computer ( कंप्यूटर ) क्या है ?इसके विकास के चरण|

कंप्यूटर परिचय- computer शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा के computare शब्द से हुई है| तथा कंप्यूटर शब्द अंग्रेजी के “Compute” शब्द से बना है| जिसका अर्थ “गणना”, करना होता है| इसीलिए इसे गणक या संगणक भी कहा जाता है| computer का अविष्‍कार Calculation करने के लिये हुआ था| कम्प्यूटर का जनक चार्ल्स बैबेज (Charles Babbage) को कहा जाता है| चार्ल्स बैबेज का जन्म लंदन में हुआ था|

  what is computer, कंप्यूटर क्या है? 

computer एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण (electronic device) है| जो उपयोगकर्ता से डेटा (data) और निर्देशकों (instructions) के रूप में इनपुट (input) प्राप्त करता है| एक बार input डेटा प्राप्त होने के बाद ,यह डेटा की प्रोसेसिंग (processing) शुरु कर देता है| और उपयोगकर्ता के निर्देशों के अनुसार हमें आउटपुट (output) प्रदान करता है|

पुराने समय में Computer का use केवल Calculation करने के लिये किया जाता था| किन्‍तु आजकल इसका use डाक्‍यूमेन्‍ट बनाने, E-mail, listening and viewing audio and video, play games, database preparation के साथ-साथ और कई कामों में किया जा रहा है| जैसे- बैकों में, शैक्षणिक संस्‍थानों में, कार्यालयों में, घरों में, दुकानों में, Computer का उपयोग बहुतायत रूप से किया जा रहा है|

computer का updet  अथवा विकास के चरण-

1450 B.C. : अबेकस (The Abacus): यह एक प्राचीन गणना यंत्र है| जिसका आविष्कार प्राचीन बेबीलोन में अंकों की गणना के लिए किया गया था| इसे संसार का प्रथम गणक यंत्र कहा जाता है| इसमें तारों (Wires) में गोलाकार मनके पिरोयी (beads) जाती है| तथा इसकी सहायता से गणना को आसान बनाया गया|

1600 A.D. : नैपीयर बोन्स (Napier Bones): यह दूसरा गणना यंत्र है| जिसका आविष्कार एक स्काॅटिष गणितज्ञ फ्जाॅन नेपीयरय् ने किया|

1642 A.D. : ब्लेस पास्कलः फ्रांस के गणितज्ञ ब्लेज पास्कल (Blaise Pascal) ने 1642 में प्रथम यांत्रिक गणना मशीन का आविष्कार किया| यह केवल जोड़ व घटा सकती थी| अतः इसे एडिंग मशीन (Adding Machine) भी कहा गया| इसको पास्कलाइन भी कहा गया है| जब पास्कल ने यह मशीन बनाई तब वह केवल 19 वर्ष के थे|

1962 A.D. : मल्टिप्लाइंग मशीनः गोटरीड लेबनीज (जर्मनी) ने पास्कल के मशीन को और बेहतर बनाया| जिससे गुणा- भाग भी किया जा सकता था| गोटरीड ने सर आइजक न्यूटन के साथ काम करके गणित के कैलकुलस (Calculus) का विकास भी किया था| इनके द्वारा विकसित कैलकुलेटर (Calculator ) की मदद से आसानी से जोड, गुणा, भाग और घटाव किया जा सकता है|

1813 A.D. : डिफरेंज इंजन (Difference Engine) चार्ल्स बैबेज- इंग्लैंडः उन्नीसवी सदी के शुरु से ही चार्ल्स बैवेज एक मशीन बनाने का काम कर रहे थे| जो जटिल गणनाएं कर सकता था| 1813 में उन्होंने डिफरेंस इंजन का विकास किया, जो भाप से चलता था| इसके द्वारा गणनाओं का प्रिंट भी किया जा सकता था|

1800 A.D. : जैकुआर्ड लुम-जोसेफ मारी जैकुआर्डः उन्नीसवी सदी के शुरु में फ्रांस में जोसेफ मारी जैकुआर्ड ने एक प्रोग्राम किया जाने वाला लुम बनाई| जो बड़े-बड़े कार्ड जिनमें छेद पंच किया गया था| जिससे आसानी से पैटर्न बनाई जा सकती थी| यह 20 से 25 वर्ष पहले तक इस्तेमाल किया जा रहा था|

ऐसी सोच बदल देगी जीवन
कैसे लाए बिज़्नेस में एकाग्रता
SEO क्या है – Complete Guide In Hindi बड़ी सोच से कैसे बदले जीवन
What is Web Hosting in Hindi? वेब होस्टिंग क्या है?

Stages of development of computer. Circumstantially कम्प्यूटर के विकास के चरण विस्तार से 

प्रारम्भिक समय में Computer का use केवल Calculation करने के लिये किया जाता था| किन्‍तु इंसान को physically काम ज्यादा करना पडता था| फिर इन सभी समस्याओं को ध्यान में रखकर कंप्यूटर को अपडेट किया गया| जिससे धीरे धीरे ईमेल करना, डेटाबेस मैनेज ओर कट्रोल करना और साथ ही प्राइवेट और government sector को अच्छे से मैनेज करना, इस प्रकार सभी कार्य करना बहुत ही आसान हो गये| यह सब धीरे धीरे दशको में हो पाया| इसलिए इसके पूरे इतिहास को पीड़ियों में बताया गया है| जो इस प्रकार है –

पहली पीढ़ी के कम्प्यूटर (1937 to 1953)

  1. इस जनरेशन का base वैक्यूम ट्यूब पर आधारित था|
  2. इस टाईप की जनरेशन केcomputer का आउटपुट या रिजल्ट सही नहीं आता था|
  3. इस जनरेशन के computer का आकार एक कमरे के जैसा होने के कारण बहुत महंगा भी था| इसी कारण ये बहुत ज्यादा Heat पैदा करते थे|
  4. ये कंप्यूटर ज्यादा गरम होने के कारण इनकी देखभाल हेतु एयरकंडीशनर और AC का प्रयोग किया जाता था|
  5. यह बहुत ज्यादा बिजली खपत करते थे| और एक स्थान से दूसरे स्थान तक नहीं ले जा सकते थे|

दूसरी पीढ़ी के कम्प्यूटर (1954 to 1962)

  • इसमें वैक्यूम ट्यूब की जगह ट्रांजिस्टर का प्रयोग किया गया|
  • पहले जनरेशन की अपेक्षा में इसका आउटपुट और रिजल्ट काफी सही आने लगा था| और इसका आकार पहले जनरेशन से काफी कम हो गाया गया था|
  • इसमें बिजली खपत भी कुछ कम हो गया था|
  • इस जनरेशन के कम्प्यूटरों में हीट ज्यादा नहीं होती थी| इसलिए इसमें AC और एयरकंडीशनर की जरूरत नहीं होती थी|
  • .इसमें low level लैंग्वेज यानी मशीन लैंग्वेज और असेंबली लैंग्वेज का प्रयोग किया गया था| इस जनरेशन के कंप्यूटर मैं वैक्यूम ट्यूब की जगह ट्रांजिस्टर का प्रयोग होता था| पहले जनरेशन के बाद 1956 में इस पीढ़ी के कंप्यूटर का विकास हुआ| 1947 में William Shockley द्वारा इस जनरेशन का आविष्कार किया गया था| यह पहले जनरेशन की अपेक्षा में काफी सुविधाजनक और अच्छा था|

तीसरी पीढ़ी के कम्प्यूटर की अवधि 1963 to 1972  तक मानी गई है|

इस पीढ़ी के कम्पूटरो में VSLI (Very Large Scale Integrated) circuit का उपयोग किया गया| इस VLSI circuit में एक ही Silicon chip पर लगभग 5000 transistor और अन्य circuit तत्व होते है| जिसे Micro Processor कहा जाता है| इस पीढ़ी के कम्प्यूटर में IC की जगह MICRO PROCESSOR का प्रयोग किया जाने लगा| इसे कम्प्यूटर का दिमाग (BRAIN) भी कहा जाता है|

चौथी पीढ़ी – कम्प्यूटर की चौथी पीढ़ी1972 to 1984 तक मानी जाती है|

  • computer के चौथे पीढ़ी के युग में GRAPHICAL USER INTERFACE ( GUI ) का विकास हुआ| जो कि बहुत ही USER FRIENDLY और उपयोगी सिद्ध हुआ|
  • LSI और VLSI CHIP तथा MICRO PROCESSOR के विकास से कम्प्यूटर के आकार में कमी आई और क्षमता में वृद्धि हुई|
  •  चौथी पीढी मे SQL, CSS इत्यादि उच्चस्तरीय भाषा का प्रयोग करके अच्छे GAPHICS जनित SYSTEM विकास किये गये|
  •  इस पीढ़ी के कम्प्यूटर बहुत छोटे हो गये और इसे OPERATE करना भी आसान हो गया|
  • इस पीढ़ी के कम्प्यूटर को एक जगह से दूसरी जगह ले जा सकते थे| इस पीढ़ी के कम्प्यूटर की गति 300 नैनो सेकण्ड हो गई| इस पीढ़ी में पर्सनल कम्प्यूटर कैड/कैम इत्यादि प्रकार की एप्लीकेशन का विकास संभव हुआ|
  • ALTEYAR, CRAY-1,APPLE MACINTOSH आदि चौथी पीढ़ी के अंतर्गत आते है|
  •  IBM, HP, HCL, WIPRO आदि चौथी पीढ़ी के उदाहरण हैं|

computer की पांचवी पीढ़ी -1984 to 1990 तक मानी जाती है|

  • इस युग के आने से आर्टिफिशियल intelligence का काफी ज्यादा प्रयोग होना प्रारंभ होना शुरु हो गया|
  • इस युग में ह्यूमन ब्रेन को कंप्यूटर में तबदील होने लगा|
  • इस जनरेशन में बाकी चार जनरेशनों से कार्य अवधि बहुत ज्यादा था|
  • इस युग से विकास तेजी से बढ़ने लगे और मशीनरी का आवागमन तेजी से हो रहा हैं|
  • इस युग में लैपटॉप, डेस्कटॉप, Android मोबाइल का स्कोप ज्यादा बढ़ गया|
  • इसी युग में लोग इंटरनेट को ज्यादा अहमियत देने लगे और तो और उन्हें इंटरनेट से कोई भी चीज सर्च करने में गूगल वॉइस सर्च का उपयोग करने लगे|

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

%d bloggers like this: