money धन के तीन प्रयोग भोग ,दान और नाश | जानिए कैसे ?

money-जीवन मे money धन कमाना अधिकांश लोगो का सपना और लक्ष्य होता है| और यह सपना अथवा लक्ष्य होना भी चाहिए| अर्थात जीवन मे धन कमाना भी चाहिए| क्योंकि धन से इंसान की जरूरते पूरी होती है| धार्मिक आयोजन हो या दान दक्षिणा अथवा किसी का आर्थिक सहयोग सभी मे money धन की महत्वपूर्ण भूमिका होती है|

कैसे कमाए money ? अथवा धन कमाने का मार्ग कैसा होना चाहिए?

आजकल ही नहीं,अपितु कालांतर से ही धन को स्टेट्स सिंबल के रूप मे भी देखा जाता है| धन से इज्जतदार तरीके से जीवनयापन करते हुये जररूरतमंद लोगो का आर्थिक सहयोग भी कर सकते है| फिर भी विदित रहे , धन कमाने का उचित मार्ग होना चाहिए| money धन के तीन प्रयोग अर्थात भोग ,दान और नाश होते है| अर्थात money कमाने का उचित मार्ग होना चाहिए|

ऐसी सोच बदल देगी जीवन
best health tips अथवा सर्वोत्तम टिप्स | जानिए
World Health Organization क्या है? WHO क्या काम करता है? बड़ी सोच से कैसे बदले जीवन

दान और धन का प्रभाव 

money धन कमाने का उचित मार्ग होना चाहिए| साथ ही इसे न केवल कमाना ही चाहिए ,बल्कि इसका भोग अथवा उचित उपयोग भी करना चाहिए| साथ ही इंसान को आवश्यकतानुसार दान भी करना चाहिए| या यू कहे, अपनी कमाई का कुछ या एक निश्चित प्रतिशत दान भी करना चाहिए| क्योंकि किया गया दान कभी व्यर्थ नहीं जाता| बशर्ते उचित पात्र को ही दान करना चाहिए|

धन का उचित भोग और उचित दान इसलिए भी जरूरी है| क्योकि कुछ महान विचारको का कथन है, कि यदि धन का भोग या दान नहीं किया तो इसकी तीसरी अवस्था को प्राप्त हो जाता है| अर्थात धन का नाश हो जाता है| जो दुखद ,अनुचित एवं निंदनीय होता है| अतः धन का भोग भी करे और उचित दान भी अवश्य करे| उचित मात्रा एवं पात्र को किया गया दान सर्वोत्तम होता है|

गुप्त दान महादान अथवा सर्वोत्तम दान 

लेकिन विदित रहे दान एक हाथ से करे तो, दूसरे हाथ को भी पता नहीं होना चाहिए| अर्थात दान का ढिंढोरा नहीं पीटना चाहिए| तभी दान की सार्थकता है| और यह फलीभूत होता है| इसे अपना कर्तव्य और धर्म मानकर करना चाहिए| मान-बड़ाई या सम्मान की अभिलाषा से नहीं अपितु गुप्त दान श्रेष्ठ दान होता है| तथा समस्त अभिलाषा स्वतः ही पूरी हो जाती है| या परमात्मा पूरी कर देता है| ऐसा मेरा मानना है|

आजकल कुछ लोग दिखावे अथवा मान -बड़ाई के लिए ही दान करते है| तथा दान देते समय पात्र का भी ध्यान नहीं देते है ,जो उचित नहीं है| क्योंकि दान हमेशा पात्र को ही करे| मूक बधिर प्राणी या इसी तरह गौमाता के लिए किया गया दान,इस जन्म मे भी और अगले जन्म मे भी उत्तम फलदायक होता है| ऐसा मेरा क्याक्तिगत विश्वास है|

money धन अर्जन करने के उपरांत उपयोग क्यों व कैसे करे?

अतः money धन अर्जन करने के उपरांत भोग और दान अवश्य करे| लेकिन अपना फर्ज मानकर गुप्तदान करना चाहिए| किसी सार्वजनिक जगह अपने नाम का स्टिकर लगाकर नहीं करना चाहिए| साथ ही भगवान का धन्यवाद जरूर करे, की उन्होने आपको दान करने के काबिल बनाया है| क्योंकि भगवान ने पर्वत ,नदिया सुंदर वातावरण के साथ-साथ अमूल्य शरीर भी और समझ या बुद्धि भी हमे प्रदान किये है|

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

Leave a Comment

%d bloggers like this: