diligence यानि परिश्रम ही सफलता की कुंजी है | जानिए कैसे ?

diligence यानि परिश्रम परिचय-

diligence यानि परिश्रम ही वह सुनहरी कुंजी है जो भाग्य के बंद कपाट खोल देती है । परिश्रम ही जीवन की सफलता का रहस्य है । मानव जीवन में diligence यानि परिश्रम की महिमा असीम है । यही राजा को रंक और दुर्बल को सबल बना देती है । परिश्रमी व्यक्ति अपना भाग्य-विधाता और समाज का निर्माता होता है । आचार्य विनोबा भावे के शब्दों में ”परिश्रम हमारा देवता है, जो हमें अमूल्य वरदानों से सम्पन्न बनाता है। परिश्रम ही उज्जवल भविष्य का निर्माण करता है।” परिश्रम धरती पर मानव जीवन का आधार है।

diligence यानि परिश्रम

श्रम अथवा diligence यानि परिश्रम क्या है ?

diligence यानि परिश्रम का अर्थ है ,’श्रम’ अथवा ‘मेहनत’ । diligence यानि परिश्रम वह माध्यम है,जो मनुष्य को मनोरथ की मंजिल तक पंहुचाता है । श्रम के मुख्य दो भेद होते हैं- मानसिक श्रम और शारीरिक श्रममनन, चिंतन, अध्ययन मानसिक श्रम हैशरीर के द्वारा किये जाने वाले श्रम अथवा मेहनत  को शारीरिक श्रम कहते हैं । जीवन में मानसिक और शारीरिक श्रम दोनों का अपना अपना महत्व है ।

दोनों के संतुलन में ही diligence यानि परिश्रम की पूर्णता निहित है। अकेला मानसिक श्रम अपूर्ण है तो शारीरिक श्रम भी मानसिक श्रम के अभाव में अपूर्ण रह जाता है।किसी भी क्षेत्र में परिपूर्ण सफलता भी अर्जित दोनों के संतुलन में ही निहित है। संसार में जो कुछ भी ऐश्वर्य, संपदाएं, वैभव और उत्तम पदार्थ हैं, वे सब श्रम की ही देन हैं। श्रम में वह आकर्षण है कि विभिन्न पदार्थ व संपदाएं उसके पीछे खिंची चली आती हैं। जिस देश के लोग परिश्रमी होते हैं, वह राष्ट्र उतनी अधिक उन्नति करता है। चीन, जापान, अमेरिका आदि इसके उदाहरण हैं

diligence यानि परिश्रम

 सफलता के लिए diligence यानि परिश्रम जरुरी है

श्रम मानव को प्रकृति प्रदत्त सर्वोपरी संपत्ति है। जहां श्रम की पूजा होगी, वहां कोई भी कमी नहीं रहेगी। यह (प्रकृति) भी हमें परिश्रम करने की प्रेरणा देती है । चींटियाँ और मधुमखियाँ प्रकृति की प्रेरणा स्त्रोत हैं | तथा निरंतर श्रम करने वाले श्रेष्ठ उदाहरण भी है | संसार में जो कुछ भी ऐश्वर्य, संपदाएं, वैभव और उत्तम पदार्थ हैं, वे सब श्रम की ही देन हैं |इसलिए किसी भी क्षेत्र में परिपूर्ण सफलता अर्जित करने के लिए जीवन में श्रम को स्थान दें। और श्रम को ही जीवन-मंत्र बनाएं। क्योंकि श्रम ही जीवन की सफलता का रहस्य है और यही वह सुनहरी कुंजी है जो भाग्य के बंद कपाट भी खोल देती है |

धार्मिक कहानियाँ social media बड़ी सोच motivational success story

महाभारत की सम्पूर्ण कथा! Complete Mahabharata Story In Hindi

Quora क्या है और इसका इस्तेमाल कैसे करें? हिंदी जानकारी

friend अच्छा मित्र कौन ? जानिए विस्तार से |

best Motivational Quote of all time प्रेरणादायक विचार

champion के निर्णय कुछ ऐसे होते है | जो उसे success बनाते है |

श्रीरामचरितमानस बालकाण्ड भावार्थ सहित पढ़े |

blood donate रक्तदान महादान या सबसे बड़ा दान है | जानिए कैसे ?

कैसे बने champion ( चैम्पियन ) दौलत के खेल में

friendship क्यो जरूरी ? जानिए विस्तार पूर्वक |

success define सफलता की परिभाषा जानिए ?

सम्पूर्ण Durga Saptashati

Google search engine क्या है ? जानिए विस्तार पूर्वक

इस तरीके से प्रचार promotion करोगे तो कामयाबी चूमेगी आपके क़दम

Quality of life “आदते” आपके जीवन की quality तय करती है |

सफलता (success) की राह

माँ तुझे बार – बार सादर प्रणाम | happy mothers day

फेसबुक (Facebook) क्या है ?जानिए |

अमीरों के रास्ते

parents ही बच्चो को काबिल बनाये कैसे?

history of cricket में पहला टॉस, पहला रन और पहला शतक, किसने, कब, कहाँ बनाया था?

भगवान विष्णु के 24 अवतार कौन से हैं, जानिए | Lord Vishnu avatars

friends अधिक हो या न हो friendship मित्रता लाजवाब होनी चाहिए |

जानिए,आप महत्वपूर्ण बन रहे है,अथवा महत्वहीन |

success rules सफलता आन्तरिक नियमो से मिलती है |

decision making निर्णय लेने की क्षमता के अद्भभुद फायदें |

भगवान विष्णु का वाहन गरुड़ कौन था, जानिए रहस्य

blood donation camp लोगो को नया जीवन दान देते है | कैसे ?

वैचारिक जहर से बचो विकास करो|

habits of successful people. आदते आपका भविष्य तय करती है |

business standard को सफल बनाने के 10 Golden tips

कैसे हुआ जन्म और मृत्यु से परे भगवान शिव का अवतरण

26 November विश्व पर्यावरण संरक्षण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं |

सौभाग्यशाली कैसे बने ?

असफलता से बचने के Five point.

success formula आपको पहुंचाएगा सफलता के शिखर पर |

diligence यानि परिश्रम करो और इससे बचो

आलस्य मनुष्य का बहुत बड़ा शत्रु है ।इससे बचना चाहिए या त्याग करना चाहिए | आलसी मनुष्य को दुखद परिस्थितियों में गिरने के लिए बाध्य होना पड़ेगा। किसी दार्शनिक ने कहा है, ‘श्रम ही जीवन है।’ अकर्मण्यता,की वजह से व्यक्ति को विभिन्न पदार्थो की उपलब्धियों और वरदानों से वंचित रहना होता है, जिससे उसे अभाव, असहनीयता, दीनता के विषमय घूंट पीने के लिए बाध्य होना पड़ेगा।इन परिस्थितियों में अपमानित, लाचार, परतंत्र जीवन, मृत जीवन से भी बुरा होता है।अतः आलस्य और अकर्मण्यता से बचो |जीवन में श्रम का विशेष महत्व है |

diligence यानि परिश्रम

diligence यानि परिश्रम

अतः जीवन पथ पर सफलता प्राप्ति के लिए श्रम अथवा diligence यानि परिश्रम करना जितना जरुरी है, उतना ही अकर्मण्यता और आलस्य का त्याग करना भी जरुरी है |साथ ही छोटी सोच को त्यागना और बड़ी सोच को अपनाना भी अत्यंत जरुरी है |अनेक महापुरुषों ने इसके महत्व पर प्रकाश डाला है | work is worship  तथा ‘श्रममेव जयते’ सफलता के मूलमंत्र भी दिये है |जिन्हें अपनाना सभी के लिए उत्तम है |

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के लिए  हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

यह भी पढ़े –

 सफल बिंदु

success (सफलता) का महत्वपूर्ण बिंदु।

सफलता (success) की राह


 

18 thoughts on “diligence यानि परिश्रम ही सफलता की कुंजी है | जानिए कैसे ?”

Leave a Comment

%d bloggers like this: