जटायु-रावण-युद्ध, अशोक वाटिका में सीताजी को रखना

जटायु-रावण-युद्ध, अशोक वाटिका में सीताजी को रखना

* गीधराज सुनि आरत बानी। रघुकुलतिलक नारि पहिचानी॥
अधम निसाचर लीन्हें जाई। जिमि मलेछ बस कपिला गाई॥4॥
भावार्थ : गृध्रराज जटायु ने सीताजी की दुःखभरी वाणी सुनकर पहचान लिया कि ये रघुकुल तिलक श्री रामचन्द्रजी की पत्नी हैं। (उसने देखा कि) नीच राक्षस इनको (बुरी तरह) लिए जा रहा है, जैसे कपिला गाय म्लेच्छ के पाले पड़ गई हो॥4॥
* सीते पुत्रि करसि जनि त्रासा। करिहउँ जातुधान कर नासा॥
धावा क्रोधवंत खग कैसें। छूटइ पबि परबत कहुँ जैसें॥5॥
भावार्थ : (वह बोला-) हे सीते पुत्री! भय मत कर। मैं इस राक्षस का नाश करूँगा। (यह कहकर) वह पक्षी क्रोध में भरकर ऐसे दौड़ा, जैसे पर्वत की ओर वज्र छूटता हो॥5॥
* रे रे दुष्ट ठाढ़ किन हो ही। निर्भय चलेसि न जानेहि मोही॥
आवत देखि कृतांत समाना। फिरि दसकंधर कर अनुमाना॥6॥
भावार्थ : (उसने ललकारकर कहा-) रे रे दुष्ट! खड़ा क्यों नहीं होता? निडर होकर चल दिया! मुझे तूने नहीं जाना? उसको यमराज के समान आता हुआ देखकर रावण घूमकर मन में अनुमान करने लगा-॥6॥
* की मैनाक कि खगपति होई। मम बल जान सहित पति सोई॥
जाना जरठ जटायू एहा। मम कर तीरथ छाँड़िहि देहा॥7॥
भावार्थ : यह या तो मैनाक पर्वत है या पक्षियों का स्वामी गरुड़। पर वह (गरुड़) तो अपने स्वामी विष्णु सहित मेरे बल को जानता है! (कुछ पास आने पर) रावण ने उसे पहचान लिया (और बोला-) यह तो बूढ़ा जटायु है। यह मेरे हाथ रूपी तीर्थ में शरीर छोड़ेगा॥7॥
* सुनत गीध क्रोधातुर धावा। कह सुनु रावन मोर सिखावा॥
तजि जानकिहि कुसल गृह जाहू। नाहिं त अस होइहि बहुबाहू॥8॥
भावार्थ : यह सुनते ही गीध क्रोध में भरकर बड़े वेग से दौड़ा और बोला- रावण! मेरी सिखावन सुन। जानकीजी को छोड़कर कुशलपूर्वक अपने घर चला जा। नहीं तो हे बहुत भुजाओं वाले! ऐसा होगा कि-॥8॥
* राम रोष पावक अति घोरा। होइहि सकल सलभ कुल तोरा॥
उतरु न देत दसानन जोधा। तबहिं गीध धावा करि क्रोधा॥9॥
भावार्थ : श्री रामजी के क्रोध रूपी अत्यन्त भयानक अग्नि में तेरा सारा वंश पतिंगा (होकर भस्म) हो जाएगा। योद्धा रावण कुछ उत्तर नहीं देता। तब गीध क्रोध करके दौड़ा॥9॥
* धरि कच बिरथ कीन्ह महि गिरा। सीतहि राखि गीध पुनि फिरा॥
चोचन्ह मारि बिदारेसि देही। दंड एक भइ मुरुछा तेही॥10॥
भावार्थ : उसने (रावण के) बाल पकड़कर उसे रथ के नीचे उतार लिया, रावण पृथ्वी पर गिर पड़ा। गीध सीताजी को एक ओर बैठाकर फिर लौटा और चोंचों से मार-मारकर रावण के शरीर को विदीर्ण कर डाला। इससे उसे एक घड़ी के लिए मूर्च्छा हो गई॥10॥
* तब सक्रोध निसिचर खिसिआना। काढ़ेसि परम कराल कृपाना॥
काटेसि पंख परा खग धरनी। सुमिरि राम करि अदभुत करनी॥11॥
भावार्थ : तब खिसियाए हुए रावण ने क्रोधयुक्त होकर अत्यन्त भयानक कटार निकाली और उससे जटायु के पंख काट डाले। पक्षी (जटायु) श्री रामजी की अद्भुत लीला का स्मरण करके पृथ्वी पर गिर पड़ा॥11॥
* सीतहि जान चढ़ाइ बहोरी। चला उताइल त्रास न थोरी॥
करति बिलाप जाति नभ सीता। ब्याध बिबस जनु मृगी सभीता॥12॥
भावार्थ : सीताजी को फिर रथ पर चढ़ाकर रावण बड़ी उतावली के साथ चला। उसे भय कम न था। सीताजी आकाश में विलाप करती हुई जा रही हैं। मानो व्याधे के वश में पड़ी हुई (जाल में फँसी हुई) कोई भयभीत हिरनी हो!॥12॥
* गिरि पर बैठे कपिन्ह निहारी। कहि हरि नाम दीन्ह पट डारी॥
एहि बिधि सीतहि सो लै गयऊ। बन असोक महँ राखत भयऊ॥13॥
भावार्थ : पर्वत पर बैठे हुए बंदरों को देखकर सीताजी ने हरिनाम लेकर वस्त्र डाल दिया। इस प्रकार वह सीताजी को ले गया और उन्हें अशोक वन में जा रखा॥13॥
दोहा :
* हारि परा खल बहु बिधि भय अरु प्रीति देखाइ।
तब असोक पादप तर राखिसि जतन कराइ॥29 क॥
भावार्थ : सीताजी को बहुत प्रकार से भय और प्रीति दिखलाकर जब वह दुष्ट हार गया, तब उन्हें यत्न कराके (सब व्यवस्था ठीक कराके) अशोक वृक्ष के नीचे रख दिया॥29 (क)॥

success definition सफलता की परिभाषा क्या है ?

जानिए,आप महत्वपूर्ण बन रहे है,अथवा महत्वहीन |

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |


Jatayu-Ravana-war, keeping Sitaji in Ashoka Vatika
Gridhraj Jatayu, hearing Sita’s sad voice, recognized that she was the wife of Raghukul Tilak Shri Ramachandraji. (He saw that) The lowly demon is being taken (badly), like Kapila, the cow has fallen frost of Mlechha.
(He said-) Oh dear daughter! Do not fear I will destroy this monster. (Having said this), the bird ran in anger, as if it were going towards the mountain.
(He said deftly-) Ray, wicked! Why not stand up? Walked fearlessly! I do not know you? Seeing him coming like Yamraj, Ravana turned around and started guessing in the mind.
It is either Manak Parvat or Garuda, the lord of birds. But he (Garuda) knows my strength including his master Vishnu! (On approaching something) Ravana recognized him (and said-) This is old jatayu. This will leave my body in my pilgrimage form.
On hearing this, Gidha ran in a high speed in anger and said – Ravana! Listen to my teachings. Leaving Janaki ji efficiently go home. Otherwise hey many arms! It will happen that – 4
In the terrible fire of the wrath of Shri Ramji, all your descendants will become Patanga (consumed). The warrior Ravana does not answer anything. Then Gidha ran in anger.
He grabbed the hair of Ravana and took it under the chariot, Ravana fell on the earth. Gidha returned to Sitaji on one side and beat Ravana’s body with a beak. This made him unconscious for one hour.
Then the eroded Ravan got angry and took out a terrible dagger and cut Jatayu’s wings from it. The bird (Jatayu) remembered the wonderful leela of Shri Ramji and fell on the earth.
Ravan walked with great impetus by putting Sitaji on the chariot again. He was not afraid. Sitaji is mourning in the sky. It is as if there is a frightened deer lying in the control of a victim (trapped in a trap)!
Seeing the monkeys sitting on the mountain, Sitaji took a sack and put on his clothes. Thus he took Sitaji and kept him in Ashoka forest.
After showing a lot of fear and love to Sita, when that wicked was defeated, then he made them diligently (after making all the arrangements correct) and placed them under the Ashoka tree.

1 thought on “जटायु-रावण-युद्ध, अशोक वाटिका में सीताजी को रखना”

Leave a Comment

%d bloggers like this: