treatment for kidney stone जानिए, गुर्दे की पथरी क्या है?

treatment for kidney stone से पूर्व जानिए इस disease के बारे में सामान्य जानकारी। गुर्दे की पथरी (Kidney Stone) की समस्या आज कल बहुत सारे लोगों में देखने को मिल रही है। एक अध्ययन के अनुसार भारत में 15 प्रतिशत लोगों को गुर्दे की पत्थरी की समस्या है और जिनमें से 50 प्रतिशत लोगों में इसका बीमारी का अंत किडनी के खराब होने के साथ होता है।

यह आंकड़े इस समस्या की भयावह स्थिति को बयां करने के लिए पर्याप्त हैं, लेकिन इसके बावजूद यह दुर्भाग्यवपूर्ण है कि अधिकांश लोगों को इस समस्या की पूर्ण जानकारी नहीं होती है। इसी कारण वे इसका सही इलाज नहीं करा पाते हैं। यदि उन्हें इसकी संपूर्ण जानकारी होती तो शायद वे भी इस बीमारी से निजात पा सकते। यदि आप भी इस जानकारी से वंचित हैं, तो आपको इस प्रस्तुत लेख को जरूर पढ़ना चाहिए। अर्थात treatment for kidney stone से पूर्व जानिए

क्या है गुर्दे की पथरी? (Meaning of Kidney Stone जानिए )

गुर्दे की पथरी को नेफ्रोलिथियासिस (nephrolithiasis) के नाम से भी जाना जाता है, जो खनिजों और लवणों (Salt) से बनी होती है और जिसका निर्माण मुख्य रूप से किडनी में होता है। हैं।

यह समस्या कई कारणों से हो सकती है और इसके काफी समय तक लाइलाज रहने पर यह मूत्र पथ (urinary tract) के उस हिस्से को प्रभावित कर सकती है- जो गुर्दे से मूत्राशय तक आता है। (treatment for kidney stone)

गुर्दे की पथरी के कितने प्रकार हैं? (Types of Kidney Stone )

गुर्दे की पत्थरी मुख्य रूप से 4 प्रकार की होती है, जो निम्नलिखित हैं-

  1. कैल्शियम स्टोन्स- अधिकांश गुर्दे की पथरी कैल्शियम स्टोन ही होती हैं, जो आमतौर पर कैल्शियम ऑक्सालेट (calcium oxalate) के रूप में होती है। ऑक्सालेट एक प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला पदार्थ है, जो भोजन में पाया जाता है और इसके साथ इसका निर्माण लीवर द्वारा प्रतिदिन किया जाता है। कुछ फलों और सब्जियों इसके साथ में नट्स और चॉकलेट में भी उच्च मात्रा में ऑक्सलेट होता है।
  2. स्त्रावित स्टोन्स- स्त्रावित स्टोन (Struvite stones) किसी संक्रमण के कारण होते हैं, जो मुख्य रूप से मूत्र पथ (urinary track) में होता है। ये स्टोन जल्दी से बढ़ सकते हैं और काफी बड़े भी हो सकते हैं।
  3. यूरिक एसिड स्टोन्स- यह स्टोन उन लोगों में अधिक होते हैं, जो पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ का सेवन नहीं करते हैं या फिर जो उच्च प्रोटीन वाला भोजन करते हैं। यूरिक एसिड स्टोन (Uric Acid Stone) महिला की तुलना उन पुरूषों में अधिक होती है, जिनके मूत्र में एसिड की मात्रा अधिक होती है।
  4. सिस्टिने स्टोन्स- हालांकि, यह किडनी स्टोन का ऐसा प्रकार है, जो काफी कम लोगों में होता है। मुख्य रूप से यह समस्या उन लोगों में होती है, जिन्हें कोई आनुवंशिकी विकार होता है। सिस्टिने स्टोन्स (Cysteine stones) की स्थिति में सिस्टिने नामक एसिड किडनी से यूरिन में लीक हो जाता है।

गुर्दे की पथरी के लक्षण क्या-क्या होते हैं?(Symptoms of Kidney Stones)

गुर्दे की पथरी के अपने कुछ लक्षण होते हैं, जो इस समस्या के होने का संकेत देते हैं। अत: यदि किसी व्यक्ति को निम्नलिखित लक्षण नज़र आते हैं तो उसे इन्हें गंभीरता से लेना चाहिए और इसकी सूचना डॉक्टर को तुरंत देनी चाहिए-

  • मूत्र करते समय दर्द होना- यह पथरी रोग होने का सामान्य लक्षण है, जिसमें व्यक्ति को मूत्र करते समय काफी दर्द होता है। इस स्थिति में दर्द मूत्र के समाप्त होने से पहले होता है।
  • बार-बार मूत्र आना- यदि किसी व्यक्ति को बार-बार पेशाब करने जाना पड़ता है, तो उसे किडनी स्टोन हो सकता है। अत: व्यक्ति को इस समस्या को गंभीरता से लेना चाहिए और इसकी सूचना डॉक्टर को तुंरत देनी चाहिेए।
  • उल्टी का आना- कई बार ऐसा देखा गया है कि पथरी रोग होने पर व्यक्ति को उल्टी बार-बार होती है। हालांकि, उल्टी आने को गंभीरता से नहीं लिया जाता है, लेकिन इस स्थिति में व्यक्ति को इसे गंभीरता से लेना चाहिए ताकि उसे किसी अन्य परेशानी का सामना न करना पड़े।
  • बुखार का होना- यदि किसी व्यक्ति को बुखार होता है, और वह किसी भी दवाई से ठीक नहीं होता है, तो उसे किसी सूचना डॉक्टर को देनी चाहिए क्योंकि यह किडनी स्टोन का लक्षण हो सकता है।
  • मूत्र का रूक-रूक कर होना- यदि किसी व्यक्ति को मूत्र रूक-रूक के होता है, तो यह गुर्दे की तथरी का लक्षण हो सकती है, क्योंकि यह इस समस्या के होने का संकेत देती है। इसी कारण किसी भी व्यक्ति को इसे नज़रअदाज़ नहीं करना चाहिए और तुरंत मेडिकल सहायता लेनी चाहिए।
  • मूत्र में खून का आना- पथरी रोग का अन्य लक्षण मूत्र में खून का आना भी होता है। अत: किसी भी व्यक्ति को इस स्थिति में कोई भी कदम बिना डॉक्टर की सलाह से नहीं उठाना चाहिए क्योंकि ऐसा करना उसके लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। साथ ही treatment for kidney stone से पूर्व जानिए कि..

गुर्दे की पथरी होने के कारण क्या-क्या हैं? (Causes of Kidney Stone in Hindi)

पथरी रोग कई कारणों से हो सकती है, जिसके बारे में हर व्यक्ति को पता होना चाहिए। यह समस्या मुख्य रूप से 5 कारणों से हो सकती हैं, जो इस प्रकार हैं-

अधिक मात्रा में प्रोटीन, नमक या ग्लूकोश युक्त डाइट करना- यदि कोई व्यक्ति अधिक मात्रा में प्रोटीन, नमक या ग्लूकोश वाला भोजन करता है, तो उसे गुर्दे की पथरी हो सकती है। इसी कारण व्यक्ति को ऐसा भोजन करना चाहिए जिसमें पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन, नमक या ग्लूकोश इत्यादि हो।
थायराइड का होना- यदि किसी व्यक्ति को थायराइड है, तो उसे किडनी स्टोन की समस्या हो सकती है। अत: थायराइड से पीड़ित व्यक्ति को इस बात की जांच करनी चाहिए ताकि इस बात की पुष्टि हो सके कि उसे पथरी की समस्या है या नहीं।
वजन का अधिक होना- गुर्दे की पथरी उन लोगों भी हो सकती है, जिनका वजन अधिक होता है। इसी कारण व्यक्ति को अपने वजन को नियंत्रण में रखना चाहिए।
बाइपास सर्जरी का कराना- किडनी स्टोन की समस्या उस व्यक्ति को भी हो सकती है, जिसने हाल ही में बाइपास सर्जरी कराई है। ऐसा मुख्य रूप से इस सर्जरी के दुष्प्रभाव के कारण होता है।
डिहाइड्रेशन का होना- ऐसा माना जाता है कि शरीर में पर्याप्त मात्रा में पानी का होना काफी जरूरी होता है क्योंकि इससे आवश्यक तत्व मौजूद रहते हैं। अत: जो व्यक्ति पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं पीता है, तो उसे पथरी रोग होने की संभावना अधिक रहती है।

गुर्दे की पथरी का इलाज कैसे करें? (Treatments Of Kidney Stone)

गुर्दे की पथरी का इलाज treatment for kidney stone प्रमुख तरीके निम्नलिखित हैं-

देशी इलाज करना- गुर्दे की पथरी का इलाज कई देशी इलाज के द्वारा भी किया जा सकता है। इस स्थिति में भरपूर पानी पीना और उसके साथ में बार-बार पेशाब जाने से किडनी स्टोन स्वयं निकल जाती है।
घरेलू नुस्खे अपनाना- देशी इलाज के साथ-साथ पथरी का उपचार कुछ घरेलू नुस्खों के द्वारा भी किया जा सकता है। इसमें नींबू का रस और ऑलिव ऑयल का सेवन किया जा सकता है और इसके साथ में सेब के सिरका का भी सेवन करना उपयोगी साबित हो सकता है।
दवाई लेना– कई बार किडनी स्टोन के उपचार में दवाई लेना भी सहायक साबित हो सकता है। ये दवाईयां शरीर में पथरी को बढ़ने से रोकती हैं, ताकि इसका इलाज बेहतर तरीके से किया जा सके।
थैरेपी करना– गुर्दे की पथरी में थैरेपी लेना भी लाभदायक तरीका साबित हो सकता है क्योंकि इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। इसके बावजूद लोग थैरेपी को नहीं कराते हैं क्योंकि उन्हें इसकी पूर्ण जानकारी नहीं होती है।
सर्जरी कराना– जब पथरी रोग का उपचार किसी भी तरीके से नहीं हो पाता है, तब डॉक्टर सर्जरी कराने की सलाह देते हैं। इस स्थिति किडनी स्टोन रिमूवल सर्जरी (Kidney Stone Removal Stone) सबसे कारगर सर्जरी होती है। इस प्रक्रिया में सर्जिकल तरीके से किडनी स्टोन को निकाला जाता है।

secret of success सफलता का रहस्य क्या है ?

सफलता के मूल मंत्र जानिए | success mantra

success definition सफलता की परिभाषा क्या है ?

web hosting service अथवा एक वेब होस्ट की आवश्यकता क्या है?

web hosting  क्या है? सम्पूर्ण जानकारी

What is Web Hosting in Hindi? वेब होस्टिंग क्या है?

Conference Call Kya Hai? Conference Call Kaise Kare? – जानिए?

web hosting free Top Company जानिए WordPress Blog के लिए

महाभारत की सम्पूर्ण कथा! Complete Mahabharata Story In Hindi

ऑनलाइन शिक्षा के फायदे और नुकसान क्या है ?

पहला अध्याय – Chapter First – Durga Saptashati

ऐसी सोच बदल देगी जीवन
कैसे लाए बिज़्नेस में एकाग्रता
लाइफ़ की क्वालिटी क्या है
बड़ी सोच से कैसे बदले जीवन
सफलता की राह कैसे चले अमीरों के रास्ते कैसे होते है
कैसे सोचे leader की तरह
किस तरह बड़ी सोच पहुँचाती है शिखर पर
क्या आप डर से डरते हो या डर को भगाते हों ? गौमाता के बारे में रोचक तथ्य
सक्सेस होने के रूल
हेल्थ ही असली धन है
हीरे की परख सदा ज़ौहरी ही जाने
What is Web Hosting in Hindi
SEO क्या है – Complete Guide In Hindi
चैम्पीयन कैसे बने

Google search engine क्या है ? जानिए विस्तार पूर्वक

Google Translate Uses – गूगल अनुवाद ऐप जानिए क्या है ?

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

Leave a Comment

%d bloggers like this: