लक्ष्य भी जरुरी। क्यों ? The goal is also necessary. Why?

लक्ष्य-

आप कहां जा रहे हैं? यह सिर्फ और सिर्फ आपके द्वारा बनाए गए लक्ष्य और आपके विचार ही तय करते हैंआपको लक्ष्य तक पहुंचाने के लिए आपकी योग्यता ही सबसे ज्यादा मददगार साबित होती है । लक्ष्य ही आपके मस्तिष्क का ताला खोलते हैं,जो आपके मस्तिष्क में सकारात्मक विचारों सफलता के रास्ते और आपकी ऊर्जा को एक सही दिशा दिखाते हैं। जैसा कि अर्नोल्ड एच ग्लासगो का कथन,फुटबाल कि तरह ज़िन्दगी में भी आप तब-तक आगे नहीं बढ़ सकते जब तक आपको अपने लक्ष्य का पता ना हो । मुझे बिलकुल उपयुक्त लगता है।

यह भी पढ़े  इस तरीके से प्रचार करोगे तो कामयाबी चूमेगी आपके क़दम, जानिए कैसे?

लक्ष्य क्या है?

लक्ष्य Aim अपनी सोच को एक दिशा में बांधने के लिए हम जो रास्ते अपनाते हैं, उन रास्तों पर चलकर प्राप्त की गई सफलता Success लक्ष्य Goal  कहलाती है !जीवन में जितने भी उपयोग करने वाली चीजें आप देखते हो या इनका इस्तेमाल करते हो वह चीजें एकदम से स्वयं नहीं बनी । उन  वस्तुओं को बनाने का विचार पहले किसी इंसान के मस्तिष्क में आया होगा तब जाकर उस वस्तु ( लक्ष्य ) पर मेहनत की गई तभी आप उन चीजों का आंनद ले पा रहे है । आप जीवन से जुड़ी प्रत्येक वस्तु जन्म से लेकर मृत्यु तक पहले विचार , इच्छा , आशा , कठिन परिश्रम  से शुरू होती है तब  जाकर आप उसे प्राप्त करते हैं । उसे प्राप्त करना ही आपका लक्ष्य है ।

लक्ष्य भी जरुरी। क्यों ?

Overview

Name Of Article लक्ष्य भी जरुरी
लक्ष्य भी जरुरी Click Here
Category Badi Soch
Facebook follow-us-on-facebook-e1684427606882.jpeg
Whatsapp badisoch whatsapp
Telegram unknown.jpg
Official Website Click Also

लक्ष्य से ही सफलता-

अगर आप अपना जीवन खुशहाली भरा जीना चाहते है, तो आपको अपना एक लक्ष्य निर्धारित करना होगा । लक्ष्य बनाकर कार्य करने से आपको सफलता मिलने के अवसर बढ़ जाते हैं । जब तक आपको यह नहीं पता होगा कि मुझे जीवन में क्या करना है? और कैसे करना है? तब तक आप आगे नहीं बढ़ सकते । उसके लिए आपको लक्ष्यों की जरूरत होती है ! क्योंकि सफल होने के लिए इसका होना बेहद जरूरी है ! लक्ष्यहीन व्यक्ति जीवन में कभी भी सफलता Success प्राप्त नहीं कर सकता ।

लक्ष्य का होना ज़रूरी है-

लक्ष्य व्यक्ति को एक सही दिशा देता है । उसे बताता है कि कौन सा काम उसके लिए जरूरी है, और कौन सा नहीं ।  आपको लक्ष्य तक पहुंचाने के लिए आपकी योग्यता ही सबसे ज्यादा मददगार साबित होती है । लक्ष्य ही आपके मस्तिष्क का ताला खोलते हैं, जो आपके मस्तिष्क में सकारात्मक विचारों सफलता के रास्ते और आपकी ऊर्जा को एक सही दिशा दिखाते हैं !

अगर आपके जीवन में लक्ष्य नहीं है, तो आप जिंदगी की लहरों में उठते डूबते रहते हैं, जो आपको किसी भी सफलता से परिचय नहीं करा पाएगे । यदि goals clear हों तो, हम उसके मुताबिक अपने आप को तैयार करते हैं । हमारा subconscious mind हमें उसी के अनुसार act करने के लिए प्रेरित करता है ।

किसी ने सच ही कहा है’ इश्वर का दिया कभी अल्प नहीं होता,जो टूट जाये वो संकल्प नहीं होता ।                                                                                                                                     हार को लक्ष्य से दूर ही रखना,क्योंकि जीत का कोई विकल्प नहीहोता ।।’

लक्ष्य दिशा और प्रेरणा देता है-

दिमाग में लक्ष्य साफ़ हो तो उसे पाने के रास्ते भी साफ़ नज़र आने लगते हैं । और इंसान उसी दिशा में अपने कदम बढा देता है । आप कहां जा रहे हैं यह सिर्फ और सिर्फ आपके द्वारा बनाए गए लक्ष्य और आपके विचार ही तय करते हैं । अगर आपके पास जीवन के लक्ष्य है,और उन्हें आप achieve कर लेते है, आपका आत्मविश्वास स्वयं ही बढ़ने लगता है । और उस क्षेत्र या विषय में सफलता प्राप्त करते है ।

इसलिए लक्ष्य का होना बहुत जरुरी है ।अपनी उर्जा का सही उपयोग करने के लिए: भगवान ने इन्सान को सीमित उर्जा और सीमित समय दिया है । इसलिए ज़रूरी हो जाता है कि हम इसका उपयोग सही तरीके से करें । लक्ष्य हमें ठीक यही करने को प्रेरित करता है । अगर आप अपने end-goal को ध्यान में रख कर कोई काम करते हैं तो उसमे आपका concentration और energy का  level कहीं अच्छा होता है ।

यह भी पढ़े  –  सफल बिंदु

लक्ष्य और योग्यता-

आप कुछ पल के लिए सोचे अगर आपके मन में किसी चीज ( लक्ष्य ) को पाने का विचार ही नहीं आया, तो उस चीज को कैसे प्राप्त करोगे ? यहाँ तक कि कपड़े पहनना , खाना पकाना ,  एक जगह से दूसरी जगह सफर करना दोस्तों से मिलना , पढ़ाई करना सब कामों को करने से पहले आपके मस्तिष्क में विचार आता है तब जाकर  आप इन कार्यों को कर पाते है ।

इंसान में लक्ष्य को प्राप्त करने की ऐसी योग्यता है, जो उसे दूसरों से अलग बनाती है जब आपके पास स्वयं के ठोस लक्ष्य होते हैं ! तो आपके मन में उन्हें प्राप्त करने के रास्ते स्वयं आने लगते हैं  ! चुकि इंसान जिस प्रकार अपने बारे में सोचता है उसके साथ वैसा ही होने लगता है ।

diligence यानि परिश्रम ही सफलता की कुंजी है । जानिए कैसे ?

इसलिए अगर आप बड़े लक्ष्य बनाते हैं तो बड़े लक्ष्य को प्राप्त करने की सामर्थ्य आपमें स्वयं आने लगती है आपके लक्ष्यों का आकार कैसा हो? यह सिर्फ आपके ऊपर निर्भर करता है ! क्योंकि इससे फर्क नहीं पड़ता कि आप कहां से आ रहे हैं !फर्क तो इस बात से पड़ता है कि आप कहां जा रहे हैं । और यह depend करता है आपकी सोच पर ।यह depend करता आपके लक्ष्य के आकार और उसकी planning पर ।इसलिए हमेशा लक्ष्य बनाकर जीवन-पथ पर सदा आगे बढ़ते रहे सफलता स्वयं साथ-साथ चलेगी ।

Related Post:- 

Tulsidas Ke Dohe In Hindi With Meaning : तुलसीदास के दोहे

World Health Organisation का महत्वपूर्ण योगदान

Nirajala Ekadashi ki Vrat Katha : निर्जला एकादशी व्रत कथा

16 thoughts on “लक्ष्य भी जरुरी। क्यों ? The goal is also necessary. Why?”

Leave a Comment