwardly meditating upon the Lord’s prasadam); attains to the heavenly planets for a thousand crore of years. ( Note: one crore equals ten million)

एक विद्यार्थी पूर्ण रूप से निम्न लिखित बातो का त्याग करे.

१. काम २. क्रोध ३. लोभ ४. स्वादिष्ट भोजन की अपेक्षा. ५. शरीर का शृंगार ६. अत्याधिक जिज्ञासा ७. अधिक निद्रा ८. शरीर निर्वाह के लिए अत्याधिक प्रयास.
The student (brahmacari) should completely renounce the following eight things — his lust, anger, greed, desire for sweets, sense of decorating the body, excessive curiosity, excessive sleep, and excessive endeavour for bodily maintenance.

वही सही में ब्राह्मण है जो केवल एक बार के भोजन से संतुष्ट रहे, जिस पर १६ संस्कार किये गए हो, जो अपनी पत्नी के साथ महीने में केवल एक दिन समागम करे. माहवारी समाप्त होने के दुसरे दिन. (चाणक्य नीति ग्यारहवां अध्याय)

He alone is a true brahmana (dvija or “twice-born”) who is satisfied with one meal a day, who has the six samskaras (or acts of purification such as garbhadhana, etc.) performed for him, and who cohabits with his wife only once in a month on an auspicious day after her menses.

वह ब्राह्मण जो दुकानदारी में लगा है, असल में वैश्य ही है.

The brahmana who is engrossed in worldly affairs, brings up cows and is engaged in trade is really called a vaishya.
निम्न स्तर के लोगो से जिस व्यवसाय में संपर्क आता है, वह व्यवसाय ब्राह्मण को शुद्र बना देता है.
The brahmana who deals in lac-die, articles, oil, indigo, silken cloth, honey, clarified butter, liquor, and flesh is called a shudra.

बड़ी सोच

धार्मिक कहानियाँ News social media game

success definition

महाभारत की सम्पूर्ण कथा!

2020 की आखिरी मन की बात

blood donate रक्तदान महादान या 

Free fire game 

कैसे बने lucky भाग्यशाली

सम्पूर्ण Durga Saptashati

अब coronil (कोरोनिल) tablet से covid-19 का इलाज 

blood donation camp लोगो को

Android के लिए शीर्ष 5 सर्वश्रेष्ठ 3d games

धैर्य साथ छोड़ने लगे तो

नारायण मंत्र दिया नारद ने

Coronil दवा पर आचार्य बालकृष्ण का ट्वीट

पेड़ बचाओ जीवन बचाओ |जानिए कैसे ?

Best FPS games

distress यानि संकट में भी अवसर

भगवान दत्तात्रेय के जन्म की यह

दीपावली विशेष गाय के गोबर से बनाए

world environment day विश्व पर्यावरण दिवस 

Best Idle Clicker Games

Grateful बनो greatfool नहीं

भगवान विष्णु के 24 अवतार

history of cricket

फेसबुक (Facebook) क्या है ?

How To Enable God Mode On

decision making 

भगवान विष्णु का वाहन गरुड़

ITR (Income Tax Return) फाइल कैसे करे?

Save water यानि 

विंडोज के लिए शीर्ष 10 सर्वश्रेष्ठ


वह ब्राह्मण जो दुसरो के काम में अड़ंगे डालता है, जो दम्भी है, स्वार्थी है, धोखेबाज है, दुसरो से घृणा करता है और बोलते समय मुह में मिठास और ह्रदय में क्रूरता रखता है, वह एक बिल्ली के समान है. (चाणक्य नीति ग्यारहवां अध्याय)

The brahmana who thwarts the doings of others, who is hypocritical, selfish, and a deceitful hater, and while speaking mildly cherishes cruelty in his heart, is called a cat.( चाणक्य नीति ग्यारहवां अध्याय)


एक ब्राह्मण जो तालाब को, कुए को, टाके को, बगीचे को और मंदिर को नष्ट करता है, वह म्लेच्छ है.

The brahmana who destroys a pond, a well, a tank, a garden and a temple is called a mleccha.

वह ब्राह्मण जो भगवान् के मूर्ति की सम्पदा चुराता है और वह अध्यात्मिक गुरु जो दुसरे की पत्नी के साथ समागम करता है और जो अपना गुजारा करने के लिए कुछ भी और सब कुछ खाता है वह चांडाल है. (चाणक्य नीति ग्यारहवां अध्याय)
The brahmana who steals the property of the Deities and the spiritual preceptor, who cohabits with another’s wife, and who maintains himself by eating anything and everything s called a chandala.

एक गुणवान व्यक्ति को वह सब कुछ दान में देना चाहिए जो उसकी आवश्यकता से अधिक है. केवल दान के कारण ही कर्ण, बाली और राजा विक्रमादित्य आज तक चल रहे है. देखिये उन मधु मख्खियों को जो अपने पैर दुखे से धारती पर पटक रही है. वो अपने आप से कहती है ” आखिर में सब चला ही गया. हमने हमारे शहद को जो बचा कर रखा था, ना ही दान दिया और ना ही खुद खाया. अभी एक पल में ही कोई हमसे सब छीन कर चला गया.”
The meritorious should give away in charity all that they have in excess of their needs. By charity only Karna, Bali and King Vikramaditya survive even today. Just see the plight of the honeybees beating their legs in despair upon the earth. They are saying to themselves, “Alas! We neither enjoyed our stored-up honey nor gave it in charity, and now someone has taken it from us in an instant.”
हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

1 thought on “चाणक्य नीति ग्यारहवां अध्याय | Chanakya Neeti Eleventh Chapter”

Leave a Comment

%d bloggers like this: