Indian cricket team players world cup 1983: विश्व कप जीतने वाले सभी 14 भारतीय खिलाड़ी

1983 विश्व कप जीतने वाले सभी 14 भारतीय खिलाड़ी वर्तमान में कहां और कर क्या रहे हैं जानिए

2. मोहिंदर अमरनाथ (Indian cricket team players vice captain Mohinder Amarnath )

 

24 सितंबर, 1950 में जन्मे दाएं हाथ के तेज गेंदबाज मोहिंदर अमरनाथ 83 का विश्वकप जीतने वाली टीम के उपकप्तान थे। वेस्टइंडीज की खिलाफ 7 ओवर में सिर्फ 12 रन देकर 3 विकेट झटकने वाले मोहिन्दर अमरनाथ के गेंदबाजी एक्शन के आज भी दीवाने भरे पड़े हैं। वैसे आपको बता दें कि वो भी टीम में एक आलराउंडर खिलाड़ी की हैसियत से ही खेलते थे। वैसे अब वो पब्लिक और मीडिया से दूर रहकर अपने परिवार के साथ ही समय बिताते हैं।

3. कीर्ति आजाद (Kirti Azad)

2 जनवरी, 1959 को बिहार में जन्मे दाएं हाथ के खब्बू स्पिन गेंदबाज कीर्ति आजाद ने 83 के Cricket World Cup में अपनी गेंदबाजी से धमाल मचा दिया था। उस विश्वकप में 3 मैचों में भले ही आजाद ने सिर्फ 17 ही ओवर फेंके हों, लेकिन सिर्फ 2.47 की इकॉनमी के साथ वो पूरे टूर्नामेंट में सबसे अच्छी इकॉनमी वाले गेंदबाज रहे। वैसे क्रिकेट से संयास लेने के बाद कीर्ति ने कांग्रेस पार्टी ज्वाइन कर ली और इस वक्त एक भरोसेमंद नेता के रूप में कार्यरत हैं।

4. रोजर बिन्नी (Roger Binny)

 

वर्तमान क्रिकेटर स्टुअर्ट बिन्नी के पिता रोजर बिन्नी भी विश्वकप जीतने वाली भातीय टीम का हिस्सा थे। दाएं हाथ से तेज गेंदबाजी करने वाले बिन्नी भारतीय टीम में खेलने वाले पहले एंग्लो-इंडियन खिलाड़ी थे। 27 टेस्ट और 72 एकदिवसीय मैचों में भारत का प्रतिनिधित्व कर Cricket को अलविदा करने वाले 65 वर्षीय रोजर वर्तमान में अपना पूरा समय सिर्फ परिवार के साथ ही बिता रहे हैं।

5. सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar)

अपने समय के भरोसेमंद सलामी बल्लेबाज और आलटाइम के दिग्गज बल्लेबाज सुनील गावस्कर वैसे तो इस विश्वकप में ज्यादा प्रभाव नहीं छोड़ सके थे। लेकिन, उससे पहले और बाद में तो इस खिलाड़ी के बल्ले से अच्छे दसे अच्छा गेंदबाज घबराने लगा था। वैसे आपको बता दें कि 10 जुलाई, 1949 को जन्मे इस लिटिल मास्टर ने 1987 में अपनी Cricket करियर को अलविदा कह दिया था और अब कमेंट्री करने के साथ ही सोशल मीडिया पर बहुत ही ज्यादा एक्टिव रहने लगे हैं।

6. सैयद किरमानी (Syed Kirmani, विकेटकीपर)

Indian cricket team players

80 के दशक में भारत के सबसे अच्छे विकेटकीपर थे सैयद किरमानी। इनके नाम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 234 शिकार दर्ज हैं। 1983 के क्रिकेट विश्वकप में भी उनकी बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग का जलवा देखने को मिला था। सैयद ने कुल 88 टेस्ट और 49 एकदिवसीय मैचों में अपने खेल का प्रदर्शन किया है। आपको बता दें की Cricket से दूर होने के बाद से मीडिया और प्रशंसकों से दूर परिवार के साथ समय बिता रहे हैं।

 7. मदन लाल (Madan Lal)

Indian Cricket के प्रतिभाशाली दाएं हाथ के तेज गेंदबाज मदन लाल ने 1983 के क्रिकेट विश्वकप में बेहतरीन गेंदबाजी की मुजायरा पेश किया था। उन्होंने पूरे टूर्नामेंट में दूसरे नंबर पर सबसे ज्यादा विकेट लिए थे। आपको बता दें कि मदन लाल ने 8 मैचों में 16.76 की बेहतरीन औसत के साथ 17 विकेट लिए थे। 1987 में अपना अंतिम अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले मदन मार्च 2009 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का हिस्सा बन गए थे। वैसे अभी वो राजनीति से जुड़े हुए ही हैं।

secret of success सफलता का रहस्य क्या है ? सफलता के मूल मंत्र जानिए | success mantra
success definition सफलता की परिभाषा क्या है ? diligence यानि परिश्रम ही सफलता की कुंजी है | जानिए कैसे ?

8. संदीप पाटिल (Sandeep Patil)

Indian cricket team players

कभी अजनबी थे फिल्म में अभिनय कर चुके भारतीय क्रिकेट टीम के मध्यक्रम के बल्लेबाज संदीप पाटिल का जन्म 18 अगस्त, 1956 को मुंबई में हुआ था। एक आलराउंडर के तौर पर टीम का हिस्सा रहे संदीप पाटिल ने अपने 29 टेस्ट में 1588 रन व 9 विकेट के साथ ही 45 वनडे मैचों में 1005 रन बनाने के साथ ही 15 विकेट भी लिए थे। वैसे आपको बता दें कि क्रिकेट खेलने से छुट्टी लेने के बाद पाटिल ने केन्या के मुख्य कोच की भूमिका निभाई थी और अब सिर्फ एक Cricket एक्सपर्ट के तौर पर टीवी पर दिखाई दे जाते हैं।

9. बलविंदर संधू (Balwinder Sandhu)

Indian cricket team players

3 अगस्त, 1964 को बॉम्बे में जन्मे दाएं हाथ के तेज गेंदबाज बलविंदर संधू को वैसे तो Cricket World Cup 83 में ज्यादा मौके नहीं मिले थे। उन्हें सिर्फ फाइनल मैच में जौहर दिखने का मौका मिला था। जब टीम के लिए 11 वें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए 22 रन बनाए थे। 8 टेस्ट और 22 वनडे मैच में कुल 26 अंतरराष्ट्रीय विकेट लेने वाले संधू ने 1984 के बाद से ना तो कोई अंतरराष्ट्रीय मैच खेला है और ना ही किसी और कार्य की वजह से मीडिया के सामने ही आए हैं।

10. यशपाल शर्मा (Yashpal Sharma)

Indian cricket team players

भारतीय टीम के लिए दाएं हाथ के भरोसेमंद बल्लेबाज यशपाल शर्मा ने 83 के विश्वकप में बल्ले से बेहतरीन प्रदर्शन किया था। उन्होंने 8 मैचों में 34.29 की औसत के साथ 240 रन बनाए थे। उन्होंने टूर्नामेंट में 2 अर्धशतक लगाए थे। वैसे आपको बता दें कि इस भरोसेमंद और दिग्गज बल्लेबाज का 13 जुलाई 2021 को हार्ट अटैक के कारण निधन हो गया।

11. रवि शास्त्री (Ravi Shastri)

Indian cricket team players

1983 Cricket World Cup में भारतीय टीम का सदस्य बने रवि शास्त्री ने टीम के लिए एक बेहतरीन आलराउंडर के रूप में प्रदर्शन किया था। उन्होंने टीम के लिए कुल 80 टेस्ट और 150 एकदिवसीय मैचों में टीम का प्रतिनिधित्व किया था। वैसे उन्होंने 1992 में भले ही क्रिकेट से संन्यास ले लिया हो परन्तु अब वो भारतीय टीम के वर्तमान कोच के रूप में काम कर रहे हैं।

12. कृष्णामचारी श्रीकांत (Krishnamachari Srikkanth)

Indian cricket team players

80 के दशक में भारतीय टीम के सबसे विध्वंसक सलामी बल्लेबाजों में गिने जाने वाले के श्रीकांत ने टीम के लिए हमेशा बेहतरीन प्रदर्शन कर जीत दिलाने वाले श्रीकांत ने 83 के टूर्नामेंट में कुल 14 चौके जड़े थे। उन्होंने भी 1992 में दक्षिण अफ्रीका के साथ अपने अंतिम मैच खेल कर अंतरराष्ट्रीय करियर को अलविदा कह दिया था। उसके बाद से वो सिर्फ टेलीविजन पर एक्सपर्ट एडवाइस देते हुए दिखा जाते हैं।

13. सुनील वाल्सन (Sunil Valson)

Indian cricket team players

बाएं हाथ के तेज गेंदबाज सुनील वाल्सन को भी 1983 की विश्वकप टीम में जगह दी गई थी। लेकिन, फिर भी वो इकलौते खिलाड़ी थे, जिन्हें एक भी मैच खेलने का मौका नहीं मिल सका था। वैसे आपको बता दें कि भारतीय टीम के पास 1981 से लेकर 1987 तक उनसे बेहतर कोई भी बाएं हाथ का तेज गेंदबाज नहीं था। वर्तमान में वो आईपीएल टीम दिल्ली कैपिटल्स के लिए टीम मैनेजर के रूप में कार्य कर रहे हैं।

14. दिलीप वेंगसकर (Dilip Vengsarkar)

Indian cricket team players

6 अप्रैल 1956 को जन्मे दाएं हाथ के बल्लेबाज और पार्ट टाइम तेज गेंदबाज दिलीप वेंगसकर ने 83 के विश्व कप में टीम के लिए उपयोगी योगदान दिया था। दिलीप को भारत के दिग्गज खिलाड़ियों में गिना जाता है। उन्होंने 116 टेस्ट में 6868 रन और 129 वनडे मैचों में 3508 रन बनाए थे। क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद वेंगसकर वैसे तो क्रिकेट से दूर ही है। बस कभी-कभी क्रिकेट मैदान पर कमेंट्री करते हुए दिखा जाते हैं।

Conference क्या है ? Conference Call कैसे करे ? – जानिए| web hosting free Top Company जानिए WordPress Blog के लिए

software के प्रकार और परिभाषा क्या है ? जानिए

happy wedding anniversary wishes

महाभारत की सम्पूर्ण कथा! Complete Mahabharata Story In Hindi

history of cricket में पहला टॉस, पहला रन और पहला शतक, किसने, कब, कहाँ बनाया था?

ऑनलाइन शिक्षा के फायदे और नुकसान क्या है ?

पहला अध्याय – Chapter First – Durga Saptashati

 

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

Leave a Comment

%d bloggers like this: