business में एकाग्रता के जबरदस्त फायदे जानिए कैसे ?

business में एकाग्रता के जबरदस्त फायदे जानिए कैसे ?-जिसे देखो वही रट लगाए हुए है कि ‘ध्यान दो’, पर कोई बताता नहीं कि ध्यान कैसे दिया जाए? ध्यान तो अपने स्वभाव के अनुसार बिना बताए राह भटक जाता है। कोई विद्यालय, कोई यूनिवर्सिटी यह नहीं बताती कि एकाग्र कैसे हुआ जाए। बहुधा बच्चे मुझसे पूछते हैं कि पढ़ाई करते समय उनका ध्यान 10 दिशाओं में क्यों भाग जाता है? यही समस्या बड़ों में भी है। दफ्तर में काम के समय कई बार उन्हें अपने ध्यान को एकाग्र करने में कठिनाई होती है, और सबसे बड़ी मुश्किल तो यह है कि जब वे ध्यान करने के लिए बैठते हैं, उस समय उनका मन और अधिक चंचल होने लगता है। तमाम बीती स्मृतियां और आने वाले कल की आशंकाएं उस समय उनके मन में उठने लगती हैं। कई बार तो रात को सोते समय ये सारी बातें उनके मन को विचलित करने लगती हैं और वे देर रात तक सो नहीं पाते।

मन को शांत, स्थिर और ध्यान को एकाग्र कैसे किया जाए? सभी साधकों से मैं कहता हूं कि आपके प्रश्न का उत्तर रहीम के इस दोहे में है, ‘एक साधे सब सधे, सब साधे सब जाय’ यानी आप जिस काम को कर रहे हैं उसी पर अपना ध्यान टिकाइए, कहीं और भटकने की जरूरत नहीं। ध्यान भटकेगा तो आप अपना सर्वोत्तम काम प्रस्तुत नहीं कर पाएंगे। सब जानते हैं कि अर्जुन सर्वश्रेष्ठ धर्नुधर बने, परंतु अर्जुन के अतिरिक्त गुरु द्रोणाचार्य दूसरे पांडु पुत्रों और कौरवों को भी धनुर्विद्या सिखा रहे थे। फिर अर्जुन में कौन सा गुण अतिरिक्त था जो उन्हें सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर बना दिया? निसंदेह विद्या के लिए लगन आवश्यक है, पर अर्जुन ने उससे भी ज्यादा एकाग्रता का अभ्यास किया।

business में सफलता

हम सभी business में सफल होना चाहते है। सफल होने की चाहत होनी भी चाहिए। यह जरुरी भी है। इसके लिए सबसे पहले हमें वह business करना चाहिए, जिसमे हमारी रूची हो। तथा वह व्यापार नहीं करना चाहिए, जिसमे बोरियत महशूस हो।

रुचीकर काम (occupation) शुरु करने के बाद सिर्फ पूरा ध्यान उसी पर लगाना चाहिए। मन को पूर्ण रूप से उसी (occupation) पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए। अगल-बगल में दूसरे options पर ध्यान नहीं भटकाना चाहिए। अर्थात आज यह, कल कोई दूसरा, परसों किसी तीसरे business पर विचार शुरु नहीं करना चाहिए।

अपने आप को सिर्फ एक ही काम जो शुरु कर दिया उसी (occupation) में मन लगाकर समर्पण-भाव से करना चाहिए। यह नही सोचना चाहिए कि, इसमें मै असफल होऊगाँ। सिर्फ सफल होने के बारे में  ही सोचना चाहिए। बार-बार business बदलना स्वयं के लिए अच्छा नही होता है। और occupation के लिए भी ठीक नही होता है।

business में एकाग्रता

business में एकाग्रता के जबरदस्त फायदे जानिए कैसे ? Details

Name Of Article business में एकाग्रता के जबरदस्त फायदे जानिए कैसे ?
business में एकाग्रता के जबरदस्त फायदे Click Here
Category Badi Soch
Official Website Click Also

Occupation में सफलता के लिए जरुरी tips

जो भी व्यापार को शुरु करो ,उससे सम्बंधित expert से सलाह या सहयोग लेते रहो। उस व्यापार की सफलता प्राप्ति हेतु समयानुसार सेमिनार attend भी करते रहना चाहिए।

Business से  सम्बंधित ऑडियो या विडियो अथवा लाइव विचार सुनते रहना चाहिए। मन में बोझ मानकर या अरुचि से नही बल्कि उत्साहपूर्वक सेमीनारों में भाग लेना चाहिए।

वहां से (सेमिनारो से ) हमे बिजनस की सफलता के लिए सबसे ज्यादा positive एनर्जी मिलती है। अपनी मानसिक क्षमता को बढ़ाने के लिए business (occupation) सम्बंधित या motivational books पढ़ते रहना चाहिए। व्यापार को प्राणों या चाहत से करना चाहिए। आप जरुर सफल होंगे। ”मै सफल होऊँगा” ऐसा ही सोचना भी चाहिए।

Read More-भरतजी चित्रकूट के मार्ग में

जीवन मंत्र डेस्क।

 हम किसी भी काम में एक्सपर्ट होना चाहते हैं तो हमें अपनी एकाग्रता बढ़ानी होगी। एकाग्रता के साथ किए गए हर काम में सफलता मिलने संभावनाएं बढ़ जाती हैं। शरीर में ऊर्जा का संचय तभी होता है, जब शरीर को ऊर्जा बढ़ाने का समय मिलता है। ध्यान करने से शरीर को मानसिक और शारीरिक ऊर्जा इकठ्ठा करने का समय मिलता है। ध्यान से ही एकाग्रता बढ़ती है। एकाग्रता किसी भी काम में परफेक्ट होने की पहली सीढ़ी है। मन को एकाग्र किए बिना कोई भी उपलब्धि हासिल नहीं की जा सकती है।
जब तक हम मन को एकाग्र करना नहीं करते हैं, तब तक मन हमें कुछ और नहीं सिखने देता है। इसीलिए सबसे जरूरी है, अपने मन पर काबू करना। कोई भी काम करते समय एकाग्रता बनाए रखनी चाहिए। एकाग्रता से तीन फायदे मिलते हैं…
पहला- शक्ति उत्पन्न होती है।
दूसरा- धैर्य जागता है।
तीसरा- शक्ति और धैर्य के परिणाम में हम साहसी हो जाते हैं।
एकाग्रता के इन फायदों से हमें सभी कामों में सफलता मिल सकती है। भक्ति में एकाग्रता बनाए रखने से भगवान की कृपा जल्दी मिलती है। इतिहास गवाह है कि जो-जो लोग भी खूब सफल हुए हैं, वे अपने कार्य के प्रति एकाग्र चित्त रहे हैं। एकाग्र चित्त होने का अभ्यास रोज नियमित रूप से करना होगा। इसका सीधा सा तरीका यह है कि कोई भी काम शुरू करने के पहले बेकार विचार और गतिविधियों का त्याग कर देना चाहिए।

Also Read-Best easiest save water ways :- पानी बचाने के आसान तरीके

संकल्प करें कि जो भी कुछ करना है, सोचना है, मिलना-जुलना है, वह काम पूरा होने के बाद ही होगा। इस समय जो कर रहे हैं, बस वही करना है। यह दृढ़ता धीरे-धीरे एकाग्र चित्त बना देगी। हम जितने एकाग्र चित्त होंगे, उतने ही जागृत रहेंगे।

business के साथ आपका नजरिया 

आपके रुचिकर occupation के साथ साथ आपका सकारात्मक नजरिया भी जरुरी है। आप जरुर सफल होंगे। बशर्ते आपको अपनी मेहनत और अपने आप पर दृढ विश्वास होना चाहिए। गुमराह तो वे है ,जिन्होंने Business के बारे में सोचा ही नहीं ……..

अतः” पूरी एकाग्रता और उत्साह से  punctual बनकर रुचिकर कार्य (व्यापार ) करो। सफ़लता आपके पीछे पीछे चलकर आयेगी।” विदित रहे when you are out of quality, you are out of Business.

Related Post-

Comments कैसे करे? जो आपके लिए फायदेमंद हो।

Artificial Intelligence क्या है और कैसे काम करता है?

तृतीय सोपान-मंगलाचरण

88 thoughts on “business में एकाग्रता के जबरदस्त फायदे जानिए कैसे ?”

  1. जिस भी वक्ती का मन शंका , चिंता और भय से भरा हो वह बडे काम तो क्या, साघारण से साघारण काम भी नहीं कर सकता है चिंता व शंका आपके मन को कभी भी एकाग्र नही होने देगे अतः आत्म विश्वास बढाने हेतु अपने मन से सभी पृकार के संदेह निकाले तथा एकाग्रता को बढाये |

    Reply

Leave a Comment

%d bloggers like this: