श्री लाल बहादुर शास्त्री जी की जन्म-जयंती (2 अक्टूबर)

2 अक्टूबर का दिन बेहद खास है | क्योंकि इस दिन देश के पूर्व प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री जी (Lal Bahadur Shastri) की जन्म-जयंती (2 अक्टूबर 2 October) को मनाई जाती है | लाल बहादुर शास्त्री जी (Lal Bahadur Shastri) के प्रभावशाली व्यक्तित्व का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं, कि विदेशों में भी उनके विचारों और निडरता की तारीफ की जाती थी |

‘जय जवान, जय किसान’ का नारा देने वाले श्री लाल बहादुर शास्त्री जी

श्री लाल बहादुर शास्त्री जी ने ‘जय जवान, जय किसान’ का नारा दिया था | उन्होंने अपना पूरा जीवन गरीबों की सेवा में समर्पित कर दिया था | शास्त्री जी  का जन्म उत्तर प्रदेश के मुगलसराय में दो अक्टूबर, 1904 को शारदा प्रसाद और रामदुलारी देवी के घर हुआ था |

देश की आजादी में लाल बहादुर शास्त्री (Lal Bahadur Shastri)  का योगदान है

देश की आजादी में श्री लाल बहादुर शास्त्री जी का खास योगदान है | साल 1920 में शास्त्री ने भारत की आजादी की लड़ाई में शामिल हो गए थे | स्वाधीनता संग्राम के जिन आंदोलनों में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही, उनमें 1921 का असहयोग आंदोलन, 1930 का दांडी मार्च और 1942 का भारत छोड़ो आंदोलन उल्लेखनीय हैं | शास्त्री ने ही देश को ‘जय जवान, जय किसान’ का नारा दिया था |
आइए, जानते हैं उनके विचार- 

  • यदि कोई एक व्यक्ति भी ऐसा रह गया जिसे किसी रूप में अछूत कहा जाए तो भारत को अपना सिर शर्म से झुकाना पड़ेगा |
  • हर कार्य की अपनी एक गरिमा है और हर कार्य को अपनी पूरी क्षमता से करने में ही संतोष प्राप्त होता है |
  • देश की तरक्की के लिए हमें आपस में लड़ने के बजाय गरीबी, बीमारी और अज्ञानता से लड़ना होगा | 
  • देश के प्रति निष्ठा  सभी निष्ठाओं से पहले आती है | और यह पूर्ण निष्ठा है क्यों कि इसमें कोई प्रतीक्षा नहीं कर सकता कि, बदले में उसे क्या मिलता है |

Gandhi Jayanti 2020: महात्मा गांधी के प्रेरक विचार

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

यह भी पढ़े –

पेड़ बचाओ जीवन बचाओ |जानिए कैसे ?

World Health Organisation का महत्वपूर्ण योगदान |

Save water यानि पानी बचाओ जीवन बचाओ | जानिए कैसे?

October 2 is a very special day. Because on this day, the birth anniversary of former Prime Minister of the country, Lal Bahadur Shastri (2 October 2 October) is celebrated. The impressive personality of Lal Bahadur Shastri

(Lal Bahadur Shastri) can be gauged from the fact that his views and fearlessness were praised even in foreign countries.

Shri Lal Bahadur Shastri, who gave the slogan ‘Jai Jawan, Jai Kisan’

Even So Shri Lal Bahadur Shastri Ji gave the slogan ‘Jai Jawan, Jai Kisan’. He devoted his entire life to the service of the poor. Shastri was born on 2 October 1904 in Mughalsarai, Uttar Pradesh, to the house of Sarada Prasad and Ramdulari Devi.

Lal Bahadur Shastri has contributed to the independence of the country.

So Shri Lal Bahadur Shastri ji has a special contribution to the independence of the country. So In the year 1920, Shastri joined the freedom struggle of India. Even so Among the movements in which they played an important role in the freedom struggle, the Non-Cooperation Movement of 1921,

And Also the Dandi March of 1930 and the Quit India Movement of 1942 are notable. It was Shastri who gave the slogan of ‘Jai Jawan, Jai Kisan’ to the country.

Come, know their thoughts-

If any one person is left so called untouchable in some form,

then India will have to bow its head in shame.

So Every work has its own dignity and one gets satisfaction in doing every task to its full potential.
Instead of fighting amongst ourselves for the progress of the country, we have to fight poverty, disease and ignorance.

Loyalty to the country comes before all the allegiance. And this is total loyalty because no one can wait to see what they get in return.

Leave a Comment

%d bloggers like this: