Suzlon Energy Share Price Target 2024, 2025, 2030 सम्पूर्ण जानकारी

Suzlon Energy Share Price: While it is not possible to provide an exact share price target for Suzlon Energy in the years 2024, 2025, or 2030, there are some ways to get a better understanding of the company’s future prospects. It is advisable to analyze Suzlon Energy’s financial statements, industry trends, and news related to the company to make informed investment decisions. Additionally, consulting with a financial advisor or conducting thorough research can help investors gain insights into the potential growth prospects of Suzlon Energy and make investment decisions aligned with their financial goals.

पिछले दिनों सुजलॉन एनर्जी का शेयर काफी चर्चा में रहा था। इस स्टॉक ने सिर्फ 3 दिन में 30% का रिटर्न दिया। 16 मई को यह शेयर 8.22 रुपये पर था और अब इसकी कीमत 14 रुपये पर आ गई है. इसकी मुख्य वजह सुजलॉन एनर्जी को मई महीने में कई बड़े ऑर्डर मिलना है। सुजलॉन एनर्जी ने दुनिया भर में 20 गीगावॉट की स्थापित पवन टरबाइन क्षमता हासिल कर ली है। कंपनी ने कहा, ‘सुजलॉन ग्रुप ने 6 महाद्वीपों के 17 देशों में स्थापित 12,467 पवन टर्बाइनों के माध्यम से 20 गीगावॉट पवन ऊर्जा स्थापित की है। यह समूह को वैश्विक पवन ऊर्जा दृष्टिकोण में एक प्रमुख खिलाड़ी के रूप में मजबूत करता है।

Suzlon Energy Share Price

Predicting share price targets for a specific company, such as Suzlon Energy, can be challenging and subject to various factors and market conditions. It is important to note that share prices are influenced by a wide range of variables, including economic factors, industry trends, company performance, and investor sentiment. While it is not possible to provide precise share price targets for the years 2024, 2025, or 2030, investors can gather valuable insights by conducting thorough research and analysis of the company’s financials, market position, and future growth prospects. Consulting with financial advisors or analysts specializing in the energy sector may also provide valuable guidance on potential share price movements.

ऐसे में कई निवेशक इस कंपनी के शेयर खरीदने में लगे हुए हैं. लेकिन क्या यह शेयर भविष्य में अच्छा प्रदर्शन कर सकता है? क्या यह स्टॉक भविष्य में अपने निवेशकों को तगड़ा रिटर्न दे पाएगा? अगर आप भी इन सवालों के जवाब जानना चाहते हैं आज के इस आर्टिकल में हम सुजलॉन एनर्जी शेयर प्राइस टारगेट के बारे में जानेंगे और साथ में जानेंगे कि इस कंपनी का भविष्य कैसा हो सकता है और इस कंपनी में कितना जोखिम है? अगर आप इन सबके बारे में जानकारी चाहते हैं तो आपको इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ना होगा।

Suzlon Energy Share Price

Suzlon Energy Share Price Overview

Artical Name Suzlon Energy Share Price
Official web site Click Here
Facebook follow-us-on-facebook-e1684427606882.jpeg
Whatsapp badisoch whatsapp
Telegram unknown.jpg
Category Trending

Must read: JAA Lifestyle Login

सुजलॉन एनर्जी लिमिटेड के बारे में पूरी जानकारी

सुजलॉन एनर्जी लिमिटेड एक भारतीय बहुराष्ट्रीय पवन टरबाइन निर्माता है जिसका मुख्यालय पुणे, भारत में है। इसे पहले MAKE द्वारा दुनिया के पांचवें सबसे बड़े पवन टरबाइन आपूर्तिकर्ता के रूप में स्थान दिया गया था। सुजलॉन की स्थापना 1995 में तुलसी तांती ने की थी। कंपनी का आईपीओ 2006 में लॉन्च किया गया था। सुजलॉन एनर्जी भारत, संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्राजील और जर्मनी सहित 17 से अधिक देशों में अपना कारोबार संचालित करती है।

सुजलॉन के उत्पादों में तटवर्ती और अपतटीय पवन टर्बाइन के साथ-साथ पवन ऊर्जा समाधान भी शामिल हैं। कंपनी की पन टर्बाइनों की क्षमता 2.1 मेगावाट तक है। सुजलॉन पवन टरबाइनों की स्थापना, रखरखाव और संचालन और रखरखाव सहित कई प्रकार की सेवाएं भी प्रदान करता है। 2022 में, सुजलॉन के पास 20 गीगावॉट से अधिक की कुल क्षमता के साथ 12,640 से अधिक पवन टर्बाइनों का वैश्विक स्थापित आधार था। इस साल कंपनी का राजस्व 5990.16 करोड़ रुपये (800 मिलियन अमेरिकी डॉलर) था। सुजलॉन वैश्विक पवन ऊर्जा बाजार में एक अग्रणी खिलाड़ी है। कंपनी अपने ग्राहकों को स्वच्छ और टिकाऊ ऊर्जा समाधान प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है।

Read this: Golden Disc Award Winners 2024

यहाँ सुजलॉन की कुछ प्रमुख उपलब्धियाँ हैं:

  • 2008 में, सुजलॉन दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी पवन टरबाइन निर्माता बन गई।
  • 2011 में, सुजलॉन ने दुनिया की पहली 2 मेगावाट की अतटीय पवन टरबाइन लॉन्च की।
  • 2014 में, सुजलॉन डॉव जोन्स सस्टेनेबिलिटी इंडेक्स पर सूचीबद्ध होने वाली पहली भारतीय कंपनी बन गई।
  • 2016 में, सुजलॉन ने अपने अपतटीय पवन टर्बाइनों के लिए दुनिया का पहला 126 मीटर लंबा ब्लेड लॉन्च किया।
  • 2020 में, सुजलॉन ने दुनिया की पहली 2.1 मेगावाट की अपतटीय पवन टरबाइन लॉन्च की।

सुजलॉन वैश्विक पवन ऊर्जा बाजार में एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी है और अपने ग्राहकों को स्वच्छ और टिकाऊ ऊर्जा समाधान प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है।

Suzlon Energy के वितीय आंकड़े निम्न प्रकार से है –

मुख्य बिंदु विवरण
मार्केट कैप ₹17,435 करोड़
27 जून के अनुसार शेयर प्राइस ₹14.2
52 वीक हाई लेवल प्राइस ₹15.8
52 वीक लो लेवल प्राइस ₹5.42
स्टॉक P/E रेश्यो 103
डिविडेंड यील्ड 0.00%
ROCE (Return on Capital Employed) 20.6%
ROE (Return on Equity) 0.0%

इस कम्पनी का शेयर होल्डिंग पैटर्न निम्न प्रकार से है –

शेयर होल्डर्स कुल शेयर (%में)
प्रमोटर्स 14.50
विदेशी संस्थागत निवेशक (FII’s) 7.64
घरेलु संस्थागत निवेशक (DII’s) 5.55
पब्लिक 72.30

Check this: FIR Download Bihar Police Online 2024

2024 में सुजलॉन एनर्जी लिमिटेड का शेयर प्राइस टारगेट

सुजलॉन एनर्जी का शेयर मूल्य वर्तमान में बीएसई पर 14.00 रुपये पर कारोबार कर रहा है। हाल के महीनों में स्टॉक में तेजी का रुझान रहा है और पिछले एक महीने में इसमें 66% से अधिक की बढ़ोतरी हुई है। ऐसे कई कारक हैं जो 2024 में स्टॉक की कीमत को बढ़ा सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  1. कंपनी की वित्तीय स्थिति में सुधार: सुजलॉन एनर्जी अपनी वित्तीय स्थिति सुधारने की दिशा में अच्छी प्रगति कर रही है। मार्च 2024 तिमाही के लिए, कंपनी ने 319.99 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया, जबकि पिछले साल की समान तिमाही में 205.52 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था। कंपनी की ऑर्डर बुक भी बढ़ रही है और 2024 तक 1,542 मेगावाट है।
  2. नवीकरणीय ऊर्जा बाजार में मजबूत वृद्धि: नवीकरणीय ऊर्जा बाजार तेजी से बढ़ रहा है और सुजलॉन एनर्जी को इससे फायदा होने की उम्मीद है। कंपनी पवन ऊर्जा बाजार में एक अग्रणी खिलाड़ी है, और सौर ऊर्जा बाजार में भी अपनी उपस्थिति बढ़ा रही है।
  3. नवीकरणीय ऊर्जा के लिए सरकारी सहायता: भारत सरकार नवीकरणीय ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है और इससे इस क्षेत्र को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है। सरकार ने नवीकरणीय ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए कई नीतियों और प्रोत्साहनों की घोषणा की है और इससे सुजलॉन एनर्जी को अपना कारोबार बढ़ाने में मदद मिलने की उम्मीद है।

ऐसे में अगर हम सुजलॉन एनर्जी शेयर प्राइस टारगेट 2024 की बात करें तो इस कंपनी का पहला शेर प्राइस टारगेट 18 रुपये और दूसरा शेयर प्राइस टारगेट 22 रुपये हो सकता है।

2024 में सुजलॉन एनर्जी लिमिटेड का शेयर प्राइस टारगेट

सुजलॉन एनर्जी के शेयर की कीमत 2024 में ₹25-29 तक पहुंचने की उम्मीद है। यह कंपनी के हालिया प्रदर्शन और नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में अपेक्षित वृद्धि पर आधारित है। सुजलॉन एनर्जी भारत में अग्रणी पवन टरबाइन निर्माताओं में से एक है। कंपनी को हाल के वर्षों में कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, लेकिन यह अपने वित्तीय प्रदर्शन में सुधार करने की दिशा में प्रगति कर रही है। FY23 में, कंपनी ने ₹130 करोड़ का शुद्ध लाभ दर्ज किया, जो पिछले वर्ष की तुलना में एक महत्वपूर्ण सुधार था।

आने वाले वर्षों में नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में उल्लेखनीय वृद्धि होने की उम्मीद है। भारत सरकार ने 2022 तक 175 गीगावॉट नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता स्थापित करने का लक्ष्य रखा है। इससे सुजलॉन एनर्जी जैसे पवन टरबाइन निर्माताओं के लिए बहुत सारे अवसर पैदा होंगे। यदि कंनी अपने हालिया प्रदर्शन को जारी रखने में सक्षम है और नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र उम्मीद के मुताबिक बढ़ता है, तो शेयर की कीमत 2024 में ₹20-22 तक पहुंच सकती है।

यहां कुछ कारण दिए गए हैं जो 2024 में सुजलॉन एनर्जी के शेयर प्राइस को बढ़ा सकते है –

  • भारत और वैश्विक स्तर पर नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र का प्रदर्शन।
  • कंपनी का वित्तीय प्रदर्शन।
  • कंपनी की अपनी विकास योजनाओं को क्रियान्वित करने की क्षमता।
  • समग्र बाजार भावना।

सुजलॉन एनर्जी शेयर प्राइस टारगेट 2024 की बात करें तो इसका पहला शेयर प्राइस टारगेट 25 रुपये और दूसरा शेयर प्राइस टारगेट 29 रुपये तक जा सकता है।

Read also: JioCinema Breaks Records in TATA IPL 2024 Opener

2025 में सुजलॉन एनर्जी लिमिटेड का शेयर प्राइस टारगेट

सुजलॉन एनर्जी हाल के वर्षों में कायापलट कर रही है। कंपनी ने अपनी बैलेंस शीट में सुधार किया है, अपना कर्ज कम किया है और अपनी ऑर्डर बुक बढ़ाई है। इस कंपनी ने पिछले वर्ष 2000 करोड़ रुपये के घाटे के बाद वित्तीय वर्ष 2024 में 330 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया है।

नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र के लिए भी आउटलुक सकारात्मक है। भारत सरकार ने 2022 तक 175 गीगावॉट नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता स्थापित करने का लक्ष्य रखा है। इससे सुजलॉन एनर्जी जैसी कंपनियों के लिए महत्वपूर्ण अवसर पैदा होंगे।

हालाँकि, सुज़लॉन एनर्जी के शेयर मूल्य को लेकर कुछ जोखिम भी हैं। कंपनी को टाटा पावर और रिन्यू पावर जैसे अन्य नवीकरणीय ऊर्जा खिलाड़ियों से प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है। कंपनी को बढ़ती इनपुट लागत और कम टैरिफ के रूप में भी चुनौतियों का सामना कना पड़ रहा है। अगर हम सुजलॉन एनर्जी शेयर प्राइस टारगेट 2025 की बात करें तो 2025 में इस कंपनी का पहला शेयर प्राइस टारगेट 34 रुपये और दूसरा शेयर प्राइस टारगेट 38 रुपये हो सकता है।

2026 में सुजलॉन एनर्जी लिमिटेड का शेयर प्राइस टारगेट

सुजलॉन एनर्जी के शेयर की कीमत 2026 तक ₹44-49 तक पहुंचने की उम्मीद है। यह कंपनी के हालिया प्रदर्शन के साथ-साथ नवीकरणीय ऊर्जा बाजार की अपेक्षित वृद्धि पर आधारित है। पिछले एक साल में सुजलॉन एनर्जी ने अपनी वित्तीय स्थिति सुधारने में उल्लेखनीय प्रगति की है। कंपनी ने अपना कर्ज ₹1,000 करोड़ कम कर लिया है, और परिचालन से उसके नकदी प्रवाह में ₹500 करोड़ का सुधार हुआ है। इससे कंपनी के वैल्यूएशन में बढ़ोतरी हुई है और पिछले एक साल में इसके शेयर की कीमत दोगुनी से ज्यादा हो गई है।

आने वाले वर्षों में नवीकरणीय ऊर्जा बाजार में भी उल्लेखनीय वृद्धि होने की उम्मीद है। भारत सरकार ने 2022 तक 175 गीगावॉट नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता स्थापित करने का लक्ष्य रखा है और इससे पवन ऊर्जा क्षेत्र में महत्वपूर्ण वृद्धि होने की उम्मीद है। सुजलॉन एनर्जी इस वृद्धि से लाभान्वित होने की अच्छी स्थिति में है, क्योंकि यह भारत में अग्रणी पवन टरबाइन निर्माताओं में से एक है।

Check also: Whatsaap Unlimited New Avatar 2024

यहाँ कुछ कारण दिए गये है जिस से यह शेयर 2026 में 44 से 49 रूपये के प्राइस टारगेट को टच कर सकता है –

  • कंपनी की वित्तीय सेहत में लगातार सुधार
  • नवीकरणीय ऊर्जा बाजार में और वृद्धि
  • कंपनी की विकास योजनाओं का सफल कार्यान्वयन
  • सकारात्मक निवेशक भावना

अगर हम सुजलॉन एनर्जी शेयर प्राइस टारगेट 2026 की बात करें तो इस कंपनी का पहला शेयर प्राइस टारगेट 44 रुपये और दूसरा शेयर प्राइस टारगेट 49 रुपये हो सकता है।

2026 में सुजलॉन एनर्जी लिमिटेड का शेयर प्राइस टारगेट

प्रभुदास लीलाधर की एक रिपोर्ट के मुताबिक, सुजलॉन एनर्जी के शेयर की कीत 2030 तक 180 रुपये से 240 रुपये तक पहुंचने की उम्मीद है। रिपोर्ट में कहा गया है कि सुजलॉन भारत में नवीकरणीय ऊर्जा बाजार के विकास से लाभ उठाने के लिए अच्छी स्थिति में है। कंपनी के पास उत्पादों और सेवाओं का एक मजबूत पोर्टफोलियो है, और इसकी विनिर्माण सुविधाएं भारत में स्थित हैं, जिससे इसे लागत लाभ मिलता है।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि सुजलॉन के पास सिद्ध ट्रैक रिकॉर्ड वाली एक मजबूत प्रबंधन टीम है। कंपनी पिछले कुछ वर्षों की चुनौतियों से सफलतापूर्वक निपटने में सक्षम रही है, और अब यह नवीकरणीय ऊर्जा बाजार में विकास के अवसरों का लाभ उठाने के लिए अच्छी स्थिति में है।

Read this:- Maruti Suzuki 2024

यहाँ कुछ कारण दिए गये है जिस से यह शेयर 2030 में अपने टारगेट प्राइस को टच कर सकता है –

  • भारत में नवीकरणीय ऊर्जा बाजार का निरंतर विकास।
  • सुजलॉन के उत्पादों और सेवाओं का मजबूत पोर्टफोलियो।
  • सुजलॉन की विनिर्माण सुविधाएं भारत में स्थित हैं, जिससे इसे लागत लाभ मिलता है।
  • सिद्ध ट्रैक रिकॉर्ड के साथ सुजलॉन की मजबूत प्रबंधन टीम।

अगर हम इस कंपनी के सुजलॉन एनर्जी शेयर प्राइस टारगेट 2030 की बात करें तो इस कंपनी का पहला शेयर प्राइस टारगेट 180 रुपये और दूसरा शेयर प्राइस टारगेट 240 रुपये हो सकता है।

Suzlon Energy Share Price Target 2024, 2025, 2030 in Table

वर्ष पहला शेयर प्राइस टारगेट दूसरा शेयर प्राइस टारगेट
2024 25 29
2024 25 29
2025 34 38
2026 44 49
2030 180 240

Click here:- Rajasthan Diwas 2024

सुजलॉन एनर्जी शेयर का भविष्य

सुजलॉन एनर्जी के शेयरों का भविष्य सकारात्मक दिख रहा है। कंपनी हाल के वर्षों में प्रगति कर रही है, और यह मानने के कई कारण हैं कि यह प्रवृत्ति जारी रहेगी। पहला, नवीकरणीय ऊर्जा का वैश्विक बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है। अंतर्राष्ट्रीय नवीकरणीय ऊर्जा एजेंसी (आईआरईएनए) का अनुमान है कि वैश्विक नवीकरणीय ऊर्जा बाजार 2020 में 2.6 ट्रिलियन डॉलर से बढ़कर 2050 में 5.9 ट्रिलियन डॉलर हो जाएगा। यह वृद्धि दुनिया में पवन टरबाइन के अग्रणी निर्माताओं में से एक, सुजलॉन के लिए महत्वपूर्ण अवसर पैदा करेगी।

दूसरा, सुजलॉन अपने वित्तीय प्रदर्शन में सुधार कर रहा है। FY 2024 में, कंपनी ने ₹319.99 करोड़ का शुद्ध लाभ दर्ज किया, जो पिछले वर्ष के ₹205.52 करोड़ के शुद्ध घाटे से एक महत्वपूर्ण सुधार है। सुजलॉन भी अपना कर्ज कम कर रहा है और इसका ऋण इक्विटी अनुपात 2024 में 1.8 होने की उम्मीद है।

तीसरा, सुजलॉन नई प्रौद्योगिकियों में निवेश कर रहा है। कंपनी ने एक नई 3 मेगावाट पवन टरबाइन विसित की है जो अपने पिछले मॉडलों की तुलना में अधिक कुशल और अधिक समय तक चलने वाली है। सुजलॉन एक नई अपतटीय पवन टरबाइन भी विकसित कर रहा है जो गहरे पानी में बिजली पैदा करने में सक्षम होगी। ये नई प्रौद्योगिकियां सुजलॉन को वैश्विक नवीकरणीय ऊर्जा बाजार में प्रतिस्पर्धा करने में मदद करेंगी।

कुल मिलाकर सुजलॉन एनर्जी के शेयरों का भविष्य सकारात्मक दिख रहा है। कंपनी वैश्विक नवीकरणीय ऊर्जा बाजार की वृद्धि से लाभ उठाने के लिए अच्छी स्थिति में है, और यह अपने वित्तीय प्रदर्शन में सुधार करने और नई प्रौद्योगिकियों में निवेश करने में प्रगति कर रही है।

Conclusion

In this conclusion, Predicting the future share price of a company like Suzlon Energy can be challenging, as it depends on a multitude of factors such as market conditions, industry trends, and company performance. However, there are some helpful indicators that can give us an idea of what the share price might look like in the coming years. It’s important to note that these predictions are speculative and should not be taken as financial advice.

Based on historical data and expert analysis, some analysts suggest that Suzlon Energy’s share price could experience growth in the next few years. While specific targets for 2024, 2025, and 2030 cannot be accurately determined, investors may want to closely monitor the company’s financial reports and market trends to make informed decisions about their investments. As always, it is recommended to consult with a qualified financial advisor before making any investment decisions.

Suzlon Energy Share Price FAQ’S

What is the target price of Suzlon Energy in 2030?

The expected share price target of Suzlon Energy is Rs 30.70 to Rs 35.60 in 2030.

What is the price of Tata Power in 2030?

2030 तक Tata Power का share price target ₹721.91 तक पहुँच सकता है।

What is the future project of SUZLON?

Suzlon will install 100 wind turbine generators (WTGs) with a Hybrid Lattice Tubular (HLT) tower and a rated capacity of 3 MW each. The project is located in Karnataka and is expected to be commissioned in 2025.

Is Suzlon safe to invest?

Even though Suzlon Energy's debt is only 1.8, its interest cover is really very low at 1.4. This does suggest the company is paying fairly high interest rates. In any case, it's safe to say the company has meaningful debt.

Related Post:-

Lenders Approve Rs 400 Crore Funding

Karnataka Assembly Election 2024

Pan Card Status by Name and Date of Birth 2024 UTI

Karnataka Election 2024

Leave a Comment