संतों के लक्षण और सत्संग भजन के लिए प्रेरणा

संतों के लक्षण और सत्संग भजन के लिए प्रेरणा

* जे न भजहिं अस प्रभु भ्रम त्यागी। ग्यान रंक नर मंद अभागी॥
पुनि सादर बोले मुनि नारद। सुनहु राम बिग्यान बिसारद॥2॥
भावार्थ : जो मनुष्य भ्रम को त्यागकर ऐसे प्रभु को नहीं भजते, वे ज्ञान के कंगाल, दुर्बुद्धि और अभागे हैं। फिर नारद मुनि आदर सहित बोले- हे विज्ञान-विशारद श्री रामजी! सुनिए-॥2॥
* संतन्ह के लच्छन रघुबीरा। कहहु नाथ भव भंजन भीरा॥
सुनु मुनि संतन्ह के गुन कहऊँ। जिन्ह ते मैं उन्ह कें बस रहऊँ॥3॥
भावार्थ : ऐ हे रघुवीर! हे भव-भय (जन्म-मरण के भय) का नाश करने वाले मेरे नाथ! अब कृपा कर संतों के लक्षण कहिए! (श्री रामजी ने कहा-) हे मुनि! सुनो, मैं संतों के गुणों को कहता हूँ, जिनके कारण मैं उनके वश में रहता हूँ॥3॥
* षट बिकार जित अनघ अकामा। अचल अकिंचन सुचि सुखधामा॥
अमित बोध अनीह मितभोगी। सत्यसार कबि कोबिद जोगी॥4॥
भावार्थ : वे संत (काम, क्रोध, लोभ, मोह, मद और मत्सर- इन) छह विकारों (दोषों) को जीते हुए, पापरहित, कामनारहित, निश्चल (स्थिरबुद्धि), अकिंचन (सर्वत्यागी), बाहर-भीतर से पवित्र, सुख के धाम, असीम ज्ञानवान्‌, इच्छारहित, मिताहारी, सत्यनिष्ठ, कवि, विद्वान, योगी,॥4॥

नारद-राम संवाद

* सावधान मानद मदहीना। धीर धर्म गति परम प्रबीना॥5॥
भावार्थ : सावधान, दूसरों को मान देने वाले, अभिमानरहित, धैर्यवान, धर्म के ज्ञान और आचरण में अत्यंत निपुण,॥5॥
दोहा :
* गुनागार संसार दुख रहित बिगत संदेह।
तजि मम चरन सरोज प्रिय तिन्ह कहुँ देह न गेह॥45॥
भावार्थ : गुणों के घर, संसार के दुःखों से रहित और संदेहों से सर्वथा छूटे हुए होते हैं। मेरे चरण कमलों को छोड़कर उनको न देह ही प्रिय होती है, न घर ही॥45॥
चौपाई :
* निज गुन श्रवन सुनत सकुचाहीं। पर गुन सुनत अधिक हरषाहीं॥
सम सीतल नहिं त्यागहिं नीती। सरल सुभाउ सबहि सन प्रीति॥1॥
भावार्थ : कानों से अपने गुण सुनने में सकुचाते हैं, दूसरों के गुण सुनने से विशेष हर्षित होते हैं। सम और शीतल हैं, न्याय का कभी त्याग नहीं करते। सरल स्वभाव होते हैं और सभी से प्रेम रखते हैं॥1॥
* जप तप ब्रत दम संजम नेमा। गुरु गोबिंद बिप्र पद प्रेमा॥
श्रद्धा छमा मयत्री दाया। मुदिता मम पद प्रीति अमाया॥2॥
भावार्थ : वे जप, तप, व्रत, दम, संयम और नियम में रत रहते हैं और गुरु, गोविंद तथा ब्राह्मणों के चरणों में प्रेम रखते हैं। उनमें श्रद्धा, क्षमा, मैत्री, दया, मुदिता (प्रसन्नता) और मेरे चरणों में निष्कपट प्रेम होता है॥2॥
* बिरति बिबेक बिनय बिग्याना। बोध जथारथ बेद पुराना॥
दंभ मान मद करहिं न काऊ। भूलि न देहिं कुमारग पाऊ॥3॥
भावार्थ : तथा वैराग्य, विवेक, विनय, विज्ञान (परमात्मा के तत्व का ज्ञान) और वेद-पुराण का यथार्थ ज्ञान रहता है। वे दम्भ, अभिमान और मद कभी नहीं करते और भूलकर भी कुमार्ग पर पैर नहीं रखते॥3॥
* गावहिं सुनहिं सदा मम लीला। हेतु रहित परहित रत सीला॥
मुनि सुनु साधुन्ह के गुन जेते। कहि न सकहिं सादर श्रुति तेते॥4॥
भावार्थ : यद्यपि प्रभु के अनेकों नाम हैं और वेद कहते हैं कि वे सब एक से एक बढ़कर हैं, तो भी हे नाथ! रामनाम सब नामों से बढ़कर हो और पाप रूपी पक्षियों के समूह के लिए यह वधिक के समान हो॥4॥
छंद :
* कहि सक न सारद सेष नारद सुनत पद पंकज गहे।
अस दीनबंधु कृपाल अपने भगत गुन निज मुख कहे॥
सिरु नाइ बारहिं बार चरनन्हि ब्रह्मपुर नारद गए।
ते धन्य तुलसीदास आस बिहाइ जे हरि रँग रँए॥
भावार्थ : ‘शेष और शारदा भी नहीं कह सकते’ यह सुनते ही नारदजी ने श्री रामजी के चरणकमल पकड़ लिए। दीनबंधु कृपालु प्रभु ने इस प्रकार अपने श्रीमुख से अपने भक्तों के गुण कहे। भगवान्‌ के चरणों में बार-बार सिर नवाकर नारदजी ब्रह्मलोक को चले गए। तुलसीदासजी कहते हैं कि वे पुरुष धन्य हैं, जो सब आशा छोड़कर केवल श्री हरि के रंग में रँग गए हैं।
दोहा :
* रावनारि जसु पावन गावहिं सुनहिं जे लोग।
राम भगति दृढ़ पावहिं बिनु बिराग जप जोग॥46 क॥
भावार्थ : जो लोग रावण के शत्रु श्री रामजी का पवित्र यश गावेंगे और सुनेंगे, वे वैराग्य, जप और योग के बिना ही श्री रामजी की दृढ़ भक्ति पावेंगे॥46 (क)॥
* दीप सिखा सम जुबति तन मन जनि होसि पतंग।
भजहि राम तजि काम मद करहि सदा सतसंग॥46 ख॥
भावार्थ : युवती स्त्रियों का शरीर दीपक की लौ के समान है, हे मन! तू उसका पतिंगा न बन। काम और मद को छोड़कर श्री रामचंद्रजी का भजन कर और सदा सत्संग कर॥46 (ख)॥
मासपारायण, बाईसवाँ विश्राम इति श्रीमद्रामचरितमानसे सकलकलिकलुषविध्वंसने तृतीयः सोपानः समाप्तः। कलियुग के संपूर्ण पापों को विध्वंस करने वाले श्री रामचरितमानस का यह तीसरा सोपान समाप्त हुआ। (अरण्यकाण्ड समाप्त)
यह भी पढ़े –

कैसे बने lucky भाग्यशाली occupation के क्षेत्र में ?

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |


Signs of saints and inspiration for satsang bhajan
Those who do not abandon illusion and worship such a lord, they are pauper of knowledge, unintelligent and unfortunate. Then Narada Muni said with respect – O science-wise Shri Ramji! Listen-.
Hey O Raghuveer! O my grandfather who destroys bhav-bhaya (fear of birth and death)! Now please tell the signs of saints! (Shri Ramji said-) O Muni! Listen, I say the qualities of saints, because of which I live under their control.
Those saints (Kama, Rage, Greed, Moh, Mad and Matsar-in) live the six vikas (doshas), sinless, uncircumcised, nishchal (stable), akichan (omnipotent), holy from outside, the abode of happiness, Infinite knowledgeable, wishless, Mitahari, truthful, poet, scholar, yogi,
Careful, respectful to others, arrogant, patient, extremely skillful in knowledge and conduct of religion,
The houses of virtues are devoid of sorrows of the world and completely untouched by doubts. Except for my feet, they are neither dear to my body nor home.
They are able to listen to their qualities with their ears, they are especially happy by listening to the qualities of others. They are cold and cold, never giving up justice. He is simple and loves everyone.
They are engaged in chanting, penance, fasting, courage, restraint and niyam and have love at the feet of Guru, Govind and Brahmin. In them there is reverence, forgiveness, friendship, kindness, mudita (happiness) and genuine love at my feet.
And there is accurate knowledge of Vairagya, Vivek, Vinaya, Vigyan (knowledge of the essence of God) and Veda-Purana. They never do boast, pride and item and do not forget to set foot on the doorway.
Although the Lord has many names and the Vedas say that they are all greater than one, yet O Nath! Ramnam should be more than all names and for a group of sinful birds it should be like a law.
On hearing this, ‘Shesh and Sharada also cannot say’ Naradji took hold of Shri Ramji’s feet. Deenbandhu Kripalu Prabhu thus spoke to his Shrimukh the qualities of his devotees. Naradji went to Brahmaloka after having been repeatedly beheaded at the feet of God. Tulsidasji says that those men are blessed, who have given up all hope and are colored in the color of Shri Hari only.
Those who will sing and listen to the holy fame of Shri Ramji, the enemy of Ravana, will find strong devotion to Shri Ramji without any disinterest, chanting and yoga.
A woman’s body is like a flame of a lamp, O mind! You should not become his wife. Praise Shri Ramchandraji and always satsang, except work and item.
Masparayan, twenty-second sabbatical etc. from Srimadramcharitman to Grosskalikalusvidhvansane III: Sopan: Finish. This third step of Shri Ramcharitmanas, who destroyed the entire sins of Kali Yuga, ended. (Backwoods end)

2 thoughts on “संतों के लक्षण और सत्संग भजन के लिए प्रेरणा”

Leave a Comment

%d bloggers like this: