Tuesday, May 21, 2024
Homeबड़ी सोचBest Health Tips अथवा सर्वोत्तम टिप्स। जानिए

Best Health Tips अथवा सर्वोत्तम टिप्स। जानिए

Best Health Tips अथवा सर्वोत्तम टिप्स – Best Health Tips के लिए दिनचर्या में थोड़ा-सा व आसान परिवर्तन आपको स्वस्थ व दीर्घायु बना सकता है। बशर्ते आप कुछ चीजों को जीवनभर के लिए अपना लें और कुछ त्याज्य चीजों को हमेशा के लिए दूर कर दें। इसके लिए सरल-सा 20 सूत्री best health tips जीवनमन्त्र अपनाइए। अथवा best health tips अथवा सर्वोत्तम टिप्स। जानिए,जो इस प्रकार है-

Best Health Tips अथवा सर्वोत्तम टिप्स

स्वस्थ रहना बहुत आवश्यक है। आधुनिक युग में ख़राब जीवनशैली के कारण हम अस्वस्थ रहने लगे हैं। इन सबके कारण हमें विभिन्न प्रकार की बीमारियां हो जाती हैं अतः हमें स्वस्थ रहने के लिए अपना ध्यान रखना बहुत ही जरूरी है।

यदि अपने दिन प्रतिदिन के जीवन में हम कुछ बातों का ख्याल रखें तो ऐसे में हम एक स्वस्थ जीवन जी सकते हैं। इस लेख में आज हम कुछ ऐसे नियम बताएँगे जो स्वस्थ रहने के लिए ज़रूरी हैं। तो आइए इन्ही नियमों के साथ अपने लेख की शुरुआत करते हैं।

Best Health Tips अथवा सर्वोत्तम टिप्स

Best Health Tips Details

Name Of Article
Best Health Tips अथवा सर्वोत्तम टिप्स
Best Health Tips Check here
Category Badi Soch
Facebook follow-us-on-facebook-e1684427606882.jpeg
Whatsapp badisoch whatsapp
Telegram unknown.jpg
Official Site Click here

Also read –  What About Importance of Trees In Detail 2024

उपयोगी Best health tips अथवा सर्वोत्तम टिप्स क्या है?

  1.  रोजाना प्रातः सूर्योदय पूर्व (4 -5 बजे) उठकर दो या तीन किमी घूमने जाएँ। सूर्य आराधना से दिन की शुरुआत करें। इससे एक शक्ति जागृत होगी, जो दिल-दिमाग को ताजगी देगी।
  2. नियमित रूप से अपने आराध्य देव के दर्शन हेतु समय अवश्य निकालें। आप चाहे किसी भी धर्म के अनुयायी हों, अपनी धर्म पद्धति के अनुसार ईश्वर की प्रार्थना अवश्य करें।
  3.  शरीर को हमेशा सीधा रखें। अर्थात बैठें तो तनकर, चलें तो तनकर, खड़े रहें तो तनकर अर्थात शरीर हमेशा चुस्त रखें।
  4. वाहन के प्रति मोह कम कर उसका प्रयोग कम करने की आदत डालें। जहाँ तक हो कम दूरी के लिए पैदल जाएँ। इससे मांसपेशियों का व्यायाम होगा, जिससे आप निरोगी रहकर आकर्षक बने रहेंगे। साथ ही पर्यावरण की रक्षा में भी सहायक होंगे।
  5.  यदि आप मुफ्त में स्वस्थ और चुस्त बने रहना चाहते हैं तो आपको तीन काम करना चाहिए। पहला तो प्रातः जल्दी उठकर वायु सेवन के लिए लम्बी सैर के लिए जाना और दूसरा ठीक वक्त पर खूब अच्छी तरह चबा-चबाकर खाना तथा तीसरा दोनों वक्त शौच अवश्य जाना।
  6.  भोजन करते समय और सोते समय किसी भी प्रकार की चिंता, क्रोध या शोक नहीं करना चाहिए। भोजन से पहले हाथ और सोने से पहले पैर धोना तथा दोनों वक्त मुँह साफ करना हितकारी होता है।  यह best health tips हर किसी के लिए अपनाने योग्य है।
  7.  सुबह एवं रात में मंजन अवश्य करें। साथ ही सोने से पूर्व स्नान कर कपड़े बदलकर पहनें। आप ताजगी महसूस करेंगे।
  8.  क्रोध के कारण शरीर, मन तथा विचारों की सुंदरता समाप्त हो जाती है। क्रोध का त्याग करे और संयम रखकर अपनी शारीरिक ऊर्जा की हानि से बचें।
  9.  यह गलतफहमी है कि अण्डा, माँस खाने से बल बढ़ता है और शराब पीने से आनंद आता है। अण्डा, माँस खाने से शरीर मोटा-तगड़ा जरूर हो सकता है पर कुछ बीमारियाँ भी इसी से पैदा होती हैं। शराब पीने से आनंद नहीं आता, बेहोशी आती है और बीमारियाँ होती हैं। इसलिए इनसे परहेज करे।
  10.  भोजन से ही स्वास्थ्य बनाने का प्रयास करें। इसका सबसे सही तरीका है, भोजन हमेशा खूब चबा-चबाकर आनंदपूर्वक करें। ताकि पाचनक्रिया ठीक रहे, इससे कोई भी समस्या उत्पन्न ही नहीं होगी। अर्थात पाचन शक्ति ठीक रखनी हो तो ठीक वक्त पर भोजन करें और प्रत्येक कौर को 32 बार चबाएँ।

Read here – stay healthy eat healthy 

11.जीवन चलने का नाम है। गतिशीलता ही जीवन है। यह सदा ही याद रखें।

12.कपड़े अपने व्यक्तित्व के अनुरूप पहनें। थोड़े loose कपड़े पहनें, इससे  दिमाग तेज होता है।और फुर्ती बनी रहेगी।

13.दिमाग में सुस्ती नहीं आने दें, कार्य को तत्परता से करने की चाहत रखें।

14.यदि यौनशक्ति ठीक रखनी हो तो, कामुक चिंतन न किया करें। और सप्ताह में एक से अधिक बार सहवास न किया करें।

15.बीमारी की अवस्था में, बीमारी से मुक्त होने के तुरंत बाद, भोजन करने के बाद, परिश्रम या यात्रा से थके होने पर, प्रातःकाल तथा सूर्यास्त के समय और उपवास करते समय, विषय भोग करना बहुत हानिकारक होता है।

16.घर के कार्यों को स्वयं करें- यह कार्य अनेक व्यायाम का फल देते हैं।

17. शरीर की सुंदरता उसकी सफाई में है। इसका विशेष ध्यान रखे।

18.बालों को हमेशा सँवार कर रखें। अपने बालों में तेल का नियमित उपयोग करें। बाल छोटे, साफ रखें, अनावश्यक बालों को साफ करते रहें।

19. अपनी आर्थिक शक्ति से अधिक धन खर्च करने वाला कर्जदार हो जाता है। अपनी शारीरिक शक्ति से अधिक श्रम करने वाला कमजोर हो जाता है। अपनी क्षमता से अधिक विषय भोग करने वाला जल्दी बूढ़ा और नपुंसक हो जाता है। और अपने से अधिक बलवान से शत्रुता करने वाला नष्ट हो जाता है। इसलिए इनकी अति से बचे।

20.अपने जीवन में लक्ष्य, उद्देश्य और कार्य के प्रति समर्पण का भाव रखें।

अच्छे स्वास्थ्य के लिए यह Best Health Tips भी विदित रखे।

  •  मोटापा आने का मुख्य कारण तैलीय व मीठे पदार्थ होते हैं। इससे चर्बी बढ़ती है, शरीर में आलस्य एवं सुस्ती आती है। इन पदार्थों का सेवन सीमित मात्रा में करके best health रख सकते है। अतः इन पदार्थों का सेवन सीमित मात्रा में ही करें।
  • गरिष्ठ-भारी भोजन या हजम न होने वाले भोजन का त्याग भी  best health के लिए  करें। यदि ऐसा करना भी पड़े तो एक समय उपवास कर उसका संतुलन बनाएँ।
  • भोजन में अधिक से अधिक मात्रा में फल-सब्जियों का प्रयोग करें। उनसे आवश्यक तैलीय तत्व प्राप्त करें, शरीर के लिए आवश्यक तेल की पूर्ति प्राकृतिक रूप के पदार्थों से ही प्राप्त करें।
  •  शरीर का प्रत्येक अंग-प्रत्यंग रोम छिद्रों के माध्यम से श्वसन करता है। इसीलिए शयन के समय कपड़े महीन,स्वच्छ, loose एवं कम से कम पहनें। सूती वस्त्र अतिउत्तम होते हैं।
  •  अगर सुख की नींद सोना हो तो सोते समय ‘चिंता’ न करें, सिर्फ ‘चिंतन’ करें। या  ध्यान लगाये।
  • अतः इन महत्वपूर्ण टिप्स को अपनाकर आप न केवल best health ही रखोगे बल्कि सुखी भी रहोगे। इसलिए अपनी सरल जीवन शैली को अपनाकर, सदा स्वस्थ सुखी एव चिंता मुक्त रहे। साथ ही best health वाले person भी। सोच आपकी —

Related Posts

खाना खाने पानी पीना का best तरीका : जानिए कैसे

रावण का कुम्भकर्ण को जगाना, कुम्भकर्ण का रावण को उपदेश और विभीषण-कुम्भकर्ण संवाद

Target audience क्या है ?

parmender yadav
parmender yadavhttps://badisoch.in
I am simple and honest person
RELATED ARTICLES

14 COMMENTS

  1. […] माना जाता है कि भारतीय पौराणिक युग से योग (yoga) की जड़े जुडी हुई हैं। ऐसा कहा जाता है कि यह भगवान शिव जी ने इस कला को जन्म दिया। जिन्हें आदि योगी के रूप में भी माना जाता है, तथा दुनिया के सभी योग गुरुओं के लिए प्रेरणा माना जाता है।योग हमारी भारतीय संस्कृति की प्राचीनतम पहचान है। संसार की प्रथम पुस्तक ऋग्वेद में कई स्थानों पर यौगिक क्रियाओं के विषय में उल्लेख मिलता है। भगवान शंकर के बाद वैदिक ऋषि-मुनियों से ही योग (yoga) का प्रारम्भ माना जाता है। बाद में श्री कृष्ण जी , महावीर और बुद्ध ने इसे अपनी तरह से विस्तार दिया। इसके पश्चात पतंजली ने  इसे सुव्यवस्थित रूप दिया। […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular