ITR (Income Tax Return) फाइल कैसे करे?जानिए|

ITR (Income Tax Return) –

आयकर रिटर्न ITR (Income Tax Return) वास्तव में आपकी आमदनी और खर्च का लिखित हिसाब-किताब है| केंद्र सरकार को आप विस्तार से यह जानकारी देते हैं, कि उस वित्त वर्ष में आपने अपनी नौकरी, कारोबार या पेशे से कितनी रकम कमाई है|  इसके साथ ही ITR (Income Tax Return), में आप सरकार द्वारा निर्धारित टैक्स बचत के विकल्प में निवेश करने, जरूरी चीजों पर खर्च करने (री इम्बर्स्मेंट या बिल जमा करने पर टैक्स छूट के बारे में) और एडवांस टैक्स (अग्रिम कर) चुकाने की जानकारी भी देते हैं|

आयकर रिटर्न (ITR) भरना और इनकम टैक्स (Income Tax) जमा कराने में अंतर है

अर्थात ‘कोई व्यक्ति अगर कर योग्य आमदनी के दायरे में नहीं आता, तब भी वह आयकर रिटर्न (ITR)भर सकता है | नियमित रूप से आयकर रिटर्न (ITR) भरने से वास्तव में आप अपनी आमदनी का एक दस्तावेजी साक्ष्य जमा कर लेते हैं|  यह दस्तावेजी साक्ष्य किसी वक्त भी अपनी आमदनी साबित करने में आपके काम आ सकता है| देश के कानून के हिसाब से आयकर रिटर्न (ITR) हर व्यवसाय या व्यक्ति को भरना चाहिए| आयकर रिटर्न (ITR) भरने का मतलब सरकार को  केवल   टैक्स चुकाना नहीं है| बल्कि  वित्त वर्ष की समाप्ति पर आयकर रिटर्न (ITR) फाइल करके आप सरकार या इनकम टैक्स विभाग से यह भी कह सकते हैं कि आप इनकम टैक्स देनदारी के दायरे में नहीं आते है|

Income Tax Return  फाइल करने में लगते हैं सिर्फ चंद  मिनट

आपको निम्नलिखित दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी-

  • पैन नंबर
  • आधार
  • फॉर्म 16
  • फॉर्म 16 A
  • आप अपने सभी बैंक अकाउंट का 31 मार्च तक का स्टेटमेंट या अपडेटेड पासबुक तैयार रखें| हर अकाउंट में सालभर में मिले ब्याज का जोड़ निकालें| बचत खाते पर ब्याज साल में चार बार दिया जाता है|
  • अगर आपने कोई फिक्स्ड डिपाजिट किया है तो ब्याज आमदनी की जानकारी देनी चाहिए |
  •  अगर आपने होम लोन लिया है तो उसके ब्याज के सर्टिफिकेट और खर्च के पेपर रखें|
  • ITR में आपको टैक्स बचत के लिए इनकम टैक्स कानून के सेक्शन 80C के तहत किये गए निवेश की जानकारी देनी होती है, जिसके आधार पर आपको इनकम टैक्स में छूट मिलती है|

Income Tax Return फाइल करने में रखें ध्यान-

  • टैक्स बचत के लिए कटौती बढ़ा-चढ़ाकर न दिखाएं|
  • अगर आपने आईटीआर में आमदनी कम और कटौती को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाया तो आप पर कार्रवाई हो सकती है|
  • इनकम टैक्स रिटर्न में सभी बैंक अकाउंट की जानकारी दें|
  • बैंक का खाता चालू हो या वित्त वर्ष के बीच में बंद हुआ हो, रिटर्न भरते समय सबकी जानकारी दें|
  • अगर आईटीआर भरते समय कहीं भी कुछ कन्फ्यूजन होता है तो विशेषज्ञों की राय लेने में संकोच ना करें|

ITR ऑनलाइन फाइल कैसें करें?

इनकम टैक्स विभाग ने वित्तीय वर्ष ( Financial Year ) 2017-18 के लिए सभी फ़ार्म को फाइल करनें के लिए एक लिंक ई-फाइलिग सॉफ्टवेयर जारी किया था। इसमें एक्सेल  या जावा में कोई भी सॉफ्टवेयर डॉउनलोड किए बगैर केवल ITR 1 और ITR 4 को पूरी तरह ऑनलाइन भरा जा सकता है| इसके लिए आपको अपने आवश्यक दस्तावेज अपने पास तैयार रखने होंगे और। ITR भरने का तरीका निम्नलिखित है:

  • सबसे पहलें इनकम टैक्स विभाग की ई-फाइलिग वेबसाइट  पर जाएं|
  • यदि आप पहले रजिस्टर है तो, लॅाग-इन करें. अब अपने खाते पर जायें|
  • असेसमेंट वर्ष चुनें, सबमिशन मोड के अनुसार ITR फॉर्म का नाम (ITR-1 या ITR-4) चुनें फिर “Prepare and Submit Online” पर क्लिक करें|
  • यदि आपने पहले ऑनलाइन ITR फाइल किया था, तो आप उन जानकारियों को भी चुन सकते हैं। जो आपने ITR फॉर्म में पहले से भरे होगें| अब उन जानकारियों को चुनें जिन्हें आप पहले से भरना चाहते हैं| और “Continue” पर क्लिक करें।अब आप पहले पन्ने पर पहुँच जाएंगे जहां आप फ़ॉर्म भरना शुरू कर सकते हैं| हालांकि, फॉर्म भरने से पहले, शुरू में दिए गए ‘सामान्य निर्देश’ पढ़ लें जिससे गलती करने से बचा जा सके|
  • निर्देशों को पढ़ने के बाद आप अपनी आवश्यक जानकारी भरना शुरू कर सकते हैं, जैसे ‘General information‘, ‘Income details‘, ‘Tax details‘ ‘Taxes paid and verification‘ and और ITR के रूप में ’80G’
  • आप आधार OTP या EVC (इलेक्ट्रॉनिक सत्यापन कोड) का उपयोग करके या फिर ई-फाइलिंग की तारीख से 120 दिनों के भीतर ITR V का प्रिंटआउट हस्ताक्षर कर के, बैंगलोर के लिए भेजकर इलेक्ट्रॉनिक रूप से अपनी टैक्स रिटर्न फाइल कर सकते हैं|
  • एक बार आपकी इलेक्ट्रॉनिक रूप से रिटर्न फाइल हो जाने के बाद एक रसीद आपके रजिस्ट्रर्डईमेल पर भेज दी जाएगी|
  • आपके द्वारा ITR की पुष्टि करने के बाद, विभाग उसकी प्रक्रिया शुरू कर देगा और आपके रजिस्ट्रर्ड ईमेल आईडी पर ईमेल और रजिस्ट्रर्ड मोबाइल नंबर पर एक SMS कर के आपको इसके बारे में सूचित करेगा|

    यह जरूरी नहीं है कि केवल भारत सरकार की आधिकारिक साइट से ITR फाइल किया जाए कई प्राइवेट सेक्टर भी हैं जो ITR फाइल करते हैं| प्राइवेट सेक्टर इस के बदले में फीस लेते हैं।

यह भी पढ़े –

कैसे बने champion ( चैम्पियन ) दौलत के खेल में

पहला अध्याय – Chapter First – Durga Saptashati

कुछ मूख्य बिंदु जिनसे सफलता की हर राह गुजरती है

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |


ITR (Income Tax Return) –

ITR (Income Tax Return) is actually a written account of your income and expenses. You give detailed information to the Central Government, how much money you have earned from your job, business or profession in that financial year. Along with this, in ITR (Income Tax Return), you can invest in the option of tax savings prescribed by the government, spend on essentials (about the exemption on reimbursement or bill submission) and pay the advance tax (advance tax). Also informs about

The difference between filling the Income Tax Return (ITR) and submitting Income Tax (Income Tax) is-

That is, even if a person does not come under the taxable income, he can still file Income Tax Return (ITR). By regularly filing Income Tax Return (ITR), you actually submit a documentary proof of your income. This documentary evidence can be used to prove your income at any time. According to the law of the country, every business or person should file Income Tax Return (ITR). Filling out of Income Tax Return (ITR) does not just mean paying taxes to the government. Rather, by filing Income Tax Return (ITR) at the end of the financial year, you can also ask the government or the Income Tax Department that you do not come under the income tax liability.

It takes only a few minutes to file Income Tax Return

You will need the following documents:

PAN number
base

Form 16
Form 16A
You should keep the statement or updated passbook ready by March 31 of all your bank accounts. Combine the interest received in each account throughout the year. Interest on savings account is paid four times a year.
If you have made a fixed deposit, the interest income should be reported.
If you have taken a home loan, then keep its certificate of interest and expenses papers.
In ITR, you have to give information about the investment made under section 80C of Income Tax Act for tax saving, on the basis of which you get income tax exemption.
Keep in mind while filing Income Tax Return-
Do not show exaggerated deductions for tax savings.
If you show less income and exaggerated deductions in ITR, then action can be taken against you.
Provide all bank account information in income tax return.
Whether the bank’s account is current or closed in the middle of the financial year, inform everyone while filing the return.
If there is some confusion while filling ITR, do not hesitate to seek the opinion of experts.
How to File ITR Online?

The Income Tax Department had released a linked e-filing software to file all the forms for the Financial Year 2017-18. In this, only ITR 1 and ITR 4 can be filled completely online without downloading any software in Excel or Java. For this, you have to keep your necessary documents ready with you and. Following is the way to fill ITR:

First of all, visit the e-filing website of the Income Tax Department.
If you are already registered, log in. Now go to your account.
Choose the assessment year, choose the ITR form name (ITR-1 or ITR-4) according to the submission mode and then click on “Prepare and Submit Online”.
If you previously filed an ITR online, you can also choose those information. Which you have already filled in the ITR form. Now select the information you want to fill in advance. And click on “Continue”. Now you will reach the first page where you can start filling the form. However, before filling the form, read the ‘General Instructions’ given at the beginning to avoid making mistakes.
After reading the instructions you can start filling your required information, such as ‘General information’, ‘Income details’, ‘Tax details’ ‘Taxes paid and verification’ and ’80G’ as ITR
You can file your tax return electronically by using Aadhar OTP or EVC (Electronic Verification Code) or by signing a printout of ITR V and sending it to Bangalore within 120 days from the date of e-filing.
Once your return is filed electronically, a receipt will be sent to your registered email.
After you confirm the ITR, the department will start the process and email it to your registered email ID and an SMS to the registered mobile number to inform you about it.

It is not necessary to file ITR only from the official site of the Government of India. There are also many private sectors that file ITR. Private sectors charge a fee in return for this.

%d bloggers like this: