food poison लक्षण, कारण, इलाज विस्तार पूर्वक जाने |

food poison – फूड पॉइजनिंग से काफी सारे लोग परेशान रहते हैं, इसकी वजह से उनके लिए अपने सामान्य काम करना भी मुश्किल हो जाता है।
हालांकि, वे इससे छुटकारा पाने के लिए हर संभव कोशिश करते हैं, लेकिन फिर उनकी यह परेशानी जड़ से खत्म नहीं हो पाती है।
ऐसे में यह सवाल ज़रूर मन में आता है कि आखिरकार food poison बार-बार क्यों हो जाती है और क्या इसका कारण सही इलाज न कराना है?

यदि आप या आपकी जान-पहचान में कोई शख्स पेट की समस्या से परेशान हैं तो आपको इस लेख को ज़रूर पढ़ना चाहिए, क्योंकि इसमें हमने food poison से जुड़ी आवश्यक जानकारी दी है, तो आप सभी के लिए उपयोगी साबित होगी।

food poison

food poison क्या है ?

food poison से तात्पर्य ऐसी स्थिति है, जो खराब भोजन करने की वजह से होती है। इसे विषाक्त भोजन के नाम से भी जाना जाता है।
कुछ लोगों में यह समस्या जल्द ही ठीक हो जाती है, तो वही कुछ लोग ऐसे भी हैं, जिन्हें इसकी वजह से फिजिकल प्रॉब्लम होती है।

फूड पॉइजनिंग के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of food poisoning in Hindi)

किसी भी व्यक्ति को फूड पॉइजनिंग की समस्या हो सकती है, जिसके कुछ लक्षण हो सकते हैं।
अत: यदि किसी व्यक्ति को ये 5 लक्षण नज़र आए तो उसे डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए ताकि इस समस्या को सही समय को रोका जा सके-

पेट दर्द होना– फूड पॉइजनिंग की शुरूआत पेट दर्द से होती है।
कुछ लोगों को पहली नज़र में यह सामान्य पेट दर्द लग सकता है लेकिन किसी भी नतीजे पर पहुंचने से पहले डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी है।

उल्टी होना– यदि किसी शख्स को बार-बार उल्टी होती है, तो उसे इसकी सूचना अपने डॉक्टर को देनी चाहिए क्योंकि यह फूड पॉइजनिंग का लक्षण हो सकता है।

सिरदर्द होना– फूड पॉइजनिंग के ऐसे बहुत सारे मामले देखने को मिलते हैं, जिनमें इसकी शुरूआत सिरदर्द से होती है।
अत: सभी लोगों के लिए सिरदर्द होने पर डॉक्टर से संपर्क करना लाभदायक साबित होता है।

बुखार होना– पेट दर्द के अलावा फूड पॉइजनिंग का लक्षण बुखार होना भी हो सकता है। इसी कारण, किसी भी व्यक्ति को इसे नज़रअंदाज़ नहीं कराना चाहिए और तुरंत अपनी सेहत की जांच करानी चाहिए।

कमज़ोरी महसूस होना– फूड पॉइजनिंग का अन्य लक्षण कमज़ोरी महसूस होना भी है। यदि किसी व्यक्ति को अचानक से कमज़ोरी महसूस होने लगी है तो उसे इसे नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए और इसकी सूचना अपने डॉक्टर को देनी चाहिए।

फूड पॉइजनिंग के कारण

यदि कोई व्यक्ति निम्नलिखित स्थितियों से पीड़ित है, तो उसे food poison हो सकती है-

बैक्टीरिया के संपर्क में आना– फूड पॉइजनिंग का प्रमुख कारण बैक्टीरिया के संपर्क में आना है।
हालांकि, इसका इलाज एंटीबायोटिक दवाइयों के खाने से संभव है, लेकिन फिर भी हम सभी को अपनी सेहत का विशेष ध्यान देना चाहिए।
खराब भोजन करना- ऐसा माना जाता है कि हमारे खान-पान का हमारी सेहत पर काफी असर पड़ता है।
यह बात फूड पॉइजनिंग पर भी लागू होती है क्योंकि इसके होने का मुख्य कारण खराब भोजन करना भी है।
पेट संबंधी दिक्कत होना– यदि किसी व्यक्ति को पेट संबंधी कोई दिक्कत जैसे कब्ज, गैस इत्यादि हैं, तो उसे फूड पॉइजनिंग होने की संभावना काफी ज्यादा रहती है।
कमजोर रोग-प्रतिरोधक क्षमता का होना- फूड पॉइजनिंग होने की संभावना उस व्यक्ति में काफी ज्यादा रहती है, जिसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता (immunity power) कमजोर होती है।
जेनेटिक कारण होना– ऐसी बहुत सारी बीमारियाँ हैं, जिनके होने का कारण जेनेटिक होता है।
इनमें फूड पॉइजनिंग भी शामिल है इसलिए यदि किसी व्यक्ति के परिवार में फूड पॉइजनिंग की बीमारी रहती है, तो उसे अपनी सेहत का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

Home remedies for food poison

food poison

नींबू पानी पीना- दही का इस्तेमाल करने के अलावा फूड पॉइजनिंग में नींबू पानी पीना भी बेहतर विकल्प साबित हो सकता है।

सिरके का इस्तेमाल करना- फूड पॉइजनिंग के इलाज में सिरके का इस्तेमाल करना काफी अच्छा विकल्प साबित हो सकता है।
कुछ अध्ययनों से यह बात स्पष्ट है कि सिरके से फूड पॉइजनिंग में आराम मिलता है।

अदरक का रस पीना– अक्सर, फूड पॉइजनिंग का इलाज अदरक का रस पीकर भी किया जा सकता है।दही का इस्तेमाल करना- यदि कोई व्यक्ति फूड पॉइजनिंग से परेशान है, तो उसे दही का इस्तेमाल करना चाहिए।

दही उसके पेट में ठंढक पहुँचाकर इस बीमारी को जल्दी से ठीक करने में सहायता करती है।

केला खाना- केले को पेट के लिए अच्छा माना जाता है।
अत: फूड पॉइजनिंग के इलाज में केला खाना बेहतर विकल्प साबित हो सकता है।

stay healthy eat healthy स्वस्थ रहें, स्वस्थ खाएं कैसे ?

आज के दौर में, शुद्ध भोजन और साफ पानी मिलना काफी मुश्किल होता है।
इसकी वजह से हम सभी को न चाहते हुए मिलावटी भोजन और पानी पीना पड़ता है, जिसकी वजह से काफी सारी बीमारियों के होने का खतरा काफी हद तक बढ़ जाता है।

इनमें फूड पॉइजनिंग सबसे प्रमुख बीमारी है, जिसमें लोगों को पेट संबंधी समस्याओं जैसे दस्त या डायरिया इत्यादि का सामना करना पड़ता है।
यदि फूड पॉइजनिंग का इलाज समय तक न किया जाए तो यह पाचन तंत्र को खराब कर सकता है।

food poison का इलाज कैसे किया जा सकता है? (Treatments of food poisoning in Hindi)

हालांकि, फूड पॉइजनिंग कुछ समय गंभीर रूप ले लेती है और इसकी वजह से लोगों को हेल्थ संबंधी काफी सारी परेशानियां भी होती है, लेकिन इसके बावजूद राहत की बात यह है किसी भी अन्य बीमारी की तरह फूड पॉइजनिंग का भी इलाज संभव है।
यदि कोई व्यक्ति फूड पॉइजनिंग से पीड़ित है, तो वह इसके लिए इन 4 तरीकों को अपना सकता है-

best health tips अथवा सर्वोत्तम टिप्स | जानिए

दवाई लेना– फूड पॉइजनिंग का इलाज कराने का सबसे आसान तरीका दवाई लेना है।
ये दवाइयां इसे जल्द से जल्द ठीक करने में सहायक साबित होती हैं।
ओ.आर.एस पीना- दवाई लेने के अलावा फूड पॉइजनिंग के इलाज में ओ.आर.एस पीना भी लाभदायक साबित हो सकता है।
चूंकि, फूड पॉइजनिंग के दौरान मानव-शरीर में पानी की कमी हो जाती है, इसी कमी को दूर करने में ओ.आर.एस सहायता करता है।
सादा भोजन खाना- फूड पॉइजनिंग होने का प्रमुख कारण खराब भोजन या मसालेदार भोजन करना है।
इसी कारण, फूड पॉइजनिंग से पीड़ित व्यक्ति को इस तरह के भोजन से परहेज करना चाहिए और सादा भोजन ही करना चाहिए।
वीन कराना- जैसा कि हम सभी यह जानते हैं कि फूड पॉइजनिंग के होने पर हमारे शरीर से तरल पदार्थ काफी अधिक मात्रा में निकल जाता है, जिसकी वजह से हमें काफी कमज़ोरी महसूस होती है।
इस स्थिति को सुधारने में वीन (vein)  अथवा drip लगवाना सहायक साबित होता है, जिससे हमें थोड़ी राहत मिलती है और हम फूड पॉइजनिंग से जल्दी ठीक हो जाते हैं।

success rules सफलता आन्तरिक नियमो से मिलती है |

secret of success सफलता का रहस्य क्या है ? सफलता के मूल मंत्र जानिए | success mantra
success definition सफलता की परिभाषा क्या है ? web hosting service अथवा एक वेब होस्ट की आवश्यकता क्या है?
web hosting  क्या है? सम्पूर्ण जानकारी Happy birthday message आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Conference Call Kya Hai? Conference Call Kaise Kare? – जानिए? stay healthy eat healthy स्वस्थ रहें, स्वस्थ खाएं कैसे ?

महाभारत की सम्पूर्ण कथा! Complete Mahabharata Story In Hindi

ऑनलाइन शिक्षा के फायदे और नुकसान क्या है ?

पहला अध्याय – Chapter First – Durga Saptashati

ऐसी सोच बदल देगी जीवन कैसे लाए बिज़्नेस में एकाग्रता
लाइफ़ की क्वालिटी क्या है बड़ी सोच से कैसे बदले जीवन
सफलता की राह कैसे चले अमीरों के रास्ते कैसे होते है
कैसे सोचे leader की तरह किस तरह बड़ी सोच पहुँचाती है शिखर पर
क्या आप डर से डरते हो या डर को भगाते हों ? गौमाता के बारे में रोचक तथ्य
सक्सेस होने के रूल हेल्थ ही असली धन है

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

Leave a Comment

%d bloggers like this: