भारत-चीन सम्बध जानिए विस्तार से |

भारत-चीन सम्बध– भारत के साथ चीन का सीमा विवाद एक पुराना रोग है|यह रोग चीन की नीति और नीयति के कारण बना हुआ है |लेकिन अब समय आ गया है कि, इस बीमारी का जड़ से ईलाज किया जाये| विगत 22 वर्षों के दौरान सीमा विवाद समाप्त करने के सन्दर्भ में लगभग 14 बार प्रयास किए गए| हाल ही में महत्वपूर्ण क़दम के अंतर्गत 59 चीनी apps को भारत ने सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बैन किया है |

भारत-चीन सम्बध संक्षिप्त कालक्रम-

१९५० के पहले हजारों वर्षों तक तिब्बत ने एक ऐसे क्षेत्र के रूप में काम किया जिसने भारत और चीन को भौगोलिक रूप से अलग और शान्त रखा| 20वीं सदी के मध्य तक भारत और चीन के बीच संबंध न्यूनतम थे| एवं कुछ व्यापारियों, तीर्थयात्रियों और विद्वानों के आवागमन तक ही सीमित थे|
भारत और चीन के मध्य व्यापक तौर पर बातचीत की शुरुआत भारत की स्वतंत्रता (1947) और चीन की कम्युनिस्ट क्रांति (1949) के बाद हुई|

भारत और चीन के मध्य व्यापक तौर पर राजनयिक सम्बन्ध-

भारत-चीन सम्बध– 1 अप्रैल 1950 को चीन और भारत ने राजनयिक सम्बन्ध स्थापित किए| केएम पैनिकर को चीन में भारत का पहला राजदूत नियुक्त किया गया| भारत चीन के जनवादी गणराज्य के साथ सम्बन्ध स्थापित करने वाला पहला गैर-साम्यवादी देश था| “हिंदी चीनी भाई भाई” उस समय से एक आकर्षक कहानी बन गई | और द्विपक्षीय आदान-प्रदान प्रारम्भ हुआ|
अक्‍टूबर १९५० तक चीन ने तिब्‍बत को लेकर इरादे जाहिर कर दिए| जो भारत-चीन सम्बध के लिहाज से अनुचित था |सीमा पार कर चीनी सेना ल्‍हासा की तरफ बढ़ी| 1951 में चमदो के गवर्नर को मजबूर किया गया कि वह तिब्‍बत पर चीन का आधिपत्य स्‍वीकार करें| चीन ने तिब्बत पर आक्रमण कर वहाँ कब्ज़ा कर लिया, तब भारत और चीन आपस में सीमा साझा करने लगे और ‘पड़ोसी देश’ बन गए|
भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू एक स्वतंत्र तिब्बत के पक्ष में थे| उल्लेखनीय है कि भारत और तिब्बत के मध्य आध्यात्मिक सम्बन्ध चीन के लिये चिन्ता का विषय था|
मई 1954 में, चीनी प्रधानमंत्री झोउ एनलाई ने भारत का दौरा किया| चीन और भारत ने संयुक्त वक्तव्य पर हस्ताक्षर किए और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व (पंचशील) के पांच सिद्धांतों की संयुक्त रूप से वकालत की| उसी वर्ष, भारतीय प्रधान मंत्री नेहरू ने चीन का दौरा किया| वह एक गैर-साम्यवादी देश की सरकार के पहले प्रमुख थे, जिन्होंने ‘पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना’ की स्थापना के बाद से चीन का दौरा किया|
साल भर भी नहीं बीते थे कि, चीन ने इन्‍हीं सिद्धान्तों का उल्‍लंघन किया| अपने आधिकारिक मानचित्र में चीन ने भारत की उत्‍तरी सीमा के एक हिस्‍से को अपना बताना शुरू किया|
नवम्बर 1956 में चीन के तत्‍कालीन शासक झोउ एनलाई भारत आए|
सितम्बर 1957 में तत्‍कालीन उपराष्‍ट्रपति डॉ. सर्वपल्‍ली राधाकृष्‍णन चीन गए|
इसी बीच भारत-चीन सम्बध बिगड़ने लगे| क्योंकि चीन ने भारत के कुछ हिस्‍सों पर अपना हक जताना शुरू कर दिया था| झोउ ने 23 जनवरी, 1959 को कहा कि लद्दाख और नेफा का करीब 40 हजार मील का क्षेत्र चीन का है|
3 अप्रैल 1959 को तिब्बती लोगों के आध्यात्मिक और लौकिक प्रमुख दलाई लामा कई अन्य लोगों के साथ ल्‍हासा से भाग निकले और भारत आ गए| भारत ने उन्‍हें शरण दी और चीन बिदक गया|
इसके पश्चात् चीन ने भारत पर तिब्बत और पूरे हिमालयी क्षेत्र में विस्तारवाद और साम्राज्यवाद के प्रसार का आरोप लगा दिया| उसने सितंबर 1959 में मैकमोहन लाइन को मानने से इनकार कर दिया| बीजिंग ने सिक्किम और भूटान के करीब 50 हजार वर्ग मील के इलाके पर दावा ठोंक दिया था|
19 अप्रैल 1960 को तत्‍कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और झोउ के बीच नई दिल्‍ली में मुलाकात हुई|
फरवरी 1961 में चीन ने सीमा विवाद पर चर्चा से मना कर दिया और भारतीय सीमा के पश्चिमी सेक्‍टर में घुस आया|
नवम्बर १९६२ में चीनी सेना ने लद्दाख और तत्कालीन नॉर्थ-ईस्ट फ्रंटियर एजेंसी (नेफा) में मैकमोहन रेखा के पार भारत पर आक्रमण कर दिया और भारत के बहुत बड़े भूभाग पर कब्जा कर लिया| चीन ने तीन-सूत्रीय सीजफायर फॉर्मूला सुझाया जो भारत ने मान लिया| चीन के इस आक्रमण के कारण द्विपक्षीय संबंधों में एक गंभीर झटका लगा|
मार्च 1963 को चीन और पाकिस्‍तान में समझौता हुआ और पाक अधिकृत कश्‍मीर का लगभग 5080 वर्ग किलोमीटर हिस्‍सा चीन को दे दिया गया|

यह भी पढ़े  –  अनुशासन ही सफलता की कुंजी है| कैसे ? जानिए कैसे ?

1965 में चीन ने भारत पर सिक्किम-चीन सीमा पार करने का आरोप लगाया| नवम्बर में चीनी सैनिक दोबारा उत्‍तरी सिक्किम में घुसे| इसके बाद तनाव के चलते डिप्‍लोमेटिक चैनल बंद हो गया|
1974 में भारत ने अपना पहला शांतिपूर्ण परमाणु परीक्षण किया तो चीन ने उसका कड़ा विरोध किया|
अप्रैल 1975 में सिक्किम भारत का हिस्‍सा बना| चीन ने इसका भी विरोध किया|
अप्रैल 1976 में, चीन और भारत ने पुनः राजदूत संबंधों को बहाल किया| जुलाई में केआर नारायणन को चीन में भारतीय राजदूत बनाया गया| द्विपक्षीय संबंधों में धीरे-धीरे सुधार हुआ|
फरवरी 1979 में तत्‍कालीन विदेश मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने चीन की यात्रा की|
1988 में, भारतीय प्रधान मंत्री राजीव गांधी ने द्विपक्षीय संबंधों के सामान्यीकरण की प्रक्रिया शुरू करते हुए, चीन का दौरा किया| दोनों पक्षों ने “लुक फॉरवर्ड” के लिए सहमति व्यक्त की| और सीमा के प्रश्न के पारस्परिक रूप से स्वीकार्य समाधान की मांग करते हुए अन्य क्षेत्रों में सक्रिय रूप से द्विपक्षीय संबंधों को विकसित किया|
1991 में, चीन के सर्वोच्च नेता ली पेंग ने भारत का दौरा किया| 31 साल बाद चीन का कोई नेता भारत आया था|
1992 में, भारतीय राष्ट्रपति आर वेंकटरमन ने चीन का दौरा किया| वह पहले राष्ट्रपति थे जिन्होंने भारत गणराज्य की स्वतंत्रता के बाद से चीन का दौरा किया|
सितम्बर 1993 में तत्‍कालीन पीएम पीवी नरसिम्‍हा राव चीन गए|
अगस्‍त 1995 में दोनों देश ईस्‍टर्न सेक्‍टर में सुमदोरोंग चू घाटी से सेना पीछे हटाने को राजी हुए|
नवंबर 1996 में चीनी राष्‍ट्रपति जियांग जेमिन भारत आए|
मई 1998 में भारत के दूसरे परमाणु परीक्षण का भी चीन ने विरोध किया|
अगस्‍त 1998 में ही लद्दाख-कैलाश मानसरोवर रूट खोलने पर आधिकारिक रूप से बातचीत शुरू हुई|
जब करगिल युद्ध हुआ तो चीन ने किसी का साथ नहीं दिया| युद्ध खत्‍म होने पर चीन ने भारत से दलाई लामा की गतिविधियां रोकने को कहा ताकि द्विपक्षीय संबंध सुधरें|
नवम्बर 1999 में सीमा विवाद सुलझाने को भारत-चीन के बीच दिल्‍ली में बैठकें हुईं|
जनवरी 2000 में 17वें करमापा ला चीन से भागकर धर्मशाला पहुंचे और दलाई लामा से मिले| बीजिंग ने चेतावनी दी कि करमापा को शरण दी गई तो ‘पंचशील’ का उल्‍लंघन होगा| दलाई लामा ने भारत को चिट्ठी लिख करमापा को सुरक्षा मांगी|
1 अप्रैल 2000 को भारत और चीन ने राजनयिक सम्बन्धों की 50वीं बर्षगाँठ मनाई|
जनवरी 2002 में चीनी राष्‍ट्रपति झू रोंगजी भारत आए|

यह भी पढ़े  –  इस तरीके से प्रचार करोगे तो कामयाबी चूमेगी आपके क़दम, जानिए कैसे?

2003 में, भारतीय प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने चीन का दौरा किया| दोनों पक्षों ने चीन-भारत संबंधों में सिद्धांतों और व्यापक सहयोग पर घोषणा पर हस्ताक्षर किए, और भारत-चीन सीमा प्रश्न पर विशेष प्रतिनिधि बैठक तंत्र स्थापित करने पर सहमत हुए|
अप्रैल 2005 में तत्‍कालीन चीनी राष्‍ट्रपति वेन जियाबाओ बैंगलोर आए|
2006 में नाथू ला दर्रा खोला गया जो कि 1962 के युद्ध के बाद से बन्द था|
2007 में चीन ने अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री को यह कहकर वीजा नहीं दिया था कि अपने देश में आने के लिए उन्‍हें वीजा की जरूरत नहीं है|

भारत-चीन सम्बध व चीन की अनावश्यक आपत्ति

जब 2009 में  तत्‍कालीन पीएम मनमोहन सिंह अरुणाचल गए तो चीन ने इसपर भी आपत्ति जताई|
जनवरी 2009 को मनमोहन चीन पहुंचे| दोनों देशों के बीच व्‍यापार ने 50 बिलियन डॉलर का आंकड़ा पार किया|
नवंबर 2010 में चीन ने जम्‍मू-कश्‍मीर के लोगों के लिए स्‍टेपल्‍ड वीजा जारी करने शुरू किए|
अप्रैल 2013 में चीनी सैनिक LAC पार कर पूर्वी लद्दाख में करीब 19 किलोमीटर घुस आए| भारतीय सेना ने उन्‍हें खदेड़ा|
जून 2014 में चीन के विदेश मंत्री वांग यी भारत आए और भारतीय समकक्ष सुषमा स्‍वराज से मिले| उसी महीने तत्‍कालीन उपराष्‍ट्रपति हामिद अंसारी भी पांच दिन के दौरे पर गए थे| जुलाई 2014 में भारतीय सेना के तत्‍कालीन चीफ बिक्रम सिंह तीन दिन के लिए बीजिंग दौरे पर गए थे| उसी महीने ब्राजील में हुई BRICS देशों की बैठक में पीएम मोदी और चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग की पहली मुलाकात हुई| दोनों ने करीब 80 मिनट तक बातचीत की थी|
सितंबर 2014 में शी जिनपिंग भारत आए| नरेन्द्र मोदी ने प्रोटोकॉल तोड़कर अहमदाबाद में उनका स्‍वागत किया था| चीन ने पांच साल के भीतर भारत में 20 बिलियन डॉलर से ज्‍यादा के निवेश का वादा किया|
फरवरी 2015 में सुषमा ने चीन की यात्रा की और वहां पर शी जिनपिंग से मिलीं|
मई 2015 में प्रधानमंत्री मोदी का पहला चीन दौरा हुआ| अक्‍टूबर में जिनपिंग और मोदी की मुलाकात गोवा में BRICS देशों की बैठक में हुई|
जून 2017 में भारत को शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (SCO) का पूर्ण सदस्‍य बनाया गया| मोदी ने जिनपिंग से मुलाकात की और इसके लिए उनका धन्‍यवाद किया|
2018-19 में राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने वुहान, चीन और महाबलीपुरम, भारत में भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के साथ एक अनौपचारिक बैठक की|

भारत-चीन सम्बध-अतः हर बार चीन ही सम्बन्धो को बिगाड़ने का अनुचित कार्य करता है |और दोषारोपण भारत पर करता है|चीन किसी का सगा नही है |यह हर किसी के साथ सिर्फ विश्वास-घात ही करता है |मित्रता किसी के साथ नही निभाता |उसकी यह चाल न केवल भारत ही समझा है,बल्कि आज विश्व भी जान चुका है |चीन को समझना चाहिए कि भारत आज हर मोर्चे पर   मजबूत है |

1 thought on “भारत-चीन सम्बध जानिए विस्तार से |”

Leave a Comment

%d bloggers like this: