जानिए,आप महत्वपूर्ण बन रहे है,अथवा महत्वहीन |

‘आज हम कहाँ हैं? और अगले कुछ महीनों या वर्षों में हम कहाँ होंगे ? हमारा जीवन स्तर कैसा होगा ? यह हमारी वर्तमान सोच, कुछ habits तथा अन्य लोगों के बारे में हमारा नजरिया और हमारा दूसरे लोगो से सम्बंध या तालमेल अभी तय कर देते है |  लेकिन हमे पता परिणाम के उपरांत होता है |’

हम महत्वपूर्ण है,या भविष्य में महत्वपूर्ण होंगे | ये हमारे आज के thoughts और habit वर्तमान में ही आभास करा देते है | सिर्फ समझने वाला होना चाहिए | यदि हम महत्वहीन चर्चाओ में समय व्यतीत करेंगे ,तो संभवतः हम समय की दौड़ में काफ़ी पीछे रह जायेंगे|

महत्वपूर्ण

यदि हमें महत्वपूर्ण बनना है ,और अपना ”वर्तमान जीवन स्तर”से अच्छा जीवन स्तर बनाना है | तो हमें कुछ अति महत्वपूर्ण आदते compulsory अपनानी होंगी | क्योंकि यदि .हमने ‘समय का महत्व’ नही समझा तो समय भी हमें निश्चित ही लोगो की नजरो में महत्वहीन बना देगा |अतः इन बातो को अपनी आदतों या अपने व्यवहार में अपनाना चाहिए | जैसे …..

यह भी पढ़े    वैचारिक जहर से बचो विकास करो|

 

 

  • दैनिक दिनचर्या में सुबह की शुरूआत हमे सबसे पहले ईश्वर का धन्यवाद  कर  शुरुआत करनी चाहिए |
  • सुबह meditation अथवा योगा या morning walk के बाद अपनी पहले से लिखित दिन के समस्त जरुरी कार्यो की list के अनुसार कार्यो को करना चाहिए |
  • इसके बाद,  दिन मे चर्चा में हम किसी से भी मिले कोशिश यह करनी चाहिए ,कि सफल लोगो से मिले |
  • तथा साथ ही चर्चा में ज्यादातर सकारात्मक शब्दों का प्रयोग करना चाहिए |चाहे विषय स्वयं के बारे में हो ,अथवा दूसरो के बारे में |

यह भी पढ़े  अमीरों के रास्ते

  • सम्बन्धो में सहिष्णुता का भाव रखना चाहिए | कभी कभार हम ego के वशीभूत व्यर्थ की बहस करके सम्बन्धो में दरार डाल लेते है|और ”हम बहस में जीतकर सम्बन्धो को हार जाते है”|
  • अतः अनावश्यक बहस न करे|किसी को नीचा न दिखाए|कभी भी झूठा वादा न करे|झूठे वादे से अच्छा है सकारात्मक भाव से साफ़ इंकार कर देना|हाँ व्यक्ति उचित हो ,और आप निभा सको तो भविष्य के लिए ,विचारात्मक बात कहे  कुछ इस तरह ”मै भविष्य में यह काम कर सकता हूँ ,अब मै इस काम का वादा किसी और से कर चुका हूँ ”|स्पस्ट मानसिकता रखे |और विचार भी|

 

महत्वपूर्ण

धैर्य बनाये रखे | अधिकांश मामलो में परिस्थितियां बदलती रहती है | यदि बात महत्वपूर्ण हो तो व्यक्ति को नजर अन्दाज करे | और यदि व्यक्ति महत्वपूर्ण है,तो उसकी बात को ignore करे | कभी-कभार न जाने अगला व्यक्ति किस परेशानी या मुंड में कोई व्यर्थ बात कह दी हो | यदि दोनों ही महत्वपूर्ण नहीं है (बात और व्यक्ति ) तो फिर दूरी बनाना और भूल जाना सबसे उचित है |

हमेशा कृतज्ञ बने रहे किसी के किये हुए उपकार को भूलना नहीं चाहिए|तथा स्वयं हमेशा ”नेकी कर दरिया में डाल” उक्ति को चरितार्थ करे|यदि इन्हें कोई अपनाता है|तो व्यक्ति महत्वपूर्ण भी बनेगा साथ ही जीवन पथ पर सफल होगा|लोगो से प्रेम और सम्मान मिलेगा|

 

महत्वपूर्ण

यह भी पढ़े  इस तरीके से प्रचार करोगे तो कामयाबी चूमेगी आपके क़दम, जानिए कैसे?


To be important, or to spend time in unimportant discussion.                       Think your

Where are we today, and where are we in the next few months or years? What will be our standard of living? This has to be decided by our current thinking, our habits about some people and others, and our relationship with other people. But we know after the result.

We are important or will be important in the future. It gives our present thoughts and habit in the present. It should be understood only. If we spend time in unimportant discussions, then we may be lagging behind in the race for time. Will go.

If we want to be important, and to make a good standard of living from our “current standard of living”, then we have to adopt some very important norms compulsory. Because if we do not understand the importance of ‘time’ then time will definitely make us insignificant in the eyes of people. Therefore, these things should be adopted in our habits or our behavior.

यह भी पढ़े    वैचारिक जहर से बचो विकास करो|

 

In the daily routine we should start the morning by thanking God first and after morning meditation or yoga or morning walk we should do the tasks according to the list of all the necessary tasks of the day already written. After this, in the day We should try to meet anyone in the discussion, that we should meet the successful people. And at the same time, we should use mostly positive words in the discussion. Switch to it, or about others |

यह भी पढ़े  अमीरों के रास्ते

There should be a sense of tolerance in relationships. Sometimes we create a rift in the relationship by arguing in vain under the influence of ego. And we win the debate and lose the relationship. So don’t argue unnecessarily. Never let anyone down. Never Do not make a false promise. It is better to have a false promise than to refuse a positive expression. Yes, the person is right, and if you are able to fulfill, for the future, say something thoughtful. ” I can, now I have promised this work to someone else.

Be patient. Circumstances change in most cases. If the thing is important, ignore the person. And if the person is important, then ignore it. Sometimes do not know what trouble or glitch the next person has. You have said it. If both are not important (matter and person) then it is most appropriate to make a distance and forget it.

Always remain ungrateful, do not forget the benevolence done by someone. And always, always do “righteousness and put it in the river” to reflect the dictation. If one adopts them, then the person will become important as well as succeed on the life path. People will get love and respect.

यह भी पढ़े  इस तरीके से प्रचार करोगे तो कामयाबी चूमेगी आपके क़दम, जानिए कैसे?

30 thoughts on “जानिए,आप महत्वपूर्ण बन रहे है,अथवा महत्वहीन |”

  1. डा. बेहतरीन विचार बहुत ही आगे की सोच डा. मै तेरे विचारों से 100/. सहमत हू धन्यवाद

    Reply

Leave a Comment

%d bloggers like this: