depression meaning in hindi : क्या है डिप्रेशन? जानिए प्रकार और इलाज के उपाय

depression meaning in Hindi – असफलता, संघर्ष और किसी अपने से बिछड़ जाने के कारण दुखी होना बहुत ही आम और सामान्य है। परन्तु अगर अप्रसन्नता, दुःख, लाचारी, निराशा जैसी भावनायें कुछ दिनों से लेकर कुछ महीनों तक बनी रहती है और व्यक्ति को सामान्य रूप से अपनी दिनचर्या जारी रखने में भी असमर्थ बना देती है तब यह डिप्रेशन नामक मानसिक रोग का संकेत हो सकता है।

depression meaning in hindi

depression meaning in Hindi- डिप्रेशन कोई कमजोरी नहीं होती कि आप आसानी से इससे बाहर आ जाएँ, इसके लिए आपको उचित और लम्बे उपचार की आवश्यकता होती ही है। यदि आपको लगता है कि डिप्रेशन या अवसाद का कोई इलाज नहीं है तो निराश न हो, इसके लिए हम बता दें कि बहुत सारे लोग जो डिप्रेशन का शिकार होते हैं वे लोग दवाइयों और साइकोथेरेपी और दोनों के साथ बेहतर महसूस करते हैं।

कुछ महत्वपूर्ण तथ्य 

  • अवसाद पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिक होता है।
  • यह काफी आम समस्या है जो 20 में से 1 हिंदुस्तानी को है।
  • अवसाद के लक्षण बच्चों, किशोरों और वयस्कों में अलग अलग हो सकते हैं।
  • इलाज न किये जाने पर यह कई महीनों तक या कई सालों तक रह सकता है।
  • इलाज के साथ इसके लक्षणों में कुछ ही हफ़्तों में सुधार दिखाई पड़ता है।

क्या होता है डिप्रेशन या अवसाद?

depression meaning in hindi– डिप्रेशन को हिंदी में अवसाद के नाम से जाना जाता है। यह एक प्रकार का मूड डिसॉर्डर होता है जो बहुत ही आम है। चिकित्सकों के अनुसार नकारात्मक बीमारी है, जो आपके सोचने की क्षमता, आपके कार्य करने की क्षमता को बुरे से प्रभावित करती है।

ऐसी सोच बदल देगी जीवन
कैसे लाए बिज़्नेस में एकाग्रता
SEO क्या है – Complete Guide In Hindi बड़ी सोच से कैसे बदले जीवन
What is Web Hosting in Hindi? वेब होस्टिंग क्या है?

depression विभिन्न भावनात्मक और शारीरिक समस्याओं का कारण बन सकता है। और आपके कार्य करने और घर पर काम करने की व्यक्ति की क्षमता को कम कर सकता है। अलग अलग लोग विभिन्न तरीकों से डिप्रेशन का अनुभव करते हैं। डिप्रेशन के परिणामस्वरूप आप अपना समय बर्बाद कर सकते हैं। और आपकी उत्पादकता कम हो सकती है। बहुत बार डिप्रेशन आपकी पुरानी स्वास्थ्य स्थितियों को भी प्रभावित कर सकता है। depression या अवसाद के कारण जो स्थिति खराब हो सकती है उनमें शामिल हैं:

  • गठिया
  • दमा
  • हृदय रोग
  • कैंसर
  • मधुमेह
  • मोटापा

डिप्रेशन (अवसाद) के प्रकार

depression का प्रकार उसकी गंभीरता पर निर्भर करता है। कुछ लोगों में यह बहुत ही कम होता है, और उनमे दुःख के अस्थायी एपिसोड्स होते हैं। जबकि कुछ लोगों में depression बहुत गंभीर होता है। और उनमे इसके एपिसोड चलते ही रहते हैं। या यूँ कहें कि वे लगातार डिप्रेशन का शिकार रहते। इसके लिए आपका डॉक्टर आपके depression के प्रकार के अनुसार उचित इलाज (Depression Treatment in Hindi) करके आपकी मदद कर सकता है। डिप्रेशन के प्रकार है-

  • मेजर डिप्रेशन डिसॉर्डर (MDD)
  • पर्सिस्टेंस डिप्रेसिव डिसॉर्डर(PPD )
  • बाइपोलर डिसॉर्डर
  • सीजनल अफ्फेक्टिव डिसॉर्डर(SAD)
  • साइकोटिक डिसॉर्डर
  • पेरीपार्टम डिसॉर्डर (PPD)
  • प्रीमेंस्ट्रुअल डाइसफोरिक डिसॉर्डर (PMDD)

डिप्रेशन क्यों होता है? (Causes of Depression)

डिप्रेशन होने के बहुत सारे कारण होते हैं, जिनका बारे में विस्तार से जान लेना ज़रूरी होता है। चलिये इसके बारे में चर्चा करते हैं-

  • जीवन में कोई बड़ा परिवर्तन आना जैसे कोई दुर्घटना, जीवन में कोई बड़ा परिवर्तन या संघर्ष, किसी पारिवारिक सदस्य या प्रियजन को खो देना, आर्थिक समस्या होना या ऐसे ही किन्हीं गम्भीर बदलावों के कारण।
  • हार्मोन में आए बदलाव के कारण जैसे- रजोनिवृत्ति (Menopause), प्रसव, थायरॉइड की समस्या आदि।
  • कभी-कभी मौसम में परिवर्तन के कारण भी अवसाद हो जाता है। कई लोग सर्दियों में जब दिन छोटे होते हैं या धूप नहीं निकलती तो सुस्ती, थकान और रोजमर्रा के कार्यों में अरूचि महसूस करते हैं। परन्तु यह स्थिति सर्दियां खत्म होने पर ठीक हो जाती हैं।
  • हमारे मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमिटर्स (Neurotransmitters) होते हैं जो विशेष रूप से सेरोटोनिन (Serotonin),डोपामाइन (Dopamine) या नोरेपाइनफिरिन (Norepinephrine) खुशी और आनंद की भावनाओं को प्रभावित करते हैं लेकिन अवसाद की स्थिति में यह असंतुलित हो सकते हैं। इनके असंतुलित होने से व्यक्ति में अवसाद हो सकता है परन्तु यह क्यों संतुलन से बाहर निकल जाते हैं इसका अभी तक पता नहीं चला है।
  • कुछ मामलों में अवसाद का कारण अनुवांशिकी भी हो सकता है। यदि परिवार में पहले से यह समस्या रही हो अगली पीढ़ी को यह होने की आशंका बढ़ जाती है परन्तु इसमें कौन-सा जीन शामिल होता है इसका अभी तक पता नहीं चल पाया है।

Depression Treatment in Hindi – डिप्रेशन का इलाज

यदि आप डिप्रेशन से पीड़ित हैं तो इसके साथ रहना मुश्किल हो सकता है, पर घबराइये नहीं इसका इलाज आपको इससे बाहर निकल सकता है। इसके संभव इलाज के लिए अपने डॉक्टर से बात करें, उससे आप अपने अवसाद (Depression Meaning in Hindi) के लक्षणों को नियंत्रित कर सकते हैं। इसके लिए आप कन्वेंशनल और लाइफस्टाइल थेरेपीज को मिला सकते हैं। अवसाद के इलाज (Depression Treatment in Hindi) कुछ इस प्रकार हैं-

  1. दवाएं: आपका डॉक्टर एंटीड्रिप्रेसेंट्स, एंटीएंजाइटी, या एंटीसाइकोटिक दवाएं लिख सकता है।
  2. साइको थेरेपी या मनोचिकित्सा: इसमें आप अपने मनोचिकित्सक के साथ बात करके नकारात्मक भावनाओं से निपटने के लिए कौशल सीख सकते हैं। आप परिवार या समूह चिकित्सा सत्र से भी लाभ उठा सकते हैं।
  3. लाइट थेरेपी: व्हाइट लाइट की सहायता से डिप्रेशन के लक्षणों को कम किया जा सकता है और मूड को भी नियंत्रित किया जा सकता है। इस थेरेपी का इस्तेमाल मेजर डिप्रेसिव डिसॉर्डर का इलाज करने में किया जाता है।
  4. वैकल्पिक उपचार: एक्यूपंक्चर या मैडिटेशन (ध्यान) की सहायता से भी डिप्रेशन का इलाज किया जाता है, इसके बारे में भी अपने डॉक्टर से अवश्य सलाह लें। कुछ हर्बल सप्लीमेंट्स जैसे सेंट जॉन वॉर्ट, SAMe और मछली के तेल का उपयोग अवसाद के इलाज (Depression Treatment in Hindi) के लिए भी किया जाता है।
    “किसी भी सप्लीमेंट या सप्लीमेंट को निर्धारित दवाई के साथ मिलाने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें। ऐसा करने से आप इसके दुष्प्रभावों से बच सकते हैं। कुछ सप्लीमेंट्स का आपकी सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है, और यह आपके डिप्रेशन (depression meaning in Hindi) को और बेकार भी कर सकता है।
  5. नियमित व्यायाम: एक हफ्ते में कम से कम 3 से 5 दिन, 30 मिनट के लिए व्यायाम अवश्य करें। नियमित व्यायाम आपके शरीर में एंडोर्फिन्स नामक हार्मोन को बढ़ता है जो आपके मूड को अच्छा करता है।
  6. शराब और नशीले पदार्थ न लें: शराब और नशीले पदार्थ आपको कुछ समय के लिए राहत पहुंचा सकते हैं पर लम्बे समय तक इसका सेवन डिप्रेशन और चिंता को और बढ़ा सकता है।
  7. अपना ख्याल रखें: आप स्वयं की देखभाल करके अवसाद के लक्षणों में सुधार कर सकते हैं। इसके लिए अच्छी नींद लीजिये, एक स्वस्थ आहार खाएं, नकारात्मक लोगों से दूर रहें, और आनंददायक गतिविधियों में भाग लें।

कभी कभी अवसाद (depression meaning in hindi ) का इलाज दवाइयों से भी नहीं होता, तब उस स्थिति में आपका डॉक्टर आपको कुछ अन्य ट्रीटमेंट ऑप्शन देगा जैसे कि- इलेक्ट्रोकोनवल्सिव थेरेपी, यह ब्रेन को स्टिमुलेट करती है और मेजर डिप्रेशन के इलाज (Depression Treatment in Hindi) की लिए इस्तेमाल की जाती है, ट्रांसक्रैनियल मेग्नेटिक स्टिमुलेशन – यह नर्व सेल्स को स्टिमुलते करती है और मूड को नियंत्रित करती है।

अवसाद (depression meaning in hindi ) का मतलब सिर्फ लौ महसूस करने से ज्यादा होता है। यह अक्सर आपकी दैनिक जिम्मेदारियों और रिश्तों में हस्तक्षेप कर सकता है। यह महीनों या वर्षों तक चल सकता है और उपचार (Depression Treatment in Hindi) के बिना अक्सर खराब हो जाता है। हालांकि, अवसाद (Depression Meaning in Hindi) एक इलाज योग्य चिकित्सा स्थिति है। जो लोग इलाज कराते हैं वे अक्सर अपने लक्षणों (Depression Symptoms in Hindi) में सुधार देखते हैं।

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

3 thoughts on “depression meaning in hindi : क्या है डिप्रेशन? जानिए प्रकार और इलाज के उपाय”

Leave a Comment

%d bloggers like this: