COVID -19 एक पलक के कारणे,युं ना कलंक लगाय।

COVID -19 *एक पलक के कारणे,युं ना कलंक लगाय।”* अर्थात आज के परिपेक्ष्य में इस कोरोना महामारी की vaccine  इजाद करने में कई देश लगे हुए है और सफलता के कगार पर भी है, लेकिन अभी विश्व के दुसरे देशो ने पूर्णतया सफलता प्राप्त नहीं की है | लेकिन धैर्य और जरुरी नियमो का पालन करेंगे तो covid -19 की vaccine भी जल्दी ही ईजाद होगी और लोगो का जीवन इससे बचाया जा सकेगा | हाँ हमारा देश covid 19 vaccine ईजाद के मामले में सफलता अर्जित कर मानवता की रक्षा में अपना best सार्थक सहयोग निरंतर कर रहा है | इस प्रेरणादायक कहानी से इसे समझ सकते है कुछ इस प्रकार – 

Article about Success Define
Category Badisoch
Written by Dr.PS,yadav

एक राजा को राज करते काफी समय हो गया था | बाल भी सफ़ेद होने लगे थे | एक दिन उसने अपने दरबार में उत्सव रखा और अपने मित्र देश के राजाओं को भी सादर आमन्त्रित किया व अपने गुरुदेव को भी बुलाया | उत्सव को रोचक बनाने के लिए राज्य की सुप्रसिद्ध नर्तकी को भी बुलाया गया |
राजा ने कुछ स्वर्ण मुद्रायें अपने गुरु जी को भी दी, ताकि नर्तकी के अच्छे गीत व नृत्य पर वे भी उसे पुरस्कृत कर सकें | सारी रात नृत्य चलता रहा | ब्रह्म मुहूर्त की बेला आई, नर्तकी ने देखा कि मेरा तबले वाला ऊँघ रहा है और तबले वाले को सावधान करना ज़रूरी है, वरना राजा का क्या भरोसा दंड दे दे |
तो उसको जगाने के लिए नर्तकी ने एक दोहा पढ़ा –

*”घणी गई थोड़ी रही,या में पल पल जाय।*
*एक पलक के कारणे,युं ना कलंक लगाय।”*

friend अच्छा मित्र कौन ? जानिए विस्तार से |

अब इस दोहे का अलग-अलग व्यक्तियों ने अपने अनुरुप अर्थ निकाला |
तबले वाला सतर्क होकर बजाने लगा |

जब यह दोहा *गुरु जी* ने सुना, तो गुरुजी ने सारी मोहरें उस नर्तकी को अर्पण कर दी |
दोहा सुनते ही राजकुमारी ने भी अपना नौलखा हार नर्तकी को भेंट कर दिया |
दोहा सुनते ही युवराज ने भी अपना मुकुट उतारकर नर्तकी को समर्पित कर दिया  |
राजा बहुत ही अचम्भित हो गया सोचने लगा रात भर से नृत्य चल रहा है पर यह क्या!
अचानक एक दोहे से सब अपनी मूल्यवान वस्तु बहुत ही ख़ुश हो कर नर्तकी को समर्पित कर रहें हैं ?

राजा सिंहासन से उठा और नर्तकी को बोला *एक दोहे* द्वारा एक नीच या सामान्य नर्तकी होकर तुमने सबको लूट लिया |

जब यह बात राजा के गुरु ने सुनी तो गुरु के नेत्रों में आँसू आ गए और गुरुजी कहने लगे – “राजा ! इसको नीच नर्तकी मत कह, ये अब मेरी गुरु बन गयी है, क्योंकि इसके दोहे ने मेरी आँखें खोल दी हैं। दोहे से यह कह रही है कि मैं सारी उम्र जंगलों में भक्ति करता रहा और आखिरी समय में नर्तकी का मुज़रा देखकर अपनी साधना नष्ट करने यहाँ चला आया हूँ, भाई ! मैं तो चला ।” यह कहकर गुरुजी तो अपना कमण्डल उठाकर जंगल की ओर चल पड़े |

राजा की लड़की ने कहा – “पिता जी ! मैं जवान हो गयी हूँ | आप आँखें बन्द किए बैठे हैं, मेरा विवाह नहीं कर रहे थे | आज रात मैं आपके महावत के साथ भागकर अपना जीवन बर्बाद करने वाली थी | लेकिन इस नर्तकी के दोहे ने मुझे सुमति दी, कि जल्दबाज़ी न कर, हो सकता है तेरा विवाह कल हो जाए, क्यों अपने पिता को कलंकित करने पर तुली है ?”

युवराज ने कहा – महाराज ! आप वृद्ध हो चले हैं, फिर भी मुझे राज नहीं दे रहे थे | मैं आज रात ही आपके सिपाहियों से मिलकर आपको मारने वाला था | लेकिन इस दोहे ने समझाया कि पगले ! आज नहीं तो कल आखिर राज तो तुम्हें ही मिलना है, क्यों अपने पिता के खून का कलंक अपने सिर पर लेता है! थोड़ा धैर्य रख |”

जब ये सब बातें राजा ने सुनी तो राजा को भी आत्म ज्ञान हो गया | राजा के मन में वैराग्य आ गया | राजा ने तुरन्त फैंसला लिया -“क्यों न मैं अभी युवराज का राजतिलक कर दूँ।” फिर क्या था, उसी समय राजा ने युवराज का राजतिलक किया और अपनी पुत्री को कहा – “पुत्री ! दरबार में एक से एक राजकुमार आये हुए हैं | तुम अपनी इच्छा से किसी भी राजकुमार के गले में वरमाला डालकर पति रुप में चुन सकती हो |”

राजकुमारी ने ऐसा ही किया और राजा सब त्याग कर जंगल में गुरु की शरण में चला गया |

यह सब देखकर नर्तकी ने सोचा -“मेरे एक दोहे से इतने लोग सुधर गए, लेकिन मैं क्यूँ नहीं सुधर पायी ?”
उसी समय नर्तकी में भी वैराग्य आ गया । उसने उसी समय निर्णय लिया कि आज से मैं अपना नृत्य बन्द करती हूँ |
“हे प्रभु ! मेरे पापों से मुझे क्षमा करना। बस, आज से मैं सिर्फ तेरा नाम सुमिरन करुँगी  ”
संक्रमण काल काफ़ी निकल चुका है, बस ! थोड़ा ही बचा है |
—- आज हम इस दोहे को covid -19 अर्थात कोरोना को लेकर अपनी समीक्षा करके देखे , तो हमने पिछले 22 मार्च से जो संयम बरता, परेशानियां झेली, ऐसा न हो कि अंतिम क्षण में एक छोटी सी भूल, हमारी covid -19 के प्रति लापरवाही, हमारे साथ पूरे समाज/गाँव/शहर/राज्य को न ले बैठे |
आओ हम सब मिलकर कोरोना से संघर्ष करें | 
घणीगई _थोड़ी रही, _या _में _पल_पल _जाय |
एक _पलक _रे _कारणे, _युं _ना _कलंक _लगाय |”
घर पर रहें, सुरक्षित रहें , मास्क जरुर लगाए व सावधानियों का विशेष ध्यान रखें | 

नोट- भारत में निर्मित covid vaccine पूर्णतया सुरक्षित एवं प्रभावशाली है | इसलिए अफवाहों से बचे और अपने आपको COVID -19 से सुरक्षित रखने के लिए covid vaccine जरुर लगवाएं |

COVID-19 से बचाव, के लिए अपनाएं आयुष मंत्रालय के ये टिप्स

secret of success सफलता का रहस्य क्या है ? सफलता के मूल मंत्र जानिए | success mantra
success definition सफलता की परिभाषा क्या है ? diligence यानि परिश्रम ही सफलता की कुंजी है | जानिए कैसे ?
web hosting  क्या है? सम्पूर्ण जानकारी donate का महत्व और आवश्यकता विस्तार-पूर्वक जाने|
Conference क्या है ? Conference Call कैसे करे ? – जानिए| web hosting free Top Company जानिए WordPress Blog के लिए

software के प्रकार और परिभाषा क्या है ? जानिए

happy wedding anniversary wishes

महाभारत की सम्पूर्ण कथा! Complete Mahabharata Story In Hindi

Network marketing quotes-नेटवर्क मार्केटिंग कोट्स हिंदी में

ऑनलाइन शिक्षा के फायदे और नुकसान क्या है ?

पहला अध्याय – Chapter First – Durga Saptashati

ऐसी सोच बदल देगी जीवन
कैसे लाए बिज़्नेस में एकाग्रता
SEO क्या है – Complete Guide In Hindi बड़ी सोच से कैसे बदले जीवन
सफलता की राह कैसे चले अमीरों के रास्ते कैसे होते है
कैसे सोचे leader की तरह
किस तरह बड़ी सोच पहुँचाती है शिखर पर
क्या आप डर से डरते हो या डर को भगाते हों ? गौमाता के बारे में रोचक तथ्य
सक्सेस होने के रूल
हेल्थ ही असली धन है
चैम्पीयन कैसे बने

Google Translate Uses – गूगल अनुवाद ऐप जानिए क्या है ?

अब coronil (कोरोनिल) tablet से covid-19 का इलाज की सम्भावना|जानिए दावे की सत्यता

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

Leave a Comment

%d bloggers like this: