Wednesday, May 22, 2024
Homeबड़ी सोचRegiment, अहीर रेजिमेंट की क्यों उठ रही मांग? जानिए इससे जुड़ा इतिहास

Regiment, अहीर रेजिमेंट की क्यों उठ रही मांग? जानिए इससे जुड़ा इतिहास

काफी दिनों से अलग-अलग स्तर पर सेना में अहीर रेजीमेंट की मांग उठ रही है। 15 मार्च को सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने संसद में इसकी मांग उठाई थी। वहीं  मध्य प्रदेश के कांग्रेस के नेता अरुण यादव ने भी इसकी मांग की। आखिर क्यों हो रही है बार-बार regiment अर्थात अहीर रेजीमेंट की मांग। और सेना में इसका इतिहास क्या है? आइए जानते है विस्तार पूर्वक…

Regiment.

रेजांग ला की लड़ाई से ऐसा है अहीर रेजिमेंट का ताल्लुक- रेजांग ला की लड़ाई में 117 अहीर सैनिकों की शौर्य की चर्चा आज भी होती है। यह सभी जवान कुमाऊं रेजीमेंट की 13वीं बटालियन के हिस्सा थे। इन जवानों की वीरता के सामने चीन के सैनिकों को झुकना पड़ा था। इसके बाद भारतीय सेना ने रेजांग ला चौकी बचा ली थी।

इस लड़ाई में 120 सैनिकों ने चीन के 400 सैनिकों को मार गिराया था। वहीं 117 जवान शहीद हो गए थे जिसमें 114 अहीर थे। मेजर शैतान सिंह जी के शौर्य एव वीरता की चर्चा आज भी होती है। आपने भी कई नाम सुने होंगे मसलन-सिख रेजिमेंट, गोरखा रेजिमेंट, राजपूत रेजिमेंट, जाट रेजिमेंट, मराठा रेजिमेंट वगैरह-वगैरह। इसी तरह Ahir Regiment भी होनी चाहिए। इसकी मांग अहीर अथवा यादव समाज पुरजोर तरीके से कर रहा है। जाट सांसद माननीय दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने भी संसद में इसकी मांग उठाई है।

ऐसी सोच बदल देगी जीवन
कैसे लाए बिज़्नेस में एकाग्रता
SEO क्या है – Complete Guide In Hindi बड़ी सोच से कैसे बदले जीवन
What is Web Hosting in Hindi? वेब होस्टिंग क्या है?

Regiment यानी सेना की टुकड़ियां

भारतीय सेना में अलग-अलग Regiment हैं। हालांकि यह व्यवस्था सिर्फ थल सेना में ही है। वायु सेना या नौसेना में ऐसा कोई इंतजाम नहीं है। आपने भी कई नाम सुने होंगे मसलन-सिख रेजिमेंट, गोरखा रेजिमेंट, राजपूत रेजिमेंट, मराठा रेजिमेंट वगैरह-वगैरह। Regiment एक तरीके से सेना टुकड़ियां होती हैं। इन सभी टुकड़ियों को मिलाकर सेना कंप्लीट होती है। सेना में Regiment का बंटवारा ब्रिटिश काल में ही हुआ था। तब अंग्रेजों ने आवश्यकतानुसार अलग-अलग ग्रुपों में सेना में भर्ती की। कभी यह भर्तियां जाति के आधार पर हुईं तो कभी समुदाय के आधार पर। फिर इसी बेस पर Regiment बन गई। थलसेना में भी इंफेंट्री में ही यह Regiment देखने को मिलती है।

अंग्रेजों की शुरू की गई परंपरा

जब अंग्रेज भारत में आए तो वो अपनी फौज लेकर नहीं आए थे। व्यापार से शुरुआत करने के बाद वह लोग सेना बनाने लगे। इसके बाद वह यहीं के लोगों को सेना में भर्ती करने लगे। 1857 की क्रांति के बाद जाति के आधार पर Regiment का जोर बढ़ने लगा। अंग्रेजों ने प्रिफरेंस उन जातियों को दी, जो पहले से युद्ध में हिस्सा लेती आ रही थीं। इन्हें मार्शल और नान मार्शल के आधार पर बांटा गया। मार्शल के तौर पर राजपूत, राजपूत , सिख, गोरखा, डोगरा, पठान, बलोच को सेना में शामिल किया गया। इस कैटेगरी के लोग लड़ाइयों में हिस्सा लेते थे। अंग्रेज इन सैनिकों के चयन के वक्त जाति पर इस वजह से जोर देते थे, जिससे उन्हें पता रहे कि लड़ाई में उनके लिए कौन बेहतर भूमिका निभाएगा।

जाति के नाम Regiment, लेकिन जरूरी नहीं कि उसी जाति की भर्ती हो

यह तो बात हो गई ब्रिटिश काल की बात। आजादी के बाद भी यह सिस्टम बना रहा, लेकिन उसके बाद से अभी तक जाति के आधार पर कोई नई रेजिमेंट नहीं बनी है। वहीं यह भी जरूरी नहीं कि जाति के नाम पर रेजिमेंट बनी है तो सिर्फ उसी जाति के लोगों का सेलेक्शन हो। राजपूत रेजिमेंट में गुर्जरों की भर्ती भी हो सकती है मुसलमानों की भी। वहीं कई फोर्स ऐसी हैं जहां कोई जाति व्यवस्था नहीं है।

निष्कर्ष 

भारतीय सेना में अलग-अलग Regiment हैं। हालांकि यह व्यवस्था सिर्फ थल सेना में ही है। सिख रेजिमेंट, गोरखा रेजिमेंट, राजपूत रेजिमेंट, जाट रेजिमेंट, मराठा रेजिमेंट वगैरह-वगैरह। इसी तरह अहीर रेजिमेंट भी होनी चाहिए। इसकी मांग अहीर अथवा यादव समाज पुरजोर तरीके से कर रहा है।

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है । हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें ।

parmender yadav
parmender yadavhttps://badisoch.in
I am simple and honest person
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular