कोरोना नही अब आत्मबल जीतेगा |जानिए कैसे ?

अब कोरोना नही आत्मबल जीतेगा-

जहाँ बात मानव कल्याण की आती है तब मानव सेवा ही प्रमुख कर्म होता है हमारा” वसुधैव कुटुम्बकम ” सिधांत हमें यही सिखाता है |इसे अभी हाल ही में हमारे pm माननीय मोदी जी ने चरितार्थ किया है |उन्ही के शब्दों में ”मेरा युवा वैज्ञानिको से आग्रह है ,”विश्व कल्याण के लिए ,मानव कल्याण के लिए ,कोरोना की vaccine का बेड़ा उठाये ”|हम धैर्य बनाकर रखेंगे |नियमो का पालन करेंगे |

 

यह भी पढ़े       आत्म विश्वास का महत्व

‘आत्मानुशासन’ के लिए देशवासियों को धन्यवाद दिया|तथा confidence को बढ़ाने हेतु ‘सप्तवदी विजय’ मूलमंत्र दिया| तथा डॉक्टर ,नर्शिंग स्टाफ, पुलिसकर्मी सफाईकर्मी सबका गोरव करने को कहाँ देश को जागरूक एवं जीवंत बनाये रखे|(वयम् राष्ट्रीय जाग्रयाम) मूलमंत्र दिया कहा| |

‘मातृभूमि’ तु सदा वत्सले ……..

ये प्राणप्यारी उत्तम पंक्ति आज भारत के कई मानव प्रेमी , देशप्रेमी संगठनो ने चरितार्थ किया है| जैसे R.SS

कंगूरा नही अपितु नीवँ की ईट बनकर मानव सेवा

ये संगठन  आज (कोरोना) महामारी के समय उत्तम ‘देशसेवा’ एवं ‘मानव सेवा’ कर रहे है|तथा “कंगूरा नही अपितु नीवँ की ईट बनकर कर रहे है|” केवल मानव ही नही ‘मूक प्राणियों’  के लिए भी दिल से फर्ज अदा कर रहे है”|इनकी त्याग  निष्ठा ,तपस्या को मै व्यक्तिव रूप से प्रणाम  करता हूँ| आत्मबल और देशप्रेम इनकी हर साँस  में बसा है|हमारे देश के अधिकाशं नागरिक stay home का पालन कर रहे है|साथ ही अत्मानुशासन भी बनाए हुए है|घर पर yoga  को  daily  routine   में अपनाया हुआ है|सामाजिक सगंठन भी अपना धर्म निभा रहे है| हमारा शोभाग्य है, अनेक महापुरुषों ने हमें मानव सेवा की शिक्षा दी तथा स्वयं ईश्वर ने यहाँ  अनेक  बार   अवतार धारण किया  हम सकारात्मक है|हमारा आत्मबल मजबूत है|हम धैर्य बनाकर रखेगे|

कोरोना

हमारे संस्कार हमें सम्मान करना सिखाते है|                                              पूरे विशव का कल्याण हो इस कोरोना महामारी का अंत हो|इसी भावना और  श्रद्धा  के साथ हमारा (कोरोना मुक्त विश्व का ) संकल्प  विजयी हो|      world सुखी और स्वस्थ हो| सबकी immunity power strong होवे|”ऐसी मै  कामना करता हूँ”| जय माता दी|

ॐ  जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी|                                                   दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोस्तु ते ||

यह भी पढ़े       सफलता की राह

कोरोना


When it comes to human welfare, then human service is the main action, our “Vasudhaiva Kutumbakam” principle teaches us this. So It has recently been demonstrated by our PM Honorable MR NARENDRA Modi ji. In his words “
Even So “I urge young scientists,” For the welfare of the world, for human welfare, take a fleet of Corona vaccine “. We will keep patience. We will follow the rules.

 

So I will Thank the countrymen for ‘Atmanushasan’ and gave the ‘Saptavadi Vijay’ Mantra to increase confidence. Even So And Sampoorna Doctors, Nursing Staff, Policemen, Safai Karmis, where to go to the village to keep everyone alive and aware. (Vayam Rashtriya Jagrayam) Said

‘Motherland’ Tu Sada Vatsle ……..

This great line of life has been expressed by many human lovers, patriotic organizations of India today. Like R.SS
Today, these organizations are doing excellent ‘Desh Seva’ and ‘Human Services’ during the (Corona) epidemic, and “Kangura is not making the foundation of the foundation.” It is not only human beings who are paying their duty to ‘silent beings’ too. So I salute them for their sincere loyalty and penance in person. Self-confidence and patriotism are enshrining in every breath of them. Most of the citizens of our country are following the stay home.At the same time, Atmanushasan is also maintained. Yoga is adopted in the daily routine at home. Social organizations are also practicing their religion. So We are lucky, many great men have taught us human service and God himself has incarnated here many times. We are positive. Our spirit is strong. We will keep patience.

Because Our values ​​teach us to respect. May the Corona epidemic end with the welfare of the entire world. Even So With this spirit and reverence, our (Corona Free World) resolve be victorious. world be happy and healthy. May everyone have strong immunity power. “I wish so”. Jai Mata Di |
 Jayanthi Mangala Kali Bhadrakali Kapalini |             Durga Kshama Shiva Dhatri Swaha Swadha Namostu Te ||

कोरोना

5 thoughts on “कोरोना नही अब आत्मबल जीतेगा |जानिए कैसे ?”

  1. कोई लक्ष्य मनुष्य के साहस से बडा नहीं , और हारा वही जो लडा नही ….

    Reply

Leave a Comment

%d bloggers like this: