श्री रामजी का लक्ष्मणजी को समझाना एवं भरतजी की महिमा कहना

श्री रामजी का लक्ष्मणजी को समझाना एवं भरतजी की महिमा कहना

* सुनि सुर बचन लखन सकुचाने। राम सीयँ सादर सनमाने॥
कही तात तुम्ह नीति सुहाई। सब तें कठिन राजमदु भाई॥3॥

भावार्थ:-देववाणी सुनकर लक्ष्मणजी सकुचा गए। श्री रामचंद्रजी और सीताजी ने उनका आदर के साथ सम्मान किया (और कहा-) हे तात! तुमने बड़ी सुंदर नीति कही। हे भाई! राज्य का मद सबसे कठिन मद है॥3॥

* जो अचवँत नृप मातहिं तेई। नाहिन साधुसभा जेहिं सेई॥
सुनहू लखन भल भरत सरीसा। बिधि प्रपंच महँ सुना न दीसा॥4॥

भावार्थ:-जिन्होंने साधुओं की सभा का सेवन (सत्संग) नहीं किया, वे ही राजा राजमद रूपी मदिरा का आचमन करते ही (पीते ही) मतवाले हो जाते हैं। हे लक्ष्मण! सुनो, भरत सरीखा उत्तम पुरुष ब्रह्मा की सृष्टि में न तो कहीं सुना गया है, न देखा ही गया है॥4॥
दोहा :
* भरतहि होइ न राजमदु बिधि हरि हर पद पाइ।
कबहुँ कि काँजी सीकरनि छीरसिंधु बिनसाइ॥231॥
भावार्थ:-(अयोध्या के राज्य की तो बात ही क्या है) ब्रह्मा, विष्णु और महादेव का पद पाकर भी भरत को राज्य का मद नहीं होने का! क्या कभी काँजी की बूँदों से क्षीरसमुद्र नष्ट हो सकता (फट सकता) है?॥231॥
चौपाई :
* तिमिरु तरुन तरनिहि मकु गिलई। गगनु मगन मकु मेघहिं मिलई॥
गोपद जल बूड़हिं घटजोनी। सहज छमा बरु छाड़ै छोनी॥1॥
भावार्थ:-अन्धकार चाहे तरुण (मध्याह्न के) सूर्य को निगल जाए। आकाश चाहे बादलों में समाकर मिल जाए। गो के खुर इतने जल में अगस्त्यजी डूब जाएँ और पृथ्वी चाहे अपनी स्वाभाविक क्षमा (सहनशीलता) को छोड़ दे॥1॥
* मसक फूँक मकु मेरु उड़ाई। होइ न नृपमदु भरतहि भाई॥
लखन तुम्हार सपथ पितु आना। सुचि सुबंधु नहिं भरत समाना॥2॥
भावार्थ:-मच्छर की फूँक से चाहे सुमेरु उड़ जाए, परन्तु हे भाई! भरत को राजमद कभी नहीं हो सकता। हे लक्ष्मण! मैं तुम्हारी शपथ और पिताजी की सौगंध खाकर कहता हूँ, भरत के समान पवित्र और उत्तम भाई संसार में नहीं है॥2॥
* सगुनु खीरु अवगुन जलु ताता। मिलइ रचइ परपंचु बिधाता॥
भरतु हंस रबिबंस तड़ागा। जनमि कीन्ह गुन दोष बिभागा॥3॥
भावार्थ:-हे तात! गुरु रूपी दूध और अवगुण रूपी जल को मिलाकर विधाता इस दृश्य प्रपंच (जगत्‌) को रचता है, परन्तु भरत ने सूर्यवंश रूपी तालाब में हंस रूप जन्म लेकर गुण और दोष का विभाग कर दिया (दोनों को अलग-अलग कर दिया)॥3॥

भरतजी चित्रकूट के मार्ग में

* गहि गुन पय तजि अवगुण बारी। निज जस जगत कीन्हि उजिआरी॥
कहत भरत गुन सीलु सुभाऊ। पेम पयोधि मगन रघुराऊ॥4॥
भावार्थ:-गुणरूपी दूध को ग्रहण कर और अवगुण रूपी जल को त्यागकर भरत ने अपने यश से जगत्‌ में उजियाला कर दिया है। भरतजी के गुण, शील और स्वभाव को कहते-कहते श्री रघुनाथजी प्रेमसमुद्र में मग्न हो गए॥4॥
दोहा :
* सुनि रघुबर बानी बिबुध देखि भरत पर हेतु।
सकल सराहत राम सो प्रभु को कृपानिकेतु॥232॥
भावार्थ:-श्री रामचंद्रजी की वाणी सुनकर और भरतजी पर उनका प्रेम देखकर समस्त देवता उनकी सराहना करने लगे (और कहने लगे) कि श्री रामचंद्रजी के समान कृपा के धाम प्रभु और कौन है?॥232॥
चौपाई :
* जौं न होत जग जनम भरत को। सकल धरम धुर धरनि धरत को॥
कबि कुल अगम भरत गुन गाथा। को जानइ तुम्ह बिनु रघुनाथा॥1॥
भावार्थ:-यदि जगत्‌ में भरत का जन्म न होता, तो पृथ्वी पर संपूर्ण धर्मों की धुरी को कौन धारण करता? हे रघुनाथजी! कविकुल के लिए अगम (उनकी कल्पना से अतीत) भरतजी के गुणों की कथा आपके सिवा और कौन जान सकता है?॥1॥

इंद्र-बृहस्पति संवाद

IPL 2020 Schedule (आईपीएल 2020 शेड्यूल)

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |


So On hearing Devvani, Lakshmanji went to Sakucha.Because Shri Ramchandraji and Sitaji respected him with respect (and said-) O Tat! So  You said a beautiful policy. Because Hey brother! The item of state is the most difficult item.

Those who have not consumed the satsang (satsang) meeting of the saints, they become drunk as soon as they drink (drink) the wine of the king’s king.So  Hey Laxman! Listen, the best man like Bharat has neither heard nor seen anywhere in the creation of Brahma.

Because (What is the point of the kingdom of Ayodhya) Even after getting the post of Brahma, Vishnu and Mahadev, Bharat is not an item of the state! So Can kshirasudra ever be destroyed by kanji drops?

So Darkness, whether Tarun (midday) swallows the sun. Because Whether the sky merges into the clouds. So Agastaji is immersed in the cracks of the cow, and the earth may leave its natural forgiveness (tolerance).

A mosquito can blow Sumeru away, but brother! Because Bharat can never be crowned.So  Hey Laxman! Because I say by eating your oath and your father’s goodness, a holy and perfect brother like Bharat is not in the world.

Hey Tat The master creates this visual prapancha (jagat) by mixing milk in the form of guru and water of demerit, but Bharata takes birth as swan in the pond of Suryavansha and divides the merits and demerits (separating the two).

Because By accepting the milk of quality and abandoning the water of demerit, Bharat has brightened the world with his fame. So By saying the qualities, modesty and nature of Bharatji, Shri Raghunathji became engrossed in love.

So Listening to the voice of Shri Ramchandraji and seeing his love on Bharatji, all the gods commended him (and started saying) Who else is the Lord of grace like Shri Ramchandraji?

If Bharata was not born in the world, then who would bear the axis of all religions on earth?So  Hey Raghunathji! So Agam for Kavikul (past his imagination) Who else can know the story of the qualities of Bharatji?

 

1 thought on “श्री रामजी का लक्ष्मणजी को समझाना एवं भरतजी की महिमा कहना”

Leave a Comment

%d bloggers like this: