पेड़ बचाओ जीवन बचाओ |जानिए कैसे ?

पेड़ बचाओ जीवन बचाओ

पेड़ बचाओ जीवन बचाओ क्योंकि धरती का सृंगार पेड़ है| धरती पर जीवन, जल और ऑक्सीजन पेड़ों की वजह से मुमकिन है| इसलिए कहते है, पेड़ बचाओ जीवन बचाओ| क्योंकि पेड़ हवा, मिट्टी और पानी को शद्ध करने में बड़ी भूमिका निभाता है| इस वजह से धरती को रहने के लिये एक बेहतर जगह बनाता है| … Read more

दान का फल और महत्व क्या है ? जानिए विस्तार पूर्वक

दान का फल

दोस्तो ऐसा हिन्दू धर्म मे माना गया है, की इन्सानो के द्वारा किया गया कोई भी दान का फल उसे ज़रूर मिलता है| श्री मदभागवत गीता मे लिखा है, दूसरों की निःस्वार्थ भाव से गई सेवा सदैव आपके जीवन मे फलदायी सिद्ध होती है| इसी सच्ची सेवा भावना के बदले मे दूसरों के मुंह से … Read more

भरतीय संस्कृति की मुख्य विशेषताए| क्या आप जानते है ?

भरतीय संस्कृति

भरतीय संस्कृति की मुख्य विशेषताए आइए जानते है विस्तार पूर्वक भरतीय संस्कृति की मुख्य विशेषताए| भरतीय संस्कृति –  दो पक्ष – कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष ! तीन ऋण – देव ऋण एवं पित्र ऋण एवं ऋषि ऋण  ! चार युग – सतयुग , त्रेता युग , द्वापरयुग एवं कलियुग  ! चार धाम – द्वारिका … Read more

जब कर्ण ने श्रीकृष्णजी से पूछा मेरा क्या दोष था?

जब कर्ण ने श्रीकृष्णजी से पूछा

Mahabharat : जब कर्ण ने श्रीकृष्णजी से पूछा मेरा क्या दोष था ? जरूर जानिए श्रीकृष्ण का उत्तर– कर्ण ने श्रीकृष्णजी से पूछा – मेरा जन्म होते ही मेरी माँ ने मुझे त्याग दिया| क्या अवैध संतान होना मेरा दोष था? द्रोणाचार्य ने मुझे सिखाया नहीं, क्योंकि मैं क्षत्रिय पुत्र नहीं था| परशुराम जी ने … Read more

सम्पूर्ण चाणक्य नीति | Total Chanakya Policy |

सम्पूर्ण चाणक्य नीति |

सम्पूर्ण चाणक्य नीति | आचार्य चाणक्य एक ऐसी महान विभूति थे, जिन्होंने अपनी विद्वत्ता, बुद्धिमता और क्षमता के बल पर भारतीय इतिहास की धारा को बदल दिया। मौर्य साम्राज्य के संस्थापक चाणक्य कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में भी विश्वविख्‍यात हुए। इतनी सदियाँ गुजरने के बाद आज भी यदि चाणक्य के द्वारा … Read more

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं संदेश नव संवत्सर २०७९

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं संदेश

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं संदेश : नव संवत्सर २०७९ भारत में हिन्दू नव वर्ष का त्यौहार  श्रद्धा और भक्ति के साथ मनाया जाता हैं। हिंदू नव वर्ष की शुरुआत चैत्र नवरात्र से होती है। इस दिन को लोग नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं संदेश के रूप में श्रधा और भाईचारे के साथ मनाते है। इस … Read more