श्री रामजी के बाण से रावण के मुकुट-छत्रादि का गिरना

श्री रामजी के बाण से रावण के मुकुट-छत्रादि का गिरना

* पवन तनय के बचन सुनि बिहँसे रामु सुजान।
दच्छिन दिसि अवलोकि प्रभु बोले कृपा निधान॥12 ख॥
भावार्थ : पवनपुत्र हनुमान्‌जी के वचन सुनकर सुजान श्री रामजी हँसे। फिर दक्षिण की ओर देखकर कृपानिधान प्रभु बोले-॥12 (ख)॥

चौपाई :

* देखु विभीषन दच्छिन आसा। घन घमंड दामिनी बिलासा॥
मधुर मधुर गरजइ घन घोरा। होइ बृष्टि जनि उपल कठोरा॥1॥

भावार्थ : हे विभीषण! दक्षिण दिशा की ओर देखो, बादल कैसा घुमड़ रहा है और बिजली चमक रही है। भयानक बादल मीठे-मीठे (हल्के-हल्के) स्वर से गरज रहा है। कहीं कठोर ओलों की वर्षा न हो!॥1॥
* कहत विभीषन सुनहू कृपाला। होइ न तड़ित न बारिद माला॥
लंका सिखर उपर आगारा। तहँ दसकंधर देख अखारा॥2॥
भावार्थ : विभीषण बोले- हे कृपालु! सुनिए, यह न तो बिजली है, न बादलों की घटा। लंका की चोटी पर एक महल है। दशग्रीव रावण वहाँ (नाच-गान का) अखाड़ा देख रहा है॥2॥
* छत्र मेघडंबर सिर धारी। सोइ जनु जलद घटा अति कारी॥
मंदोदरी श्रवन ताटंका। सोइ प्रभु जनु दामिनी दमंका॥3॥
भावार्थ : रावण ने सिर पर मेघडंबर (बादलों के डंबर जैसा विशाल और काला) छत्र धारण कर रखा है। वही मानो बादलों की काली घटा है। मंदोदरी के कानों में जो कर्णफूल हिल रहे हैं, हे प्रभो! वही मानो बिजली चमक रही है॥3॥
* बाजहिं ताल मृदंग अनूपा। सोइ रव मधुर सुनहू सुरभूपा।
प्रभु मुसुकान समुझि अभिमाना। चाप चढ़ाव बान संधाना॥4॥
भावार्थ : हे देवताओं के सम्राट! सुनिए, अनुपम ताल मृदंग बज रहे हैं। वही मधुर (गर्जन) ध्वनि है। रावण का अभिमान समझकर प्रभु मुस्कुराए। उन्होंने धनुष चढ़ाकर उस पर बाण का सन्धान किया॥4॥
दोहा :
* छत्र मुकुट तांटक तब हते एकहीं बान।
सब कें देखत महि परे मरमु न कोऊ जान॥13 क॥
भावार्थ : और एक ही बाण से (रावण के) छत्र-मुकुट और (मंदोदरी के) कर्णफूल काट गिराए। सबके देखते-देखते वे जमीन पर आ पड़े, पर इसका भेद (कारण) किसी ने नहीं जाना॥13 (क)॥
* अस कौतुक करि राम सर प्रबिसेउ आई निषंग।
रावन सभा ससंक सब देखि महा रसभंग॥13 ख॥
भावार्थ : ऐसा चमत्कार करके श्री रामजी का बाण (वापस) आकर (फिर) तरकस में जा घुसा। यह महान्‌ रस भंग (रंग में भंग) देखकर रावण की सारी सभा भयभीत हो गई॥13 (ख)॥

मंदोदरी-रावण संवाद

चौपाई :
कंप न भूमि न मरुत बिसेषा। अस्त्र सस्त्र कछु नयन न देखा।
सोचहिं सब निज हृदय मझारी। असगुन भयउ भयंकर भारी॥1॥
भावार्थ : न भूकम्प हुआ, न बहुत जोर की हवा (आँधी) चली। न कोई अस्त्र-शस्त्र ही नेत्रों से देखे। (फिर ये छत्र, मुकुट और कर्णफूल जैसे कटकर गिर पड़े?) सभी अपने-अपने हृदय में सोच रहे हैं कि यह बड़ा भयंकर अपशकुन हुआ!॥1॥
* दसमुख देखि सभा भय पाई। बिहसि बचन कह जुगुति बनाई।
सिरउ गिरे संतत सुभ जाही। मुकुट परे कस असगुन ताही॥2॥
भावार्थ : सभा को भयतीत देखकर रावण ने हँसकर युक्ति रचकर ये वचन कहे- सिरों का गिरना भी जिसके लिए निरंतर शुभ होता रहा है, उसके लिए मुकुट का गिरना अपशकुन कैसा?॥2॥
हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

Sujan Shri Ramji laughed on hearing the words of Pawanputra Hanumanji. Then looking towards the south, Kripanidhan Prabhu said -॥
Hey Vibhishan! Look towards the south, how the cloud is moving and lightning is shining. The dreadful cloud is roaring with a sweet-sweet tone. Let there be no rain of harsh hail!
Vibhishan said – O kind! Listen, this is neither electricity nor cloud. There is a palace on the peak of Lanka. Dashagriva Ravana is watching the arena (of dance and song) there.
Ravana is wearing a Meghdambar (giant and black like a dumber of clouds) umbrella on his head. It is as if the black of the clouds has decreased. The earrings that are shaking in the ears of Mandodari, O Lord! As if lightning is shining
O Emperor of the Gods! Listen, Anupam Tal Mridang is playing. That is the sweet (roaring) sound. Prabhu smiled considering Ravana’s pride. They bowed and bowed the arrow at him.
And from the same arrow (Ravana’s) Chhatra-mukut and (Mandodari’s) earrings are cut off. Seeing everyone, they came to the ground, but no one knew the difference (reason).
After performing such a miracle, the arrow of Shri Ramji came back (again) and entered into Tarkas. Seeing this great juice dissolved (dissolved in color), the whole assembly of Ravana was frightened.
Neither there was an earthquake, nor there was a great wind. Do not look at any weapon with eyes. (Then they fell like a parasol, a crown and an earful?) All of them are thinking in their hearts that this is a terrible vengeance!
Ravana, after seeing the meeting in awe, laughed and said these words – how can the fall of the head also be auspicious for the crown for which it has been continuously auspicious?

1 thought on “श्री रामजी के बाण से रावण के मुकुट-छत्रादि का गिरना”

Leave a Comment

%d bloggers like this: