श्री रामचरितमानस सुनने-गाने की महिमा बालकाण्ड

श्री रामचरितमानस सुनने-गाने की महिमा

दोहा :
* राम रूपु भूपति भगति ब्याहु उछाहु अनंदु।
जात सराहत मनहिं मन मुदित गाधिकुलचंदु॥360॥
भावार्थ:-गाधिकुल के चन्द्रमा विश्वामित्रजी बड़े हर्ष के साथ श्री रामचन्द्रजी के रूप, राजा दशरथजी की भक्ति, (चारों भाइयों के) विवाह और (सबके) उत्साह और आनंद को मन ही मन सराहते जाते हैं॥360॥
चौपाई :

* बामदेव रघुकुल गुर ग्यानी। बहुरि गाधिसुत कथा बखानी॥
सुनि मुनि सुजसु मनहिं मन राऊ। बरनत आपन पुन्य प्रभाऊ॥1॥
भावार्थ:-वामदेवजी और रघुकुल के गुरु ज्ञानी वशिष्ठजी ने फिर विश्वामित्रजी की कथा बखानकर कही। मुनि का सुंदर यश सुनकर राजा मन ही मन अपने पुण्यों के प्रभाव का बखान करने लगे॥1॥
* बहुरे लोग रजायसु भयऊ। सुतन्ह समेत नृपति गृहँ गयऊ॥
जहँ तहँ राम ब्याहु सबु गावा। सुजसु पुनीत लोक तिहुँ छावा॥2॥
भावार्थ:-आज्ञा हुई तब सब लोग (अपने-अपने घरों को) लौटे। राजा दशरथजी भी पुत्रों सहित महल में गए। जहाँ-तहाँ सब श्री रामचन्द्रजी के विवाह की गाथाएँ गा रहे हैं। श्री रामचन्द्रजी का पवित्र सुयश तीनों लोकों में छा गया॥2॥
* आए ब्याहि रामु घर जब तें। बसइ अनंद अवध सब तब तें॥
प्रभु बिबाहँ जस भयउ उछाहू। सकहिं न बरनि गिरा अहिनाहू॥3॥
भावार्थ:-जब से श्री रामचन्द्रजी विवाह करके घर आए, तब से सब प्रकार का आनंद अयोध्या में आकर बसने लगा। प्रभु के विवाह में आनंद-उत्साह हुआ, उसे सरस्वती और सर्पों के राजा शेषजी भी नहीं कह सकते॥3॥
* कबिकुल जीवनु पावन जानी। राम सीय जसु मंगल खानी॥
तेहि ते मैं कछु कहा बखानी। करन पुनीत हेतु निज बानी॥4॥
भावार्थ:-श्री सीतारामजी के यश को कविकुल के जीवन को पवित्र करने वाला और मंगलों की खान जानकर, इससे मैंने अपनी वाणी को पवित्र करने के लिए कुछ (थोड़ा सा) बखानकर कहा है॥4॥
छन्द :

* निज गिरा पावनि करन कारन राम जसु तुलसीं कह्यो।
रघुबीर चरित अपार बारिधि पारु कबि कौनें लह्यो॥
उपबीत ब्याह उछाह मंगल सुनि जे सादर गावहीं।
बैदेहि राम प्रसाद ते जन सर्बदा सुखु पावहीं॥
भावार्थ:-अपनी वाणी को पवित्र करने के लिए तुलसी ने राम का यश कहा है। (नहीं तो) श्री रघुनाथजी का चरित्र अपार समुद्र है, किस कवि ने उसका पार पाया है? जो लोग यज्ञोपवीत और विवाह के मंगलमय उत्सव का वर्णन आदर के साथ सुनकर गावेंगे, वे लोग श्री जानकीजी और श्री रामजी की कृपा से सदा सुख पावेंगे।
सोरठा :

* सिय रघुबीर बिबाहु जे सप्रेम गावहिं सुनहिं।
तिन्ह कहुँ सदा उछाहु मंगलायतन राम जसु॥361॥
भावार्थ:-श्री सीताजी और श्री रघुनाथजी के विवाह प्रसंग को जो लोग प्रेमपूर्वक गाएँ-सुनेंगे, उनके लिए सदा उत्साह (आनंद) ही उत्साह है, क्योंकि श्री रामचन्द्रजी का यश मंगल का धाम है॥361॥
* मासपारायण, बारहवाँ विश्राम
इति श्रीमद्रामचरितमानसे सकलकलिकलुषविध्वंसने प्रथमः सोपानः समाप्तः।
कलियुग के सम्पूर्ण पापों को विध्वंस करने वाले श्री रामचरित मानस का यह पहला सोपान समाप्त हुआ॥

यह भी पढे –  बारात का अयोध्या लौटना और अयोध्या में आनंद

                       श्री सीता-राम विवाह, विदाई श्री रामचरितमानस बालकाण्ड

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

 

friendship क्यो जरूरी ? जानिए विस्तार पूर्वक |

 


Glory to hear and sing Shri Ramcharit

The moon Vishwamitraji of Gadhikul appreciates with great joy the form of Sri Ramachandraji, devotion to King Dasarathaji, marriage of (all four brothers), and (everyone’s) enthusiasm and joy.
Vamdevji and Raghukul’s guru Giani Vasisthaji again told the story of Vishwamitraji. Hearing the beautiful glory of the monarch, the king started to express the influence of his virtues.
Then everyone returned (to their respective homes) as commanded. King Dasarathaji also went to the palace with his sons. Everywhere, everyone is singing songs of Shri Ram Chandraji’s marriage. The holy Suyyash of Shri Ram Chandraji prevailed in all the three worlds.
Ever since Shri Ramchandraji came home after getting married, all kinds of enjoyment started coming to Ayodhya. There was joy and excitement in the marriage of the Lord, he cannot even be called Saraswati and King of Serpents Sheshji.
Knowing the fame of Shri Sitaramji, who sanctified the life of Kavikul and the mine of the mungs, I have said something (a little) to sanctify my speech.
To make her speech sacred, Tulsi has called the fame of Rama. (Otherwise) Shri Raghunathji’s character is an immense sea, which the poet has crossed it? Those who will listen with respect to the description of Yajnopavit and the auspicious occasion of marriage will always enjoy happiness by the grace of Shri Jankiji and Shri Ramji.
For those who will sing and listen with love to the marriage of Shri Sitaji and Shri Raghunathji, there is always enthusiasm (Anand), because Shri Ramchandraji’s fame is the abode of Mars.

1 thought on “श्री रामचरितमानस सुनने-गाने की महिमा बालकाण्ड”

Leave a Comment

%d bloggers like this: