तापस प्रकरण अयोध्याकाण्ड श्री रामचरितमानस

तापस प्रकरण

* तेहि अवसर एक तापसु आवा। तेजपुंज लघुबयस सुहावा॥
कबि अलखित गति बेषु बिरागी। मन क्रम बचन राम अनुरागी॥4॥
भावार्थ:-उसी अवसर पर वहाँ एक तपस्वी आया, जो तेज का पुंज, छोटी अवस्था का और सुंदर था। उसकी गति कवि नहीं जानते (अथवा वह कवि था जो अपना परिचय नहीं देना चाहता)। वह वैरागी के वेष में था और मन, वचन तथा कर्म से श्री रामचन्द्रजी का प्रेमी था॥4॥
दोहा :
* सजल नयन तन पुलकि निज इष्टदेउ पहिचानि।
परेउ दंड जिमि धरनितल दसा न जाइ बखानि॥110॥
भावार्थ:-अपने इष्टदेव को पहचानकर उसके नेत्रों में जल भर आया और शरीर पुलकित हो गया। वह दण्ड की भाँति पृथ्वी पर गिर पड़ा, उसकी (प्रेम विह्वल) दशा का वर्णन नहीं किया जा सकता॥110॥
चौपाई :
* राम सप्रेम पुलकि उर लावा। परम रंक जनु पारसु पावा॥
मनहुँ प्रेमु परमारथु दोऊ। मिलत धरें तन कह सबु कोऊ॥1॥
भावार्थ:-श्री रामजी ने प्रेमपूर्वक पुलकित होकर उसको हृदय से लगा लिया। (उसे इतना आनंद हुआ) मानो कोई महादरिद्री मनुष्य पारस पा गया हो। सब कोई (देखने वाले) कहने लगे कि मानो प्रेम और परमार्थ (परम तत्व) दोनों शरीर धारण करके मिल रहे हैं॥1॥
* बहुरि लखन पायन्ह सोइ लागा। लीन्ह उठाइ उमगि अनुरागा॥
पुनि सिय चरन धूरि धरि सीसा। जननि जानि सिसु दीन्हि असीसा॥2॥
भावार्थ:-फिर वह लक्ष्मणजी के चरणों लगा। उन्होंने प्रेम से उमंगकर उसको उठा लिया। फिर उसने सीताजी की चरण धूलि को अपने सिर पर धारण किया। माता सीताजी ने भी उसको अपना बच्चा जानकर आशीर्वाद दिया॥2॥
* कीन्ह निषाद दंडवत तेही। मिलेउ मुदित लखि राम सनेही॥
पिअत नयन पुट रूपु पियुषा। मुदित सुअसनु पाइ जिमि भूखा॥3॥
भावार्थ:-फिर निषादराज ने उसको दण्डवत की। श्री रामचन्द्रजी का प्रेमी जानकर वह उस (निषाद) से आनंदित होकर मिला। वह तपस्वी अपने नेत्र रूपी दोनों से श्री रामजी की सौंदर्य सुधा का पान करने लगा और ऐसा आनंदित हुआ जैसे कोई भूखा आदमी सुंदर भोजन पाकर आनंदित होता है॥3॥
* ते पितु मातु कहहु सखि कैसे। जिन्ह पठए बन बालक ऐसे॥
राम लखन सिय रूपु निहारी। होहिं सनेह बिकल नर नारी॥4॥
भावार्थ:-(इधर गाँव की स्त्रियाँ कह रही हैं) हे सखी! कहो तो, वे माता-पिता कैसे हैं, जिन्होंने ऐसे (सुंदर सुकुमार) बालकों को वन में भेज दिया है। श्री रामजी, लक्ष्मणजी और सीताजी के रूप को देखकर सब स्त्री-पुरुष स्नेह से व्याकुल हो जाते हैं॥4

यह भी पढे –  प्रयाग पहुँचना, भरद्वाज संवाद, यमुनातीर निवासियों का प्रेम

 


Tapas case

 

On the same occasion, an ascetic came there, which was sharp, small, and beautiful. Poets do not know his pace (or was a poet who does not want to introduce himself). He was in disguise of recluse and was the lover of Shri Ramchandraji by mind, word, and deed.
Recognizing his presiding deity, his eyes filled with water, and his body pulsed. He fell on the earth like a punishment, his (love feverish) condition cannot be described.
Shri Ramji lovingly pulsed and engaged him from the heart. (He enjoyed it so much) as if a great human being had found Paras. Everyone (watchers) started saying that as if both love and paramartha (supreme element) are meeting by holding the body.
Then he came at the feet of Laxmanji. They picked him up with love. Then he put Sitaji’s step dust on his head. Mother Sita ji also blessed her as her child.
Then Nishadraj worshiped him. Knowing the lover of Shri Ramchandraji, he met him (Nishad) with joy. The ascetic began to enjoy the beauty of Sri Ramji with both his eyes and was delighted as a hungry man rejoices by getting beautiful food.
(Here the women of the village are saying) O, friend! Say, how are those parents who have sent such (beautiful Sukumar) children to the forest. Seeing the form of Shri Ramji, Laxmanji, and Sitaji, all men and women get distraught with affection.

Leave a Comment

%d bloggers like this: