Saturday, May 18, 2024
Homeबड़ी सोचचंद्रयान 3 लाइव लोकेशन, LIVE गति, रूट, चाँद से दूरी, कहाँ पहुंचा...

चंद्रयान 3 लाइव लोकेशन, LIVE गति, रूट, चाँद से दूरी, कहाँ पहुंचा है

चंद्रयान 3 लाइव लोकेशन-  भारत ने अपने अंतरिक्ष के प्रोजेक्ट्स में एक और महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए, चंद्रयान 3 नामक अंतरिक्ष मिशन की शुरुआत की। यह मिशन चंद्रमा के उपर विस्तारित अध्ययन करने का एक और प्रयास है। इस मिशन के जरिए भारत ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में अपनी पहचान बनाने का अभियान जारी रखा है। इस लेख में, हम चंद्रयान 3 के लाइव लोकेशन, गति, रूट और चांद से दूरी के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करने वाले हैं। चंद्रयान-3 फिलहाल पृथ्वी के चक्कर काट रहा है। मंगलवार (25 जुलाई) को पांचवें मैनूवर के बाद, यह आखिरी कक्षा में पहुंच गया। ISRO के अनुसार, चंद्रयान-3 के 127609 km x 236 km ऑर्बिट में पहुंचने की उम्‍मीद है। ट्रांसलूनर इंजेक्‍शन (TLI) में अगली फायरिंग 1 अगस्‍त 2023 को रात 12 बजे से 1 बजे के बीच तय की गई है।

धरती की कक्षा में पांचवें मैनूवर को बेंगलुरु के इसरो टेलीमेट्री, ट्रैकिंग एंड कमांड नेटवर्क (ISTRAC) में बैठे वैज्ञानिक अंजाम द‍िया गया। 1 अगस्त की रात को चंद्रयान-3 के पृथ्वी की कक्षा से निकलकर चांद की ओर रवाना होने की उम्मीद है। फिर यह चांद की कक्षा में पहुंच उसके चक्कर लगाना शुरू करेगा। चांद तक पहुंचने के लिए भी पांच मैनूवर होंगे। चंद्रयान-3 को 14 जुलाई 2023 को लॉन्च किया गया था। इसके 23 अगस्त तक चंद्रमा की सतह पर लैंड करने की संभावना है। धरती के चक्कर लगाता हुआ चंद्रयान-3 चंद्रमा के ऑर्बिट में एंट्री करेगा। चक्कर लगाता हुआ लैंडर मॉड्यूल 23 अगस्त को चांद की सतह पर उतरेगा। मिशन का यही सबसे क्रिटिकल फेज है। इस दौरान सॉफ्ट लैंडिंग की कोशिश की जाएगी।

चंद्रयान 3 लाइव लोकेशन

चंद्रयान 3 एक अंतरिक्ष मिशन है जो भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) द्वारा विकसित किया गया है। इस मिशन के जरिए भारत चंद्रमा के विभिन्न पहलुओं का अध्ययन करने का लक्ष्य रखता है। इस मिशन के तहत चंद्रयान 3 अंतरिक्ष यान को चंद्रमा की सतह पर सफलतापूर्वक भेजा गया है। चद्रयान 3 की लाइव लोकेशन का पता लगाना आसान नहीं था, लेकिन ISRO द्वारा इस मिशन में इस्तेमाल किए गए तकनीकी उपकरणों के माध्यम से चंद्रयान 3 की लाइव लोकेशन को ट्रैक किया गया। इसके लिए चंद्रयान 3 यान को उचित उपग्रहों के माध्यम से जोड़ा गया था।

ये उपग्रह चंद्रयान 3 के प्रक्षेपण से पहले से ही चंद्रमा के आस-पास थे। जब चंद्रयान 3 चंद्रमा के करीब पहुंचा, तो ये उपग्रह उसके साथ जुड़े रहे और उसकी स्थिति को ट्रैक करते रहे। इस तरीके से, ISRO के अनुसंधानकर्ता चंद्रयान 3 की लाइव लोकेशन का सटीक पता लगा सके। इसरो ने मंगलवार दोपहर 2.54 बजे बताया कि ‘चंद्रयान-3 का ऑर्बिट-रेजिंग मैनूवर (अर्थ-बाउंड फायरिंग) सफलतापूर्वक पूरा किया। अंतरिक्ष यान के 127609 किमी x 236 किमी की कक्षा प्राप्त करने की उम्मीद है। ऑब्‍जर्वेशन के बाद हासिल की गई कक्षा की पुष्टि की जाएगी। अगली फायरिंग, ट्रांसलूनर इंजेक्शन (टीएलआई), 1 अगस्त, 2023 को मध्यरात्रि 12 बजे से 1 बजे IST के बीच करने की योजना है।’

चंद्रयान 3 लाइव लोकेशन

चंद्रयान 3 लाइव लोकेशन Details

Article Name चंद्रयान 3 लाइव लोकेशन
Category News
Facebook follow-us-on-facebook-e1684427606882.jpeg
Whatsapp badisoch whatsapp
Telegram unknown.jpg
Official Website Click Here

Click Here- Make Money Online इंटरनेट से 5 मिनट में कैसे शुरू करे पैसा कमाना?

चंद्रयान 3 गति

भारत चंद्रयान 3 की गति भी बहुत महत्वपूर्ण है। यह यान अपने उच्च तकनीकी क्षमताओं के कारण चंद्रमा की सतह के निकटतम रूप से आस-पास से गुजर सकता है। इसकी गति को नियंत्रित करके, यह चंद्रमा की सतह के विभिन्न हिस्सों का अध्ययन कर सकता है और विभिन्न अनुसंधान कार्यों को सम्पन्न कर सकता है। इसके साथ ही, चंद्रयान 3 की गति का नियंत्रण इसके लिए जरूरी है कि यह अपने टार्गेटेड क्षेत्रों पर सही समय पर पहुंचे और वहां अपने कार्यों को सम्पन्न कर सके।

चंद्रयान 3 रूट

भारत चंद्रयान 3 का रूट भी ध्यान देने वाला मुद्दा है। यह यान भारत से प्रक्षेपित होकर चंद्रमा के आस-पास चला गया था। चंद्रयान 3 का रूट चुनने में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने समझदारी से प्रक्रिया किया था। रूट चुनते समय यह ध्यान रखा गया था कि चंद्रयान 3 को चंद्रमा के अधिक संवेदनशील हिस्सों से दूर रखा जाए, ताकि उसकी उपग्रहों और उपकरणों को नुकसान न हो। इसके साथ ही, चंद्रयान 3 के रूट के चयन में इसके लिए समय के अनुरूप वायुमंडली और अन्य प्राकृतिक परिस्थितियों को भी मध्यस्थ बनाया गया था।

चंद्रयान 3 चाँद से दूरी

भारत चंद्रयान 3 के द्वारा चंद्रमा से कितनी दूरी तय की गई है यह जानना भी महत्वपूर्ण है। चंद्रमा और पृथ्वी के बीच की दूरी को विज्ञानिक इकाइयों में किलोमीटर या मील में मापा जाता है। चंद्रयान 3 की प्राथमिक उपलब्धि थी कि इसने चंद्रमा से कुछ हजार किलोमीटर की दूरी तय की गई है। इससे वैज्ञानिकों को चंद्रमा के नए हिस्सों का भी अध्ययन करने का मौका मिला है।

चंद्रयान 3 के लिए इन सभी उपलब्धियों के पीछे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के वैज्ञानिक और अनुसंधानकर्ताओं का बड़ा योगदान है। इस मिशन के माध्यम से भारत अंतरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में एक बार फिर से अपने कदम साबित कर रहा है और आने वाले समय में और अधिक अंतरिक्ष मिशनों की योजना बना रहा है।

समाप्ति में, चंद्रयान 3 के लाइव लोकेशन, गति, रूट, चाँद से दूरी के विषय में उपरोक्त जाकारी संशोधित और अपरिचित शब्दों में लिखी गई है। यह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान के महत्वपूर्ण प्रयासों में से एक है जो विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में भारत को एक महत्वपूर्ण स्थान पर पहुंचा रहा है। इसे आगे बढ़ाने के लिए भारत सरकार और ISRO ने और भी विभिन्न अंतरिक्ष मिशनों की योजना बनाई है, जिससे कि भारत को विश्व भर में अंतरिक्ष अनुसंधान में एक महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त हो सके।

Read also- Digital Marketing Agency in Hindi – डिजिटल मार्केटिंग एजेंसी कैसे खोलें?

चंद्रयान 3 लाइव ट्रैकर

भारत चंद्रयान -3 अंतरिक्ष यान के परियोजना निदेशक पी वीरमुथुवेल के अनुसार, चंद्रयान में कई महत्वपूर्ण घटनाओं की योजना बनाई गई है, जिसमें पृथ्वी से जुड़े युद्धाभ्यास, चंद्र कक्षा में प्रवेश, लैंडर को अलग करना, डीबूस्ट युद्धाभ्यास का एक सेट और पावर डिसेंट चरण शामिल हैं। एक नरम लैंडिंग. हालाँकि, सफल होने पर, भारत पूर्व सोवियत संघ, संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन के साथ चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग करने वाला दुनिया का चौथा देश बन जाएगा। चंद्रमा पर सफल लैंडिंग करने से पहले, सोवियत संघ और संयुक्त राज्य अमेरिका दोनों ने दुर्घटनाओं में कई अंतरिक्ष यान खो दिए। चीन अपने पहले प्रयास में चांग’ई-3 मिशन को सफलतापूर्वक पूरा करने वाला एकमात्र देश था।

गहन जानकारी के साथ भारत के चंद्र मिशन की रिपोर्ट इसरो द्वारा 14 जुलाई या उसके बाद जारी की जाएगी। विशिष्टताओं में विश्लेषणात्मक डेटा शामिल है जिसे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन द्वारा सभी के लिए सुलभ बनाया जाएगा। रिपोर्ट में रोर के चंद्रमा पर उतरने के बारे में आवश्यक विवरण शामिल हैं। संभावना है कि यान चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास कहीं सॉफ्ट लैंडिंग करेगा। रोवर खनिज, पानी और बर्फ की जांच करेगा। भारत को इससे लाभ हो सकता है क्योंकि दक्षिणी ध्रुव कम यात्रा वाला स्थान है।

जमीनी स्तर

सोवियत संघ ने 1959 में लूना 1 के साथ चंद्रमा पर पहला कदम रखा था। इसके परिणामस्वरूप चंद्रमा पर हार्ड लैंडिंग हुई। हालाँकि, चंद्रयान 2 मिशन की विफलता के साथ, हमारे इसरो वैज्ञानिकों ने बहुत कुछ सीखा और इस बार चंद्रमा पर सफल सुरक्षित लैंडिंग हासिल करने के लिए उस सीख को लागू किया। मार्क 3(एलवीएम3) को चंद्रमा पर रोवर के जानबूझकर दुर्घटनाग्रस्त होने की संभावना को कम करने के लिए डिज़ाइन किया गया था। चंद्रयान 3 के साथ, अंतरिक्ष अन्वेषण में भारत की रुचि और अपने तकनीकी और वैज्ञानिक ज्ञान को आगे बढ़ाने की इच्छा दोनों स्पष्ट हैं। हम आशा करते हैं और इसरो को चंद्रमा पर सुरक्षित लैंडिंग के लिए शुभकामनाएं देते हैं। ताकि भारत की चंद्रमा पर लैंडिंग हम सभी के लिए इतिहास की किताबों में दर्ज हो जाए।

Check Post- प्यार किसे कहते हैं, जानिए प्यार में सबसे जरुरी क्या होता है ?

चंद्रयान 3 लाइव लोकेशन FAQ’S

चंद्रयान 1 जहां टकराया था उस बिंदु का नाम क्या है?

चंद्रमा पर पानी की खोज करने वाला चंद्रयान-1 का मून इम्पैक्ट प्रोब जहां टकराया था, उस टक्कर-बिंदु का नाम पंडित जवाहर लाल नेहरु के नाम पर रखा गया था.

चंद्रयान 1 2 और 3 में क्या अंतर है?

दोनों मिशनों के बीच सबसे बड़ा अंतर यह है कि जीएसएलवी-एमकेIII रॉकेट पर क्या ले जाया जा रहा है । जहां चंद्रयान-2 में विक्रम लैंडर, प्रज्ञान रोवर और एक ऑर्बिटर शामिल है, वहीं चंद्रयान-3 सिर्फ एक लैंडर और एक रोवर के साथ लॉन्च होगा।

चांद पर पानी किस देश में पाया गया?

चंद्रमा के वायुमंडल में पानी: चंद्रमा के वायुमंडल में पानी का पहला सबूत एक भारतीय उपकरण चंद्रा की ऊंचाई संरचना (सीएचएसीई) द्वारा आया था जो चंद्रयान -1 से जारी चंद्रमा प्रभाव जांच पर लगाया गया था।

Related Posts:-

SSLV-D1/EOS-02 Launch Date

to dollar rate : रुपये से जुड़े रोचक तथ्य, कभी 13 डॉलर के बराबर था 1 रुपया

स्वदेशी वस्तुओ का महत्त्व। जानिए कैसे ?

World Health Organisation का महत्वपूर्ण योगदान ।

parmender yadav
parmender yadavhttps://badisoch.in
I am simple and honest person
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular